भारत

मोबाइल! बच्चों को लेकर बड़ा खुलासा, जानकर हो जाएंगे हैरान

jantaserishta.com
12 Jun 2022 3:03 AM GMT
मोबाइल! बच्चों को लेकर बड़ा खुलासा, जानकर हो जाएंगे हैरान
x

न्यूज़ क्रेडिट: हिंदुस्तान

लखनऊ: मोबाइल बच्चों को मानसिक रूप से बीमार बना रहा है। मोबाइल देखने की लत के आगे बच्चे झूठ तक बोलने से गुरेज नहीं कर रहे हैं। ऐसे एक दो नहीं बल्कि 70 फीसदी बच्चे मोबाइल देखने को लेकर झूठ बोल रहे हैं। जबकि 30 फीसदी बच्चे तनाव को खत्म करने व मनोरंजन आदि के लिए मोबाइल का अधिक इस्तेमाल करते हैं। जो कि एक से दो घंटे के लिए होता है। यह खुलासा केजीएमयू मानसिक स्वास्थ्य विभाग के सर्वे में हुआ है।

आठ माह के दौरान मानसिक स्वास्थ्य विभाग की ओपीडी में आने 200 मरीजों पर सर्वे किया। इसमें 10 से 16 साल के बच्चों को शामिल किया गया। 60 लड़कियां व 140 लड़के थे। विभाग के डॉ. आर्दश त्रिपाठी बताते हैं कि 70 फीसदी बच्चे पढ़ाई के नाम पर का अधाधुंध इस्तेमाल करते हैं। लगातार चार से पांच घंटे मोबाइल देखते हैं। कुछ बच्चे गेम के शौकीन होते हैं तो कुछ सोशल साइट के। कुछ बच्चों को वॉट्सएप चलाने की लत होती है। पांच से सात फीसदी बच्चों में वेबसीरिज देखने का नशा बढ़ा है। ये बच्चे रात में वेबसीरिज देखने का सबसे बेहतर समय मानते हैं।
काउंसिलिंग के दौरान बच्चों ने कुबूल किया कि अकेले में मोबाइल गेम खेलने व सोशल साइट देखना ज्यादा पसंद है। डॉ. आर्दश के मुताबिक अकेले में बच्चों को रोकने-टोकने वाला नहीं होता। निगरानी भी कोई नहीं करता है। कुछ बच्चों ने तो बाथरूम में मोबाइल देखने की बात स्वीकार की। 70 फीसदी में 35 प्रतिशत बच्चे रात में परिवारीजनों के सोने के बाद मोबाइल चलाते हैं। बाकी 35 फीसदी के मोबाइल देखने का कोई समय तय नहीं होता। इनका मन हमेशा मोबाइल में ही लगा रहता है। इनमें अधिकांश गेम के शौकीन होते हैं।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta