भारत

लखीमपुर खीरी हिंसा: आरोपित मंत्री के बेटे आशीष और उसके दोस्त को लेकर घटनास्थल पहुंचे थे SIT

Kunti
14 Oct 2021 5:52 PM GMT
लखीमपुर खीरी हिंसा: आरोपित मंत्री के बेटे आशीष और उसके दोस्त को लेकर घटनास्थल पहुंचे थे SIT
x
लखीमपुर खीरी में उपद्रव के बाद हिंसा में चार किसानों सहित आठ लोगों की मौत के प्रकरण के मुख्य आरोपित केन्द्रीय मंत्री के पुत्र आशीष मिश्रा मोनू को तीन दिन की रिमांड पर लेने वाली एसआइटी अब सख्ती कर रही है।

लखनऊ, लखीमपुर खीरी में उपद्रव के बाद हिंसा में चार किसानों सहित आठ लोगों की मौत के प्रकरण के मुख्य आरोपित केन्द्रीय मंत्री के पुत्र आशीष मिश्रा मोनू को तीन दिन की रिमांड पर लेने वाली एसआइटी अब सख्ती कर रही है। इस केस के मुख्य आरोपित आशीष मिश्रा मोनू सहित सात लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

एसआईटी की टीम लखीमपुर खीरी की हिंसा मामले में आरोपियों को घटनास्थल पर लेकर पहुंची। टीम यहां पर पड़ताल कर रही है। एसआईटी ने घटना का री क्रिएशन कराया। एसआईटी घटनास्थल पर मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा मोनू के साथ अंकित दास, मोहम्मद लतीफ उर्फ कालेज और शेखर भारती को लेकर पहुंची। इस दौरान बड़े अधिकारी भी मौजूद थे। एसआईटी ने लखीमपुर खीरी हिंसा का रीक्रिएशन कराया। इसकी मदद से एसआईटी घटना से जुड़े हर पहलुओं को जानने की कोशिश में लगी है। इससे पहले आज हिंसा के इस मामले को लेकर एसआईटी ने सभी आरोपियों से आमने-सामने करीब एक घंटा पूछताछ की।
लखीमपुर खीरी हिंसा की जांच कर रही एसआइटी ने केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के पुत्र आशीष मिश्रा को तीन दिन की रिमांड पर लिया है। उसकी रिमांड का आज अंतिम दिन है। एसआइटी को बुधवार को अंकित दास की तीन दिन की रिमांड मिली है। एसआइटी की टीम ने गुरुवार सुबह मुख्य आरोपित आशीष मिश्रा मोनू का अन्य तीन आरोपितों से सामना कराया। इसके बाद टीम एसआइटी सभी को लेकर एसआईटी इस घटना से जुड़े सभी चारों आरोपियों को लेकर वारदात का रीक्रिएशन कराने निकली।
लखीमपुर के पुलिस लाइन में बने क्राइम ब्रांच के दफ्तर से एसआईटी इस घटना के मुख्य आरोपित केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री आशीष मिश्र मोनू, लखनऊ के कांट्रैक्टर अंकित दास, अंकित के ड्राइवर शेखर भारती और गनर लतीफ उर्फ काले को लेकर वारदात वाली जगह पर निकल गई। एसआइटी का जांच में फोकस अब इस बात पर है कि वारदात के दिन कैसे कैसे क्या क्या हुआ। शुरुआत कहां से हुई और वारदात का खात्मा कहां पर हुआ। यह सब पता करने के लिए एसआईटी के मुखिया डीआईजी उपेंद्र अग्रवाल, बाराबंकी पीएसी के सेनानायक आईपीएस सुनील कुमार सिंह सीओ संजय नाथ तिवारी अपर पुलिस अधीक्षक अरुण कुमार सिंह समेत पुलिस का भारी लाव लश्कर घटनास्थल की ओर रवाना हो गया।
एसआइटी टीम इन सब लेकर बनवीर पुर गांव में दंगल वाले उस जगह पर भी लेकर जाएगी, जहां पर इस घटना का मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा अपने आपको आखिर तक मौजूद बताता रहा है। इस दौरान चारों आरोपियों से एक साथ व अलग-अलग घटना से जुड़े सभी सवाल पूछे जाएंगे। इससे पहले गुरुवार की सुबह ठीक दस बजे कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच लखीमपुर कांड के मुख्य आरोपी कांटेक्टर अंकित दास उनके ड्राइवर शेखर भारती और गनर लखीमपुर काले को जिला कारागार से निकालकर क्राइम ब्रांच लाया गया। जहां मामूली पूछताछ करने के बाद उनका सामना आशीष मिश्र मोनू से भी कराया गया। इसके कुछ ही देर बाद इन सब को लेकर एसआईटी तिकुनिया की ओर रवाना हो गई, जहां पर इस वारदात को अंजाम दिया गया।


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it