Top
भारत

कांग्रेस की बढ़ी मुश्किलें... पंजाब में कलह थमी नहीं, राजस्थान में भी बगावत के असर

Kunti
10 Jun 2021 6:02 PM GMT
कांग्रेस की बढ़ी मुश्किलें... पंजाब में कलह थमी नहीं, राजस्थान में भी बगावत के असर
x
कांग्रेस की बढ़ी मुश्किलें

कांग्रेस पार्टी की मुश्किलें खत्म होने का नाम नहीं ले रही हैं। अभी पंजाब में पार्टी की कलह खत्म नहीं हुई कि राजस्थान में भी बगावत की बू आने लगी है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पिछले साल की तरह एक बार फिर बगावत का सामना करना पड़ सकता है। इस तरह की अटकलें इसलिए लगाई जा रही हैं क्योंकि, पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के समर्थक विधायकों ने उनके द्वारा उठाये गए मुद्दों के समाधान पर देरी को लेकर नाराजगी जाहिर की है। पायलट के करीबी करीब आधा दर्जन विधायकों ने गुरुवार को सिविल लाइन्स स्थित उनके निवास पर उनसे मुलाकात की।

सूत्रों के अनुसार इससे पूर्व दिन में पूर्व मंत्री विश्वेन्द्र सिंह की पायलट से मुलाकात के बाद विधायक वेद प्रकाश सोलंकी, मुकेश भाकर और रामनिवास गवारिया पायलट से मिले। विधायक राकेश पारीक भी पायलट के निवास पर पहुंचे। चाकसू (जयपुर) से विधायक सोलंकी ने कहा कि ''हम सब अपनी आवाज पार्टी की मजबूती के लिए उठा रहे है। जो पार्टी के प्रति हमारी निष्ठा पर सवाल उठाते हैं, वे पार्टी के शुभचिंतक नहीं है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस आलाकमान को पायलट को सुनना चाहिए और पंजाब की तर्ज पर मामले का समाधान करना चाहिए।''
उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा, ''पंजाब में (नवजोत) सिद्धू की सुनवाई 10 दिन के अंदर हो गई लेकिन राजस्थान में 10 महीने के बाद भी सचिन पायलट द्वारा उठाए गए मुद्दो का समाधान नहीं हुआ। जब पंजाब में सिद्धू को 10 दिन में सुना जा सकता है.. पायलट को क्यों नहीं?'' पायलट के साथ मुलाकात के बाद संवाददाताओं से बातचीत में सोलंकी ने कहा, ''हमारे द्वारा उठाई गई मांगों पर कोई चर्चा या सुनवाई नहीं हुई है। यदि मुख्यमंत्री पायलट खेमे के लोगों की बात पर विचार नहीं करना चाहते तो उन्हें अपने पक्ष के लोगो को राजनीतिक नियुक्तियां देनी चाहिए।'' उन्होंने कहा कि कम से कम राजनीतिक नियुक्तियां तो होनी चाहिए। कार्यकर्ता निराश हैं और उन्हें सुना जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल का विस्तार भी होना चाहिए।
भाकर ने कहा कि राज्य में जिन लोगों ने कांग्रेस को सत्ता में लाने के लिए पांच साल मेहनत की है, उन्हें उनका हक दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, ''हमारा संघर्ष चल रहा है। पायलट अपने लिए नहीं बल्कि उन कार्यकर्ताओं और नेताओं के लिए कुछ मांग रहे है जिन्होंने पांच साल तक संघर्ष किया। जब पंजाब के असंतुष्ट नेताओं को सुना जा सकता है तो पायलट को क्यों नहीं? पायलट ने पार्टी के लिये संघर्ष किया ओर उनकी बात सुनी जानी चाहिए।''
इस बीच राजेश पायलट की पुण्यतिथि पर 11 जून को भंडाना, दौसा में हर साल होने वाले पुष्पांजलि कार्यक्रम को इस बार कोरोना प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए सीमित रखने का फैसला किया गया है। बांदीकुई से विधायक गजराज खटाणा ने लोगों को उनके संबद्ध स्थानों से ही दिवंगत नेता पायलट को श्रदांजलि अर्पित करने को कहा है। भंडाना के कार्यक्रम में सचिन पायलट के शामिल होने की पुष्टि नहीं हुई है। कांग्रेस बढ़ती महंगाई के खिलाफ कल देशव्यापी आंदोलन कर रही है। पार्टी सूत्रों के अनुसार पायलट जयपुर में इस कार्यक्रम में भाग ले सकते हैं हालांकि अभी इस तरह का कार्यक्रम जारी नहीं किया गया है।

Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it