भारत

108 फिट शंकराचार्य की ऊंची प्रतिमा यहां लगेगी, सीएम ने किया ऐलान

jantaserishta.com
6 Nov 2021 2:24 AM GMT
108 फिट शंकराचार्य की ऊंची प्रतिमा यहां लगेगी, सीएम ने किया ऐलान
x
पढ़े पूरी खबर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को केदारनाथ में आदि शंकराचार्य की प्रतिमा का अनावरण किया. उधर पीएम मोदी केदारनाथ में शंकराचार्य की प्रतिमा का अनावरण कर रहे थे तो वहीं दूसरी तरफ मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी शंकराचार्य को लेकर बड़ा ऐलान कर दिया. शिवराज सिंह चौहान ने ओंकारेश्वर में 108 फीट ऊंची आदि शंकराचार्य की प्रतिमा बनवाने का ऐलान किया है.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नर्मदा सेवा यात्रा के दौरान फरवरी 2017 में ओंकारेश्वर में तीन संकल्प लिए थे. इनमे से एक संकल्प था मंधाता पर्वत पर 108 फीट ऊंची आदि शंकराचार्य की मूर्ति (एकात्मता की प्रतिमा) का निर्माण करवाना. आदि शंकराचार्य की 108 फीट की मूर्ति स्टैच्यू ऑफ वननेस (एकात्मता की मूर्ति) के लिए टर्नर कंस्ट्रक्शन के साथ अनुबंध किया गया है. इस कंपनी ने स्टैच्यू ऑफ यूनिटी और बुर्ज खलीफा जैसी इमारतों के निर्माण में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है.
कैसी होगी आदि शंकराचार्य की प्रतिमा
मध्य प्रदेश के ओंकारेश्वर में बनने जा रही आदि शंकराचार्य की प्रतिमा 108 फीट ऊंची होगी. प्रतिमा को कमल के फूल के आकार के करीब 27 फीट ऊंचे बेस पर खड़ा किया जाएगा. यह प्रतिमा अष्ट धातु से बनाई जाएगी. प्रतिमा के नीचे का स्थान मेडिटेशन सेंटर के तौर पर इस्तेमाल किया जाएगा जिसका नाम 'शंकर निधि ध्यानासन केंद्र' होगा. जिन धातुओं का प्रतिमा के निर्माण में इस्तेमाल किया जाएगा, उन्हें जमा करने के लिए करीब 30 हजार गांवों में एकात्म यात्रा निकाली जाएगी.
शंकराचार्य ने ओंकारेश्वर में लिया था संन्यास
बता दें कि केदारनाथ में जहां आदि शंकराचार्य ने समाधि ली थी तो वहीं मध्य प्रदेश के ओंकारेश्वर में ही उन्होंने संन्यास धारण किया था. भगवान आदि शंकराचार्य को ओंकारेश्वर में उनके गुरु गोविंद भगवत्पाद ने संन्यास की दीक्षा दी थी. ओंकारेश्वर में ही आदि शंकराचार्य, शंकर से शंकर भगवत्पाद कहलाए थे. आदि शंकरचार्य को गुरु गोविंद ने ओंकार में प्रेरित किया कि आप अद्वैत वेदांत दर्शन के माध्यम से पूरे भारत का आध्यात्मिक पुनर्जागरण करें.
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta