भारत

राज्यसभा के पहले हफ्ते के बजट सत्र में 100 प्रतिशत हुआ कामकाज, मंगलवार को पीएम मोदी दे सकते हैं बयान

Chandravati Verma
5 Feb 2022 3:58 PM GMT
राज्यसभा के पहले हफ्ते के बजट सत्र में 100 प्रतिशत हुआ कामकाज, मंगलवार को पीएम मोदी दे सकते हैं बयान
x
बजट सत्र के पहले हफ्ते में राज्यसभा ने उपलब्ध समय का पूरा इस्तेमाल किया। इस हफ्ते एक बार भी कार्यवाही स्थगित नहीं करनी पड़ी और सदन की उत्पादकता 100 प्रतिशत रही।

नई दिल्ली। बजट सत्र के पहले हफ्ते में राज्यसभा ने उपलब्ध समय का पूरा इस्तेमाल किया। इस हफ्ते एक बार भी कार्यवाही स्थगित नहीं करनी पड़ी और सदन की उत्पादकता 100 प्रतिशत रही। सभापति और देश के उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने सदन में सुचारू कामकाज के लिए सदस्यों की सराहना की। उन्होंने बाकी बजट सत्र और भविष्य में भी यही भावना बनाए रखने का अनुरोध किया।

पहले हफ्ते संसद के संयुक्त अधिवेशन में राष्ट्रपति के अभिभाषण और बजट प्रस्तुतीकरण के बाद राज्यसभा ने राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर सात घंटे 41 मिनट चर्चा की जिसमें 26 सदस्यों ने हिस्सा लिया। उच्च सदन में धन्यवाद प्रस्ताव पर कुल 12 घंटे चर्चा होनी है जिसमें प्रधानमंत्री का जवाब शामिल है। वह मंगलवार को चर्चा का जवाब दे सकते हैं, जबकि लोकसभा में प्रधानमंत्री सोमवार को प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देंगे। केंद्रीय बजट पर राज्यसभा में 11 घंटे चर्चा होनी है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आगामी शुक्रवार को बजट पर चर्चा का जवाब दे सकती हैं। बजट पर चर्चा पूरी करने के लिए आगामी शुक्रवार को गैर-सरकारी कामकाज को कार्यसूची से हटा दिया गया है।

शून्यकाल के दौरान 31 सवालों के जवाब दिए गए
राज्यसभा सचिवालय के मुताबिक, पहले हफ्ते में प्रश्नकाल के तीन दिनों के दौरान 25 तारांकित प्रश्नों के मौखिक जवाब दिए गए। जबकि शून्यकाल के दौरान 31 सवालों के जवाब दिए गए और 14 का विशेष उल्लेख किया गया। इस हफ्ते 15 गैर-सरकारी विधेयक पेश किए गए। सदन में दो लंबित विधेयकों पर चर्चा भी हुई। चर्चा पूरी होने के बाद भाजपा सदस्य विनय सहस्त्रबुद्धे ने सदन की अनुमति से कंपनीज (संशोधन) विधेयक, 2019 को वापस ले लिया। भाजपा सदस्य राकेश सिन्हा द्वारा पेश जनसंख्या नियमन विधेयक, 2019 पर चर्चा अभी पूरी होनी है।
पिछले साल राज्यसभा में 93.50 प्रतिशत रही उत्पादकता
मालूम हो कि लगभग एक साल बाद राज्यसभा में लगातार तीन दिनों तक बिना स्थगन के कामकाज हुआ है। इससे पहले पिछले साल बजट सत्र के दौरान 15 से 17 मार्च तक सदन ने बिना व्यवधान कामकाज किया था। वर्ष 2014 से 2017 तक लगातार चार बजट सत्रों में राज्यसभा की उत्पादकता 100 प्रतिशत रही थी। 2018 में यह 28.90 प्रतिशत और 2019 (अंतरिम बजट सत्र) में 6.80 प्रतिशत रही थी। 2020 के बजट सत्र में यह 76.10 प्रतिशत और पिछले साल 93.50 प्रतिशत रही।
मंगलवार को राज्यसभा में उपस्थिति के लिए भाजपा ने जारी किया व्हिप
भाजपा ने अपने सभी राज्यसभा सदस्यों की आठ फरवरी (मंगलवार) को सदन में उपस्थिति सुनिश्चित करने के लिए तीन लाइन का एक व्हिप जारी किया है। इसमें कहा गया है कि मंगलवार को सदन में किसी बेहद अहम विधेयक पर चर्चा की जानी है और उसे पारित कराया जाना है।
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta