पश्चिम बंगाल

तृणमूल कांग्रेस का आज स्थापना दिवस, सीएम ममता बनर्जी का संघीय ढांचे को मजबूत करने का संकल्प

Kunti
1 Jan 2022 8:53 AM GMT
तृणमूल कांग्रेस का आज स्थापना दिवस, सीएम ममता बनर्जी का संघीय ढांचे को मजबूत करने का संकल्प
x
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) ने तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) के स्थापना दिवस (Foundation Day) के अवसर पर पार्टी कार्यकर्ताओं को शनिवार को बधाई दी.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) ने तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) के स्थापना दिवस (Foundation Day) के अवसर पर पार्टी कार्यकर्ताओं को शनिवार को बधाई दी और देश के संघीय ढांचे (Federal Structure) को मजबूत करने का संकल्प लिया. बनर्जी ने कांग्रेस छोड़कर एक जनवरी, 1998 को तृणमूल कांग्रेस का गठन किया था.

उन्होंने ट्वीट किया कि तृणमूल कांग्रेस के स्थापना दिवस पर मैं हमारे सभी कार्यकर्ताओं, समर्थकों और मां-माटी-मानुष परिवार के सदस्यों को शुभकामनाएं देती हूं. हमारी यात्रा एक जनवरी, 1998 को आरंभ हुई थी और हम तभी से लोगों की सेवा करने और उनका कल्याण सुनिश्चित के अपने प्रयासों के प्रति प्रतिबद्ध रहे हैं.
2011 में सत्ता में आई थी TMC
बनर्जी के नेतृत्व में तृणमूल ने 2021 विधानसभा चुनाव में शानदार जीत हासिल की थी और वह लगातार तीसरी बार मुख्यमंत्री बनीं. उन्होंने ट्वीट किया कि हम नव वर्ष में प्रवेश कर रहे हैं, तो आइए, ऐसे में हर प्रकार के अन्याय के खिलाफ एकजुट होने का संकल्प लें. एक दूसरे के साथ दयालुता और सम्मान के साथ व्यवहार करें. मैं आपके आशीर्वाद के लिए आपको धन्यवाद देती हूं. तृणमूल ने 2001 और 2006 में दो बार विधानसभा चुनाव लड़ा था, लेकिन वह सफल नहीं हुई. इसके बाद उसने 2011 में शक्तिशाली वाम मोर्चा को हराकर जीत हासिल की.
कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच सरकार सख्त
वहीं कोरोना के मामलों में तेज बढ़ोतरी के बीच पश्चिम बंगाल के स्कूल शिक्षा विभाग ने शिक्षकों और गैर-शिक्षण कर्मचारियों को खांसी, सर्दी या हल्का बुखार होने पर स्कूलों में नहीं आने और जांच कराने के लिए कहा है. राज्य में लगभग छह महीने के अंतराल के बाद बुधवार को कोविड-19 के 1,000 से अधिक नए मामले आए. वहीं, गुरुवार को दैनिक मामलों की संख्या 2,000 को पार कर गई.
एक अधिकारी ने शुक्रवार को बताया कि प्राथमिक, माध्यमिक और उच्च माध्यमिक विद्यालयों को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है कि शिक्षक और गैर-शिक्षण कर्मचारी सर्दी, खांसी या हल्का बुखार होने पर संस्थानों में न आएं. उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों को कोरोना की जांच करानी चाहिए और निगेटिव रिपोर्ट आने पर ही स्कूल आने की अनुमति दी जाएगी. उन्हें स्वास्थ्य विभाग को रिपोर्ट देनी होगी. शिक्षा मंत्री ब्रत्य बसु ने पहले कहा था कि कक्षा 9-12 के लिए प्रत्यक्ष कक्षाएं 16 नवंबर को फिर से शुरू हो गई हैं, वहीं राज्य सरकार अगले साल से चरणबद्ध तरीके से निचली कक्षाओं को प्रत्यक्ष तरीके से फिर से शुरू करने पर विचार कर रही है.


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it