पश्चिम बंगाल

बंगाल में 'जवाद' का कहर, बारिश से धान की फसल को हुआ नुकसान

Gulabi
6 Dec 2021 9:54 AM GMT
बंगाल में जवाद का कहर, बारिश से धान की फसल को हुआ नुकसान
x
चक्रवाती तूफान ‘जवाद’ से पश्चिम बंगाल में हो रही लगातार बारिश से फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है
चक्रवाती तूफान 'जवाद' (Cyclone Jawad) से पश्चिम बंगाल (West Bengal Weather) में हो रही लगातार बारिश से फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है. चक्रवाती तूफान के कारण रविवार रात से ही पश्चिम बंगाल के कई इलाके में भारी बारिश हो रही है. खास कर पश्चिम बंगाल के तटवर्ती जिले पूर्व मेदिनीपुर-पश्चिम मेदिनीपुर, हुगली और दक्षिण 24 परगना के इलाकों में खड़ी फसलों का भारी नुकसान हुआ है. बोरो धान, अमन धान (Paddy) के साथ-साथ आलू की फसल (Potato) को काफी क्षति होने की आशंका है.
पूर्वी मिदनापुर जिले के महीशगोट, बुराड़ी, रामचंद्रपुर, हर्षशंकर, सपुआ जमफुली समेत कई इलाकों में अमन धान के खेत दो दिन बारिश से क्षतिग्रस्त हो गए हैं. हालांकि कुछ धान के पौधे खड़े हैं, ज्यादातर पौधे जमीन पर पड़े हैं और कई धान के खेतों में पानी जमा हो गया है. इससे खेत का धान खेत में गिरकर बर्बाद हो रहा है.
बारिश से धान की फसल को हुआ नुकसान



पके अमन धान के खेत ही नहीं, कई किसानों ने बोरो धान की खेती के लिए शुरुआती सर्दियों में रोपाई बनाने के उद्देश्य से बीज बोए थे,लेकिन बीज की क्यारी भी पानी के नीचे है. सर्दियों की शुरुआत अमन धान की कटाई करके घर लाने का समय होता है. जैसे इस सर्दी की शुरुआत बोरो की खेती के लिए विशिष्ट समय है. बारिश और खेत में जमे बारिश के पानी के कारण खेती को लेकर चिंतित हैं. इस संबंध में सह-कृषि अधिकारी, प्रशासक (फसल संरक्षण) डॉ. मृणाल कांति बेरा ने कहा कि पिछले दो दिनों में जिले में औसतन 36.5 मिमी बारिश हुई है, जिससे धान और सब्जियों को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है. हर प्रखंड के कृषि अधिकारियों को खेत में जाकर नुकसान की मात्रा का जायजा लेने को कहा गया है. बाद में वह रिपोर्ट पूर्वी मिदनापुर के जिलाधिकारी को सौंपी जाएगी. कृषि अधिकारी ने सलाह दी कि नई बुवाई और सब्जी की खेती पर दबाव के रूप में उर्वरक या यूरिया न दें. ऑल बंगाल फ्लावर्स एंड एग्रीकल्चर एसोसिएशन ने राज्य सरकार से प्रभावित किसानों को मुआवजा देने की अपील की है.
हुगली जिले में आलू और धान की फसल को पहुंचा नुकसान



हुगली जिले में बारिश हो रही है, जिससे धान और आलू की खेती को भारी नुकसान हुआ है. धान का मौसम समाप्त हो रहा है. कटाई के बाद, यह जमीन पर पड़ा है. किसानों को लगता है कि बारिश का पानी जमीन में जमा होने से धान बर्बाद हो सकता है. धान की कटाई के बाद हुगली में कई भूमि में आलू लगाए जाते हैं. फिर आलू की खेती उस भूमि में की जाती है जहां धान की खेती नहीं की जाती है. कुछ दिन पहले आलू लगाने वालों को अपने बीज सड़ने का खतरा पैदा हो गया है. हुगली जिले के कृषि उप निदेशक जयंत परुई ने कहा कि सोमवार को 130 मिमी बारिश हुई. जिले में अभी भी लगभग 10 प्रतिशत धान की कटाई बाकी है. आलू की खेती में अच्छे नुकसान की संभावना है. खासकर आलू लगाने वालों को आलू की खेती में नुकसान होगा. जब पूरे जिले की रिपोर्ट आएगी तो नुकसान की मात्रा और स्पष्ट होगी.
Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it