पश्चिम बंगाल

कोरोना को लेकर कलकत्ता HC वर्चुअल तरीके से करेगी सुनवाई, जिला अदालतों में भी होगी यही व्यवस्था

Kunti
1 Jan 2022 3:35 PM GMT
कोरोना को लेकर कलकत्ता HC वर्चुअल तरीके से करेगी सुनवाई, जिला अदालतों में भी होगी यही व्यवस्था
x
कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण कलकत्ता हाई कोर्ट वर्चुअल तरीके से करेगी सुनवाई।

पश्चिम बंगाल: कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण कलकत्ता हाई कोर्ट वर्चुअल तरीके से करेगी सुनवाई, जिला अदालतों में भी होगी यही व्यवस्था नोटिस में कहा गया है कि अदालत केवल जमानत मामलों के संबंध में हाइब्रिड मोड में काम करेगी जहां लोक अभियोजकों को केस डायरी के साथ शारीरिक रूप से उपस्थित होने की अनुमति होगी पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस (Corona Virus) के मामलों में तेजी के बाद अब कलकत्ता हाई कोर्ट (Calcutta High Court) और सभी जिला अदालतें वर्चुअल माध्यम से काम करेंगी. शनिवार को जारी आदेश में कहा गया है कि सोमवार से हाई कोर्ट और जिला अदालतों में वर्चुअल सुनवाई होगी. आदेश में कहा गया, "कोविड महामारी की संभावित तीसरी लहर के खतरे और कोविड प्रभावित मामलों की संख्या में खतरनाक वृद्धि को देखते हुए, कोर्ट 03.01.2022 से वर्चुअल माध्यम से सुनवाई करेगी."

नोटिस में कहा गया है कि अदालत केवल जमानत मामलों के संबंध में हाइब्रिड मोड में काम करेगी जहां लोक अभियोजकों को केस डायरी के साथ शारीरिक रूप से उपस्थित होने की अनुमति होगी. अन्य मामलों में भी इसकी अनुमति है जहां सरकार और अन्य अधिवक्ताओं को अदालत में दस्तावेज पेश करने की जरूरत होगी.दो तिहाई कर्मचारी ही आएंगे।
इसके अलावा, इसमें कहा गया, "स्टाफ की उपस्थिति रोटेशनल ट्रांसफरेबल ड्यूटी के साथ 66 प्रतिशत और दो तिहाई से अधिक नहीं होगी. गैर-आवश्यक विभागों को निलंबित किया जा सकता है और उनके कर्मचारियों का उपयोग आवश्यक विभागों में किया जाएगा."

आगे कहा गया, "स्टाफ की उपस्थिति रोटेशनल ट्रांसफरेबल ड्यूटी के साथ 66 और 2/3 प्रतिशत से अधिक नहीं होगी। गैर-आवश्यक विभागों को निलंबित किया जा सकता है और उनके कर्मचारियों का उपयोग आवश्यक विभागों में किया जाएगा. जिला आदालतों में भी यही सिस्टम लागू रहेगा." यह भी कहा कि अदालत के कर्मचारियों सहित संबंधित हितधारक पूर्ण रूप से टीकाकरण कराएं और भारत सरकार, राज्य सरकार द्वारा जारी किए गए सोशल डिस्टेंसिंग और कोविड-19 प्रोटोकॉल, दिशा-निर्देशों, निर्देशों आदि के मानदंडों का सख्ती से पालन करें.
राज्य में बढ़े मामले
पश्चिम बंगाल में इस सप्ताह की शुरुआत के बाद से ही कोरोना के मामलों में तेजी देखी गई है. शुक्रवार को 3,451 नए मामले आए. अकेले कोलकाता में ही 1,954 मामले आए, जो कुल मामलों का 56 फीसदी हैं. जबकि राज्य के ताजा संक्रमणों में 62 फीसदी की वृद्धि हुई है. पूर्वी महानगर के नए कोविड मामलों में 24 घंटों में 79 फीसदी की वृद्धि हुई.
खांसी जुकाम होने पर शिक्षकों को नहीं आना होगा स्कूल
पश्चिम बंगाल में कोरोना के मामलों को देखते हुए फैसला लिया गया है कि शिक्षकों और गैर-शिक्षण कर्मचारियों को खांसी, सर्दी या फिर हल्का बुखार होने पर स्कूल आने की जरूरत नहीं होगी. जांच के बाद जब कोरोना न होने की पुष्टि होगी तभी शिक्षक स्कूल आ सकेंगे.
Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it