उत्तराखंड

भवाली के सीओ को सोशल मीडिया पर राजनीतिक टिप्पड़ी करना पड़ा भारी, भेजा गया गोपेश्वर

Admin Delhi 1
25 Sep 2022 11:02 AM GMT
भवाली के सीओ को सोशल मीडिया पर राजनीतिक टिप्पड़ी करना पड़ा भारी, भेजा गया गोपेश्वर
x

हल्द्वानी न्यूज़: सोशल मीडिया पर राजनीतिक टिप्पड़ी करना भवाली सीओ को महंगा पड़ गया। डीजीपी के हस्तक्षेप पर उन्हें चमोली जिले के गोपेश्वर भेजा गया है साथ ही इस टिप्पड़ी का स्पष्टीकरण भी मांगा है। बता दें कि कुछ दिन पहले भवाली के सीओ प्रमोद शाह ने कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के समर्थन में फेसबुक पर फोटो के साथ भीड़ दिखाते हुए बयानबाजी वाली पोस्ट की थी। जिसमें सीओ कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा का सर्मथन करते दिख रहे थे। इस पोस्ट पर लोगों ने कई तरह की टिप्पणी भी की। इस पोस्ट से कुछ भाजपाई उग्र हो गए। इसलिए यह मामला पुलिस महानिरीक्षण अशोक कुमार तक पहुंच गया। हालांकि यह पोस्ट उनकी फेसबुक वाल पर अब नजर नहीं आ रही है। यानी उनके पोष्ट को हटा दिया गया है। इस पोस्ट को अनुशासनहीनता मानते हुए सीओ प्रमोद शाह को भवाली से हटाकर चमोली जिले के गोपेश्वर भेज दिया गया है। साथ ही स्पष्टीकरण भी मांगा गया है। एसएसपी पंकज भट्ट ने बताया कि सीओ को मुख्यालय स्तर से ही चमोली जिले में भेजा गया है। एक सप्ताह पहले वह जिले से जा चुके हैं। सीओ प्रमोद शाह पढऩे लिखने में अधिक रुचि रखते हैं। वह अच्छे अधिकारी के साथ अच्छे वक्ता भी हैं। उनके फेसबुक पेज प्रमोद शाह में 2.6 हजार फालोवर हैं।

सेवाकाल के दौरान राजनीतिक बयानबाजी पुलिस नियमावली के अनुसार अनुशासनहीनता के दायरे में है। ऐसे अनुशासनहीन कर्मियों पर विभाग सख्त कार्रवाई कर सकता है। सीओ प्रमोद शाह ने 16 सितंबर को सीएम पुष्कर सिंह धामी के 48वें जन्मदिन पर भी फेसबुक पर पोस्ट किया था। जिसमें उन्होंने 22 साल के उत्तराखंड का नेतृत्व 47 वर्ष के पूर्ण के युवा मुख्यमंत्री के हाथों में देने की बात कही थी। छह सितंबर को सीओ ने ब्रिटेन की तीसरी महिला प्रधानमंत्री पर भी टिप्पणी की थी। प्रधानमंत्री एलिजविथ ट्रेश भारतीय मूल के ऋषि सुनक को भारी अंतर से हराकर प्रधानमंत्री बनी थी।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta