उत्तराखंड

हरिद्वार में एक साथ 18 पंपिंग स्टेशन हुए बंद, 50 हजार की आबादी पानी को तरसी, व्यापारियों ने किया प्रदर्शन

Renuka Sahu
5 May 2022 6:44 AM GMT
18 pumping stations closed simultaneously in Haridwar, 50 thousand population craves for water, traders demonstrated
x

फाइल फोटो 

धर्मनगरी हरिद्वार में मंगलवार रात आठ बजे 18 पंपिंग स्टेशन एक साथ बंद पड़ जाने से उत्तरी हरिद्वार में पेयजल संकट गहरा गया।

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। धर्मनगरी हरिद्वार में मंगलवार रात आठ बजे 18 पंपिंग स्टेशन एक साथ बंद पड़ जाने से उत्तरी हरिद्वार में पेयजल संकट गहरा गया। इससे करीब 50 हजार की आबादी को परेशानी का सामना करना पड़ा। बुधवार सुबह 10 बजे आपूर्ति सुचारू हो पाई। पंपिंग स्टेशनों पर बिजली के 3 फेस की मोटर को संचालित कर लोगों के घरों तक पीने के पानी की सप्लाई की जाती है।

मंगलवार रात जिस समय भूपतवाला पंपिंग स्टेशन पर बिजली की आपूर्ति के लिए फेस बदला गया। तभी वहां पर शार्ट सर्किट हो गया। शार्ट सर्किट के कारण धर्मनगरी के उत्तरी हरिद्वार में मंगलवार रात से घरों में पेयजल आपूर्ति बाधित रही। लोगों की पेयजल की समस्या से निपटने के लिए हैंडपंप और टैंकरों का सहारा लेना पड़ा। घंटों तक अधिकारी जल्द समस्या के समाधान की बात करते रहे।
स्थानीय निवासी सुमित तिवारी का कहना है कि हरिद्वार के वार्ड नंबर 4, 5 और 6 में करीब बीस हजार से अधिक लोग पानी को तरसे रहे। प्रशांत शर्मा, शुभम जोशी, आशीष जैन ने बताया कि पानी की कमी के कारण होटल धर्मशाला में रहने वाले यात्रियों को परेशानी झेलनी पड़ी।
पेजयल संकट से नाराज व्यापारियों का प्रदर्शन
पेयजल संकट को लेकर महानगर व्यापार मंडल अध्यक्ष जितेंद्र चौरसिया के नेतृत्व में व्यापारियों ने शिवमूर्ति के पास विरोध प्रदर्शन किया। व्यापारियों ने अधिकारियों को चेतावनी देते हुए जल्द व्यवस्था ठीक करने की मांग की। व्यवस्था ठीक नहीं होने पर उन्होंने जल संस्थान कार्यालय में आंदोलन की चेतावनी दी।
अध्यक्ष जितेंद्र ने कहा कि रोजाना सुबह नौ बजे से शाम छह बजे तक पानी को सप्लाई बंद कर दी जाती है। इसके बाद रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक पेयजल सप्लाई बाधित रहती है। लोगों को चंद घंटे ही पानी मिल पा रहा है। पानी का प्रेशर इतना कम है कि पहली मंजिल में भी पानी नहीं पहुंच रहा है। जितेंद्र ने कहा कि जब विभाग बिल पूरे 24 घंटे का वसूल रहा है तो पानी की सप्लाई भी 24 घंटे दी जानी चाहिए।
कोषाध्यक्ष मुकेश अग्रवाल, महामंत्री नाथीराम सैनी ने कहा कि लोगों को पानी खरीदकर प्यास बुझानी पड़ रही है। कहा कि इसके लिए जल्द सीएम को ज्ञापन भेजा जाएगा। लोग पेयजल आपूर्ति के हिसाब से ही बिल का भुगतान करेंगे। विरोध जताने वालों में मुख्य रूप से कुलदीप सिंह, उमेश चौधरी, राजेश भाटिया, राजा, गौरव गौतम, अमित कुमार, गणेश गंभीर, गणेश शर्मा, अतुल आदि रहे।
18 पंपिंग स्टेशन एक साथ बंद, पानी को तरसी 50 हजार की आबादी
सहायक अभियंता जल संस्थान हरिद्वार राकेश चंद्र बमराडा ने कहा, 'क्षेत्र में पानी की पूर्ति करने वाले 18 पंपिंग स्टेशन एक साथ बंद पड़ जाने से समस्या पैदा हुई। समस्या के समाधान के लिए निर्देश दे दिए गए हैं। कुछ पंपिंग स्टेशनों को संचालित कर दिया गया है। अन्य को भी जल्द दुरुस्त कर लिया जाएगा।'
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta