उत्तर प्रदेश

मुख्तार पर कार्रवाई कर एसपी को मिला गोल्ड मेडल, यहां पढ़ें कौन हैं वो

Bhumika Sahu
18 Aug 2022 4:05 AM GMT
मुख्तार पर कार्रवाई कर एसपी को मिला गोल्ड मेडल, यहां पढ़ें कौन हैं वो
x
यहां पढ़ें कौन हैं वो

आजमगढ़. उत्तर प्रदेश के मऊ में तैनात रहते हुए माफिया मुख्तार अंसारी के अवैध निर्माणों पर बुलडोजर चलाकर सुर्खियों में आने वाले आईपीएस अफसर अनुराग आर्य को उनकी दिलेरी के लिए स्वतंत्र दिवस की 75वीं वर्षगांठ पर गोल्ड मेडल से नवाजा गया है. उन्हें यह सम्मान डीजीपी देवेंद्र सिंह चौहान ने दिया. मुख्तार अंसारी का यूपी के अपराध में एक ऐसा नाम है जिससे जनता ही नहीं बल्कि अच्छे अच्छे डरते थे. राजनीतिक डॉन और अपराधियों को संरक्षण देने के कारण मुख्तार बड़े.बड़े थर्राते थे. पुलिस के आला अधिकारी भी कार्रवाई करने से बचते रहे हैं लेकिन यूपी पुलिस में सिंघम के नाम से मशहूर आजमगढ़ के एसपी अनुराग राय ने सबसे पहले मुख्तार अंसारी के खिलाफ कार्रवाई शुरू की और उनकी अवैध संपत्ति को जब्त कर लिया. मुख्तार अंसारी के अवैध निर्माण ध्वस्त कराया.

गौरतलब है कि योगी आदित्यनाथ सरकार केवल आजमगढ़ ही नहीं गाजीपुर, मऊ, वाराणसी जैसे जिलों में भी मुख्तार अंसारी के साम्राज्य पर चोट पहुंचा चुकी है और लगातार एक्शन में है. अनुराग आर्य के बारे में कहा जाता है कि उन्हीं ने सबसे पहले मुख्तार पर कार्रवाई शुरू की. उनकी इसी दिलेरी और उत्कृष्ट कार्यो के लिए अच्छी सेवाओं के लिए द्वारा सम्मान दिया गया. अनुराग आर्य ने आजमगढ़ का कार्यभार 26 अक्टूबर 2021 को संभाला और जिले में माफिया और संगठित अपराध करने वाले गिरोहों पर कड़ी कार्रवाई की. वो मुख्तार अंसारी पर कार्रवाई करने के कारण सुर्खियों में आए थे.
अनुराग आज के बारे में बात कीजिए तो वह 2013 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं. वह मऊ में तैनाती के माफिया मुख्तार अंसारी के अवैध निर्माण को लेकर चला कर सबसे ज्यादा चर्चा में रहे. माफिया मुख्तार अंसारी के अपराधिक समाजवाद पहली कार्रवाई अनुराग आर्य ने ही कार्रवाई की. मऊ जिले में अवैध बूचड़खाने चलाने वाले मुख्तार गैंग के 26 लोगों के खिलाफ गैंगस्टर की कार्रवाई की. इसके साथ ही एसपी ने मुख्तार के शूटर अनुज कनौजिया का घर बुलडोजर से ध्वस्त कर दिया था. टैक्सी स्टैंड वसूली करने वाले 13 माफिया पर गैंगस्टर मुख्तार के साथ भूमाफिया पर मुकदमे दर्ज कराई गई.
मुख्तार अंसारी पर पहला मुकदमा 2020 में लिखा गया. साथ ही मुख्तार के अवैध मछली कारोबार उसके अवैध कामों में साथ देने वाले माफिया पारसनाथ सुनकर गैंग 13 अपराधियों पर गैंगस्टर की कार्रवाई की गई और मछली व्यापार को बंद कराया गया. मुख्तार गैंग से जुड़े अपराधियों के शस्त्र लाइसेंस निरस्त करने की कार्रवाई की गई. मुख्तार गैंग सहयोगी त्रिदेव कंस्ट्रक्शन के उमेश सिंह की संपत्तियों को भी ध्वस्त कर दिया गया. वीडियो रिपोर्ट की मानें तो मुख्तार अंसारी उसकी गैंग द्वारा प्रतिवर्ष 13 से 17 लाख की अवैध वसूली होती थी. जिसके बारे में बताया गया कि मुख्तार अंसारी अवैध कटान अवैध बूचड़खाना टैक्सी स्टैंड आदि से करोड़ 9 लाख 75 हजार रुपये की वसूली करता था. सालाना यह कमाई 13 करोड़ 17 लाख से अधिक थी.
आजमगढ़ में एसपी अनुराग आर्य ने शराब माफियाओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की. जिससे उनके अंदर डर का माहौल पैदा हो गया. जहरीली शराब नकली शराब से जुड़े 13 आरोपियों पर एसपी ने गैंगस्टर और 6 पर रासुका लगाया. जिनकी लाखों की संपत्ति की कुर्की की कार्रवाई भी की गई. वहीं उन्होंने टेट की परीक्षा में गड़बड़ी करने के आरोप में 22 आरोपियों खिलाफ गैंगस्टर की कार्रवाई करने के साथ फरार पूर्व ब्लाक प्रमुख इसरार अहमद की 35 लाख की चल संपत्ति को कुर्क किया.


Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta