त्रिपुरा

त्रिपुरा : संस्थागत प्रसव में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज, पहली तिमाही के दौरान नाम दर्ज करना - चिंता का विषय

Nidhi Singh
29 Jun 2022 1:53 PM GMT
त्रिपुरा : संस्थागत प्रसव में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज, पहली तिमाही के दौरान नाम दर्ज करना - चिंता का विषय
x

अगरतला: त्रिपुरा ने संस्थागत प्रसव के लिए सी-सेक्शन का बहुत अधिक प्रतिशत दर्ज किया है, जो कि स्वास्थ्य प्रबंधन सूचना प्रणाली के अनुसार लगभग 97.94% है। जबकि 89 प्रतिशत संस्थागत प्रसव राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण, भारत की रिपोर्ट के अनुसार किया जा रहा है। दोनों रिपोर्ट वित्तीय वर्ष 2019-20 की हैं।

बुधवार को अगरतला शहर में एनएचएम, त्रिपुरा कार्यालय परिसर में एक संवाददाता सम्मेलन में, एनएचएम के मिशन निदेशक डॉ सिद्धार्थ शिव जायसवाल ने कहा, "हालांकि, संस्थागत प्रसव के मामले में एनएफएचएस और एचएमआईएस की रिपोर्ट उत्कृष्ट है, लेकिन चिंता की बात यह है कि 63.2 पहली तिमाही के दौरान प्रतिशत गर्भवती महिलाएं अपना नाम दर्ज करा रही हैं।"

"गर्भवती महिलाओं द्वारा नामों का पंजीकरण पहले तीन महीनों यानी पहली तिमाही में किया जाना चाहिए। ताकि, स्वास्थ्य विभाग गर्भावस्था की पुष्टि कर सके और बुनियादी परीक्षण लाइन एनीमिया, रक्तचाप, इसके साथ आवश्यक वजन दर्ज किया जा सके। मातृ एवं शिशु देखभाल के लिए पंजीकरण महत्वपूर्ण है, जो पहली तिमाही के दौरान किया जाना चाहिए", उन्होंने कहा।

मिशन निदेशक ने कहा, "गर्भावस्था के पूरे पाठ्यक्रम के दौरान चार जांच अनिवार्य हैं। चिंता की बात यह है कि पहली तिमाही के दौरान 63.2 प्रतिशत महिलाओं का पंजीकरण हो रहा है जबकि 53 प्रतिशत गर्भवती महिलाओं का चार बार या उससे अधिक परीक्षण हो रहा है। अब अधिक गर्भवती महिलाओं को पंजीकरण के इस पाठ्यक्रम के तहत लाने के उद्देश्य से स्वास्थ्य विभाग ने पंजीकरण का प्रतिशत बढ़ाने की पहल की है।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta