त्रिपुरा

राष्ट्रीय स्तर के संग्रहालय और सांस्कृतिक केंद्र में बदला जाएगा पुष्पबंता महल या पूर्व राजभवन

Gulabi
3 Feb 2022 2:44 PM GMT
राष्ट्रीय स्तर के संग्रहालय और सांस्कृतिक केंद्र में बदला जाएगा पुष्पबंता महल या पूर्व राजभवन
x
सांस्कृतिक केंद्र में बदला जाएगा पुष्पबंता महल या पूर्व राजभवन
लंबे समय से कार्रवाई करते हुए त्रिपुरा सरकार ने पूर्व राजभवन के लिए ऐतिहासिक 'पुषबंता पैलेस' को राष्ट्रीय स्तर के संग्रहालय और सांस्कृतिक केंद्र में अपग्रेड करने का निर्णय लिया है। इसे प्राप्त करने के लिए राज्य सरकार पहले ही 40.13 करोड़ रुपये प्राथमिक अनुदान के रूप में स्वीकृत कर चुकी है। पर्यटन मंत्री प्राणजीत सिंघा रॉय द्वारा किए गए 'फेसबुक' पोस्ट से यह बात सामने आई, जिन्होंने दर्शकों को पहल की जानकारी दी। मंत्री के पद के अनुसार संग्रहालय राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय अभिलेखागार के साथ-साथ पूरे पूर्वोत्तर, दक्षिण पूर्व एशियाई ललित कला, समकालीन फोटोग्राफी की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को प्रदर्शित करेगा। योजना के अनुसार संग्रहालय पूरी तरह से जलवायु नियंत्रित और सीसीटीवी से निगरानी में होगा। इसके अलावा, अत्याधुनिक संग्रहालय में डिजिटल घटक होंगे, जो इसे यथार्थवादी डिजिटल अनुभवों के साथ देश में कुछ में से एक बना देगा, पर्यटन मंत्री ने अपने पोस्ट में लिखा है। प्रांजीत ने अपने पोस्ट में कहा, "हमारी सरकार समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और त्रिपुरा के शाही राजवंश के अपार योगदान के संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध है।" उन्होंने इस पहल को प्रोत्साहित करने और फंड को मंजूरी देने के लिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब को भी धन्यवाद दिया।
'पुष्पबंता' महल महाराजा वीरेंद्र किशोर माणिक्य (1909-1923) द्वारा वर्ष 1918 में बनवाया गया था और परिष्कृत स्वाद वाले सुसंस्कृत राजा अपना अधिकांश समय महल में पेंटिंग करके व्यतीत करते थे। वे कला और संस्कृति के बड़े प्रेमी थे। 15 अक्टूबर 1949 से त्रिपुरा के भारतीय संघ में विलय के बाद महल को मुख्य आयुक्त, लेफ्टिनेंट गवर्नर और तत्कालीन राज्यपाल के आधिकारिक निवास में बदल दिया गया और इसे 'राज भवन' के रूप में जाना जाने लगा। हालाँकि वर्ष 2018 में 'राजभवन' को राज्य सचिवालय के पास 'पुष्पबंता पैलेस' को खुला छोड़कर एक अन्य नवनिर्मित संरचना में स्थानांतरित कर दिया गया था। हालांकि विशेषज्ञों का मानना ​​है कि महल को भूकंपरोधी बनाने के लिए बड़े पैमाने पर पुनर्निर्माण की आवश्यकता हो सकती है।
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta