राजस्थान

दौसा गगलियावास में सड़क किनारे पड़े कुएं आए दिन हादसों को दे रहे है न्यौता

Bhumika Sahu
20 July 2022 8:58 AM GMT
दौसा गगलियावास में सड़क किनारे पड़े कुएं आए दिन हादसों को दे रहे है न्यौता
x
सड़क किनारे पड़े कुएं आए दिन हादसों को दे रहे है न्यौता

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। दौसा, दौसा 40 से ज्यादा खुले बोरवेल और कुएं ग्रामीण इलाकों में हादसों को न्यौता दे रहे हैं. यह हाल तब है जब देश भर में इस तरह के कई हादसे हो चुके हैं, इन दिनों बारिश का मौसम है, ऐसे में खतरे का खतरा भी बढ़ जाता है. गांव के गागलीवास गांव में जलापूर्ति विभाग द्वारा आरओ प्लांट लगाने में अधिकारियों की लापरवाही से पिछले डेढ़ साल से गांव के बीचो-बीच खोदे गए 350 फीट गहरे बोरवेल खुले पड़े हैं. रालावता वह गाँव है जिसने दुर्घटना को न्योता दिया था। पूर्व सरपंच कैलाश गुर्जर, वार्ड पंच देवकरण गुर्जर, सरपंच पुखराज गुर्जर सहित कई ग्रामीणों ने कहा कि खुले बोरवेल को बंद करने के लिए वे जल आपूर्ति विभाग के अधिकारियों को शिकायत पत्र दें. ग्रामीणों ने बताया खुले बोरवेल व कुओं को बंद करने में प्रशासन कितना गंभीर है दौसा गगलियावास मार्ग पर गांव के बीचोबीच स्थित बोरवेल लंबे समय से खुला है. प्रशासन की यह उदासीनता दीप के नीचे अँधेरे की बात साकार कर रही है। ऐसा नहीं है कि प्रशासनिक अधिकारियों को इस खुले बोरवेल की जानकारी नहीं है। लेकिन वे जानबूझकर इस खुले बोरवेल की अनदेखी कर रहे हैं। अधिकारियों की इस उदासीनता का असर खेल रहे मासूम बच्चों पर पड़ सकता है.

लगातार गिरते भूजल स्तर से शेखपुरा, भंडारेज, खानवास, लॉन क्षेत्रों में कई बोरवेल निष्क्रिय हो गए हैं। जहां लोगों ने इन बोरवेल का इस्तेमाल बंद कर दिया है। इन बोरवेलों का उपयोग नहीं होने के कारण किसानों व संबंधित विभाग द्वारा इनके कवरिंग आदि पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है. जिससे ये बोरवेल और खुले कुएं हादसों को न्यौता दे रहे हैं। इनमें से कुछ खुले कुएँ गाँव की आबादी के निकट होने के कारण कभी-कभी दुर्घटना का कारण बन सकते हैं।


Next Story
© All Rights Reserved @ 2023 Janta Se Rishta