राजस्थान

जोधपुर में ठेका कर्मियों की शराब पार्टी 21 करोड़ की पार्किंग नहीं संभाल पाई निगम की पार्किंग वहां खड़ी एक स्कॉर्पियो लेकर निकली और 12 किमी दूर पोल से जा टकराई

Bhumika Sahu
22 July 2022 9:29 AM GMT
जोधपुर में ठेका कर्मियों की शराब पार्टी 21 करोड़ की पार्किंग नहीं संभाल पाई निगम की पार्किंग वहां खड़ी एक स्कॉर्पियो लेकर निकली और 12 किमी दूर पोल से जा टकराई
x
ठेका कर्मियों की शराब पार्टी

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। जोधपुर, गांधी मैदान में शहर की पहली अंडरग्राउंड स्मार्ट पार्किंग की स्थिति दयनीय है। पार्किंग ठेकेदार के कर्मचारी यहां दोस्तों के साथ ड्रिंक पार्टी कर रहे हैं। सोमवार को भी यहां ठेका कर्मियों ने शराब पी, फिर पार्किंग में खड़ी स्कॉर्पियो को टहलने के लिए ले गए। नशे में धुत दोनों कर्मचारी अपने साथियों के साथ 10-12 किमी ड्राइव कर बनद की ओर बढ़े।

नंदादी के पास सड़क किनारे बिजली के खंभे से टकराकर स्कॉर्पियो रुक गई। हादसे में कार क्षतिग्रस्त हो गई। गनीमत रही कि क्षतिग्रस्त बिजली के खंभे से लटके तार कार पर नहीं गिरे, नहीं तो कार सवार जल जाते।
मौके पर लोगों की भीड़ लग गई, बाद में बनाड़ पुलिस ने चारों को कार से बाहर निकाला। कार को क्रेन से सरदारपुरा लाया गया। सरदारपुरा पुलिस ने चारों को शांति धारा के उल्लंघन के तहत गिरफ्तार किया था, लेकिन कोई शिकायत दर्ज नहीं होने पर उन्हें छोड़ दिया गया था।
हालांकि कार मालिक और ठेका कर्मियों के बीच समझौता हो गया, लेकिन जब शहर के इकलौते सरकारी पार्किंग स्थल पर इस तरह की घटना सामने आई तो मीडिया टीम स्कॉर्पियो के मालिक नरेंद्र पुरोहित ने उनसे पूरी घटना की सूचना दी। वे यहां लंबे समय से पार्किंग कर रहे हैं। 18 जुलाई को उन्होंने अपनी स्कॉर्पियो और एक्टिवा दोनों को किसी काम के चलते पार्किंग में छोड़ दिया।
गलती से कार में एक्टिवा की चाबी भूल गए। इसी चाबी के पास स्कॉर्पियो की चाबी भी थी। जैसे ही पार्किंग ठेकेदार के दोनों कर्मचारी शराब पीकर एक्टिवा की ओर चल पड़े, एक आंख की चाबियां उनके पास कार की चाबियां भी थीं। ठेका कर्मियों ने चाबी डाली तो कार स्टार्ट हो गई। बाद में चारों ने शराब के नशे में कार को शहर की सड़क पर चला दिया। 12 किमी दूर नंदादी में हादसा हो गया।
शहर की पहली अंडरग्राउंड स्मार्ट पार्किंग व्यवस्था चरमरा गई तो भास्कर टीम की जांच में कई चौंकाने वाली खामियां सामने आईं। चार साल पहले 21 करोड़ रुपये की लागत से बनी दो मंजिला अंडरग्राउंड पार्किंग की स्मार्टनेस सिर्फ पार्किंग छोड़कर चली गई है। जब निगम दक्षिण प्रशासन खुद 3 साल के भीतर इसकी उचित देखभाल नहीं कर सका, तो इसका संचालन एक निजी फर्म को सौंप दिया गया।
हालांकि पार्किंग शुल्क बढ़ाने का अधिकार निगम की मार्केटिंग कमेटी के पास है, लेकिन यह काम बाबू ने किया। इतना ही नहीं, पार्किंग ठेकेदार को तीन गुना अधिक शुल्क लेने की भी अनुमति दी गई थी। अब 5 महीने बाद भी फर्म ने रु। 28.62 लाख बकाया राशि की वसूली नहीं कर पा रहे हैं। शर्तों का उल्लंघन करने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की गई।
ठेका फर्म को पार्किंग कार्य शुरू हुए 6 महीने हो चुके हैं, लेकिन उसने पार्किंग की स्मार्टनेस नहीं लौटाई है। ड्राइवर जैसे ही पहले गेट पर टिकट लेगा, बैरियर अपने आप उठ जाएगा, स्मार्ट पार्किंग एरिया की हरी बत्ती अपने आप लाल हो जाएगी।
जिससे गार्ड रूम की स्क्रीन से पता चलता था कि किस मंजिल पर पार्किंग के लिए कितनी जगह बची है, लेकिन अब सभी पार्किंग सेंसर और लाइटें टूट गई हैं और बैरियर भी स्थायी रूप से खड़ा है। अब मैन्युअल रूप से शुल्क भी लिया जा रहा है। अधिकांश सीसीटीवी बंद हैं और अग्निशमन व्यवस्था खराब है।
निगम कृपया- शर्तों के उल्लंघन पर कोई कार्रवाई नहीं, लाइसेंस रद्द करने के नियम
निगम दक्षिण ने यह पार्किंग इस वर्ष के पहले माह में खुली नीलामी में 35.35 लाख में बेची थी। नीलामी शर्तों के मुताबिक न्यूनतम बोलीदाता को संपूर्ण राशि का एक चौथाई राशि (8,08,750+1,45,575 जीएसटी) 9,54,325 रुपए जनवरी माह में ही जमा करवा दी, शेष राशि एक माह पश्चात फरवरी में तीन किस्तों में कुल बकाया राशि 28,62,975 रुपए (24,26,250+4,36,725) निगम कोष में जमा करवाने की शर्त थी।
लेकिन ठेकेदार इस राशि को जमा नहीं करा सका। नीलामी की शर्तों के उल्लंघन के लिए ठेका फर्म को एक नोटिस जारी किया जाता है और यद्यपि उसे दिया गया अनंतिम लाइसेंस उल्लंघन जारी रहने पर स्वतः रद्द माना जाता है, निगम अनुबंध के साथ कुछ भी करने में सक्षम नहीं है।
3 साल पहले फीस माफ, 1 साल पहले बढ़े बाबू
तीन साल पहले तत्कालीन मेयर घनश्याम ओझा ने शहर के लोगों को अपने वाहन पार्किंग में रखने के लिए प्रेरित करने के लिए एक बड़ा फैसला लिया था।
उन्होंने बोर्ड की बैठक में जनहित में फैसला लेते हुए 6 महीने की फीस एकमुश्त जमा पर 5 फीसदी की छूट और 12 महीने की यूनिट फीस पर 10 फीसदी की छूट देने की भी घोषणा की. इसके साथ ही अन्य दरों को भी आधा कर दिया गया। लेकिन निगम दक्षिण प्रशासन ने महापौर वनिता सेठ को बिना बताए तीन बार दरें बढ़ाकर जनता को लूटने के लिए ठेका फर्मों को खुली छूट दे दी थी।
3 बकाया नोटिस दिए, अब चौथा बकाया
आयुक्त अरुण कुमार पुरोहित ने 30 मार्च को ढाणी, बड़ा निवासी पुखराज पुत्र लक्ष्मण राम को पार्किंग ठेकेदार की तीन किश्त जमा करने का नोटिस जारी किया। तीसरी किस्त एक अप्रैल को बकाया थी, लेकिन चार माह बाद भी ठेकेदार ने बकाया राशि जमा नहीं की।


Next Story
© All Rights Reserved @ 2023 Janta Se Rishta