राजस्थान

राजस्थान में एतिहासिक बाल दिवस: ओम बिरला बोले- 'अब ग्लोबल प्रतिस्पर्धा के साथ इंडस्ट्री को डेवलप होने की जरूरत'

Kunti
14 Nov 2021 12:54 PM GMT
राजस्थान में एतिहासिक बाल दिवस: ओम बिरला बोले- अब ग्लोबल प्रतिस्पर्धा के साथ इंडस्ट्री को डेवलप होने की जरूरत
x
देश की इंडस्ट्री में राजस्थान की माटी का अहम योगदान है,

देश की इंडस्ट्री में राजस्थान की माटी का अहम योगदान है, लेकिन नए दौर में व्यापार का तरीका बदल गया है.अब ग्लोबल प्रतिस्पर्धा के साथ इंडस्ट्री को डेवलप होने की जरूरत है. यह कहना है कि लोकसभा स्पीकर ओम बिरला (Om Birla) का. एंपलॉयर्स एसोसिएशन ऑफ राजस्थान के बेस्ट एंप्लॉयर्स अवार्ड शो में ओम बिरला ने इंडस्ट्री के बदलाव का आह्वान किया.

लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने क्या आह्वान किया
"एंपलॉयर्स एसोसिएशन ऑफ राजस्थान" के बेस्ट एंप्लॉयर्स अवार्ड शो में इंडस्ट्री से उघोगपतियों से लोकसभा स्पीकर ओम बिरला (Lok Sabha Speaker Om Birla) ने आह्वान किया कि अब इंडस्ट्री में बदलाव का समय आ गया है. उनका कहना था कि देश की इंडस्ट्री (industry) में राजस्थान (Rajasthan News) की माटी का अहम योगदान है. अब तो विश्व में भी राजस्थान को अलग पहचान मिलने लगी है, लेकिन अब व्यापार का क्षेत्र बदल गया है.
ओम बिरला ने आगे कहा कि अब हमारी नीतियां ग्लोबल प्रतिस्पर्धा (Global competition) के साथ इंडस्ट्री को डवलवमेंट की जरूरत है. मुझे खुशी है कि भारत (India) इस क्षेत्र में लगातार आगे बढ रहा है. आज दुनिया के जितने भी देश में IT क्षेत्र में भारत का नौजवान प्रतिनिधि कर रहा है. दुनिया में भारत का नाम रौशन कर रहे हैं, लेकिन इसे इस्तेमाल की जरूरत है. अब तो राज्यों में भी प्रतिस्पर्धा हो गई है.
राजस्थान की भौगोलिक परिस्थिति सबसे बेहतर
ओम बिरला का कहना था कि राजस्थान की भौगोलिक परिस्थिति सबसे बेहतर है. आज सड़क रेल कनेक्टिविटी में राजस्थान नंबर वन है. आने वाले समय में एयर कनेक्टिविटी (Air connectivity) में भी राजस्थान नंबर वन हो जाएगा. दूरिया जितनी कम होगी, इंडस्ट्री उतनी ही पास होगी. हालांकि नई इंडस्ट्री में रोजगार (employment) के अवसर कम है. क्योकि सर्विस सेक्टर पर काम कम हो रहा है.
विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी ने क्या कहा
वहीं विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी (CP Joshi) ने कहा कि आने वाला समय मेटर इंडस्ट्री का जमाना है. राजस्थान में संभावनाओं की कमी नहीं, इंडस्ट्री डवलवमेंट केवल सरकार के भरोसे नहीं हो सकती, बल्कि इसमें व्यापारियों की भागीदारी अहम होती है. इंडस्ट्री को आने वाले समय के हिसाब से टैक्नोलॉजी (Technology) के जरिए बदला जा सकता है. हाल ही में रीट (REET) में 34 लाख लोगों ने एग्जाम दिया, इसका मतलब रोजगार की कमी है. नौकरी तो चुनिदा लोगों को ही मिलेगी. सरकार अपने दायरे में रहकर सीमित लोगों को ही रोजगार दे सकती है, इसलिए अब इंडस्ट्री को नए रोजगार के अवसर तलाशने चाहिए.
इंड्रस्टी में होगा नवाचार
इस अवार्ड शो में 40 संस्थाओं को बेस्ट एंप्लॉय अवार्ड से नवाजा गया, जाहिर है लोकसभा और विधानसभा स्पीकर के आह्वान के बाद इंड्रस्टी में नवाचार होगा,ताकि राजस्थान में रोजगार के अवसर बढे.
Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it