राजस्थान

सोमवार से शुरू हुआ छठ महापर्व वीरवार सुबह सूर्य को अ‌र्घ्य देने के साथ संपन्न

Gulabi
12 Nov 2021 8:11 AM GMT
सोमवार से शुरू हुआ छठ महापर्व वीरवार सुबह सूर्य को अ‌र्घ्य देने के साथ संपन्न
x
छठ महापर्व वीरवार सुबह सूर्य को अ‌र्घ्य देने के साथ संपन्न

ऊधमपुर : सोमवार से शुरू हुआ छठ महापर्व वीरवार सुबह उदय होते सूर्य को अ‌र्घ्य देने के साथ संपन्न हो गया। इसके बाद व्रतियों ने प्रसाद और जल ग्रहण कर अपना 36 घंटे लंबा अन्न जल ग्रहण किए बिना रखा गया कठोर व्रत संपन्न किया।


ऊधमपुर में रह रहे बिहार व पूर्वी उत्तर प्रदेश के लोगों ने सोमवार से चार दिवसीय छठ महापर्व का पूजन नहाय-खाय के साथ श्रद्धा भाव व पारंपरिक तरीके से शुरू किया था। लोगों ने घरों के आसपास बनी बावलियों, पावन देविका नदी, सूर्य पुत्री तवी नदी व अन्य जलाशयों में स्नान कर पूजा-अर्चना की। मंगलवार को खरना के बाद व्रत शुरू किया। इसके बाद बुधवार को व्रतियों ने बिल्लन बावली सहित अन्य पवित्र जलाशयों के पास सामूहिक रूप से एकत्रित होकर अस्त होते सूर्य देव की आराधना की व अ‌र्घ्य अर्पित कर सुख-समृद्धि की कामना की। वीरवार को छठ व्रत के अंतिम दिन व्रतियों ने उदय होते सूर्य भगवान के दर्शन, उपासना के साथ उनको अ‌र्घ्य देकर 36 घंटे लंबा कठोर व्रत पूर्ण किया। व्रत पूर्ण होने के बाद व्रतियों ने प्रसाद ग्रहण कर उपवास खोला। कटड़ा में भी रहा श्रद्धा का माहौल

संवाद सहयोगी, कटड़ा : उगते सूर्य को अ‌र्घ्य देने के साथ वीरवार को छठ पर्व के चार दिवसीय महोत्सव का समापन हो गया। सुबह व्रती नदियों, नहरों, सरोवरों के घाट पर पहुंचे और भगवान सूर्य को अ‌र्घ्य देकर सुख-समृद्धि की कामना की।

आधार शिविर कटड़ा में भी देश के विभिन्न प्रांतों से आई महिलाओं ने छठ महापर्व में धूमधाम से हिस्सा लिया। कटड़ा में पवित्र भूमिका मंदिर नदी में पूजा-अर्चना हुई। महिलाओं ने नदी में खड़े होकर सूर्य देव के साथ ही छठी मईया की फल-फूल, धूप, दीप आदि के साथ पूजा की। यहां बड़ी संख्या में रेलवे कर्मचारियों के साथ ही सुरक्षाकर्मियों के स्वजनों और देश के दूसरे राज्यों से कटड़ा में कार्य करने वाले दुकानदारों व कामगारों के स्वजनों ने भगवान सूर्य देव व छठी मईया की आराधना की।

इस मौके पर 64 प्रकार की सामग्री तैयार की गई थी, जिनमें ठेकुआ, फल बांस के सूप में में दीप रखकर नारियल तथा विभिन्न प्रकार के फल आदि के साथ भगवान सूर्य देव व छठी मईया की पूजा-अर्चना की गई। इसके बाद प्रसाद वितरित किया गया। याद राम, बिहारी लाल, राधे शाम, नीलेश कुमार के साथ ही अमित कुमार, नागिदर, राजकुमार आदि ने बताया कि परिवार की सुख-शांति के लिए महाछठ पर्व मनाया जाता है।


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it