पंजाब

पंजाब सरकार बनाएगी हिंदू महाकाव्यों पर रिसर्च सेंटर, सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने कही यह बात

Kunti
28 Nov 2021 4:21 PM GMT
पंजाब सरकार बनाएगी हिंदू महाकाव्यों पर रिसर्च सेंटर, सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने कही यह बात
x
पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (Punjab CM Charanjit Singh Channi) ने रविवार को कहा कि वो संस्कृत सीखेंगे और महाभारत (Mahabharata) पर डॉक्टरेट (पीएचडी) करेंगे।

पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (Punjab CM Charanjit Singh Channi) ने रविवार को कहा कि वो संस्कृत सीखेंगे और महाभारत (Mahabharata) पर डॉक्टरेट (पीएचडी) करेंगे, क्योंकि उन्होंने हिंदू ग्रंथों रामायण, महाभारत और भगवद गीता पर एक शोध केंद्र स्थापित करने की घोषणा की थी. खाती (फगवाड़ा) में भगवान परशुराम तपोस्थल की आधारशिला रखने के बाद मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने संबोधित करते हुए शिरोमणि अकाली दल के संरक्षक प्रकाश सिंह बादल की तुलना महाभारत के धृतराष्ट्र से करते हुए कहा कि उनके बेटे के लिए पुत्र मोह (अंधा प्रेम) ने उनकी पार्टी को बर्बाद कर दिया है.

सीएम ने कहा कि शोध केंद्र तीन हिंदू ग्रंथों के संदेश को प्रदर्शित करेगा. उन्होंने कहा कि युगों से ये ग्रंथ पूरी मानवता के लिए प्रेरणा के स्रोत रहे हैं और अनुसंधान केंद्र इनके संदेश को सरलतम रूप में जनता तक पहुंचाने के लिए उत्प्रेरक का काम करेगा. चन्नी ने कहा कि उनकी सरकार इस महत्वाकांक्षी परियोजना के लिए एक सम्मानित शंकराचार्य को शामिल करने की कोशिश कर रही है.

ब्राह्मण समुदाय के साथ हैं मजबूत संबंध- सीएम चन्नी
ब्राह्मण समुदाय के साथ भावनात्मक जुड़ाव पर प्रहार करते हुए उन्होंने कहा कि उनके साथ उनके मजबूत संबंध हैं. चन्नी ने कहा कि वो संस्कृत भाषा सीखेंगे और फिर महाभारत पर डॉक्टरेट करेंगे. उन्होंने आगे कहा कि मुझे अपने जीवन को सार्थक और धर्मी बनाने के लिए हर दिन भगवद गीता का एक श्लोक सीखने के लिए एक बहुत बुद्धिमान और विद्वान व्यक्ति ने कहा था. गीता उपदेश अद्वितीय है. मेरी वर्तमान पीएचडी तीन महीने में पूरी हो जाएगी.फिर मैं संस्कृत सीखना शुरू करूंगा और महाभारत पर पीएचडी करूंगा.
मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि राज्य में आवारा पशुओं की उचित देखभाल सुनिश्चित करने के लिए ब्राह्मण कल्याण बोर्ड को यह कार्य सौंपा जाएगा. उन्होंने कहा कि आवारा पशुओं के उचित रख-रखाव के लिए बोर्ड को राशि उपलब्ध कराई जाएगी. उन्होंने कहा कि प्रमुख सामाजिक समस्याओं में से एक को हल करना समय की मांग है. सीएम ने ये भी कहा कि उनकी सरकार भगवान परशुराम के तपोस्थल को एक अत्याधुनिक वास्तुशिल्प चमत्कार के रूप में विकसित करेगी. चन्नी ने कहा कि जिला प्रशासन को 10 करोड़ रुपए का चेक पहले ही सौंपा जा चुका है और जरूरत पड़ने पर और धनराशि भेजी जाएगी. चन्नी ने कहा कि भगवान परशुराम की माता रेणुका से संबंधित स्थान के विकास पर 75 लाख रुपए खर्च किए जाएंगे.
Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it