पंजाब

किसानों के हित में पंजाब सरकार का बड़ा फैसला, मूंग की फसल अब MSP पर खरीदी जाएगी

Renuka Sahu
6 May 2022 6:04 AM GMT
Big decision of Punjab government in the interest of farmers, moong crop will now be bought at MSP
x

फाइल फोटो 

पंजाब सरकार ने किसानों के हित में एक बड़ा फैसला किया है. अब सरकार धान और गेहूं की तरह मूंग की फसल भी एमएसपी पर खरीदेगी.

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। पंजाब सरकार ने किसानों के हित में एक बड़ा फैसला किया है. अब सरकार धान और गेहूं की तरह मूंग की फसल भी एमएसपी (MSP-Minimum Support Prices) पर खरीदेगी. सरकार ने कहा है कि किसान मूंग के बाद धान की 126 और बासमती की फसल लगा सकते हैं. गेहूं और धान के बीच में एक और फसल एमएसपी पर खरीदने की पहल की गई है. मुख्यमंत्री भगवंत मान ने इस फैसले का एलान करते हुए कहा है कि किसान फसल विविधीकरण (Crop Diversification) की ओर ध्यान दें. सरकार हमेशा किसानों के साथ है. केंद्र सरकार ने मूंग का न्यूनतम समर्थन मूल्य 7275 रुपये प्रति क्विंटल घोषित किया हुआ है.

पंजाब में मुख्य तौर पर धान और गेहूं की फसल होती है. इसके लिए उसकी खूब आलोचना भी होती है. क्योंकि धान की बहुत अधिक खेती से जल संकट बढ़ रहा है. अब भगवंत मान सरकार फसल विविधीकरण पर फोकस कर रही है ताकि किसान धान और गेहूं की बजाय दूसरी फसलों की भी खेती करें. हालांकि, ऐसा तब होगा जब दूसरी फसलों को भी एमएसपी पर खरीदा जाए. मूंग को एमएसपी पर खरीदने का फैसला इसीलिए लिया गया है. बताया गया है कि नई सरकार बाजरा, मक्का और सूरजमुखी को भी एमएसपी पर खरीदेगी.
धान-गेहूं से हटेगा किसानों का ध्यान
जब एमएसपी पर खरीद होगी तो किसानों को अच्छा पैसा मिलेगा. अच्छा पैसा मिलेगा तो वो गेहूं और धान के साथ दूसरी फसलों पर भी फोकस करने लगेंगे. इससे पर्यावरण संकट कम होगा. सिर्फ धान और गेहूं खरीदने का दबाव कम होगा. बता दें कि धान की खेती की वजह से पैदा हुए जल संकट से परेशान पंजाब सरकार अब धान की सीधी बुवाई को प्रमोट कर रही है, ताकि पानी की बचत हो. इस नई तकनीक से खेती करने वाले किसानों को सरकार 1500 रुपये प्रति एकड़ की दर से प्रोत्साहन राशि भी दे रही है.
मिट्टी की उर्वरता बढ़ाने में मिलेगीमदद
कहा जा रहा है कि राज्य सरकार ने मूंग की फसल को एमएसपी पर खरीदने का दांव चलकर अच्छा किया है. पंजाब, हरियाणा, यूपी और एमपी ग्रीष्मकालीन मूंग के प्रमुख उत्पादक हैं. धान और गेहूं की फसल के फसल चक्र में फंसे क्षेत्रों में जायद मूंग की खेती से मिट्टी की उर्वरता बढ़ाने में भी मदद मिलेगी. फसल विविधीकरण पर केंद्र सरकार भी इसीलिए फोकस कर रही है.
धान और गेहूं खरीद में नंबर वन है पंजाब
रबी और खरीफ सीजन की प्रमुख फसलों गेहूं और धान की खरीद में पंजाब देश में पहले स्थान पर है. भारतीय खाद्य निगम (FCI) के अनुसार खरीफ मार्केटिंग सीजन 2021-22 में अब तक देश भर में 760 लाख मिट्रिक टन धान खरीदा गया है. इसमें से सबसे अधिक करीब 187 लाख मिट्रिक टन अकेले पंजाब से खरीदा गया है. इसके बदले वहां के किसानों को 36707 करोड़ रुपये एमएसपी के रूप में मिले हैं.
इसी प्रकार रबी मार्केटिंग सीजन 2022-23 में देश भर में 1 मई तक 161 लाख मिट्रिक टन गेहूं खरीदा गया है. जिसमें से 89 लाख मिट्रिक टन की हिस्सेदारी अकेले पंजाब की है. इसके बदले वहां के 737264 किसानों को 17954 करोड़ रुपये एमएसपी के तौर पर मिल चुके हैं.
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta