ओडिशा

ठेका श्रमिकों की शंकाएं आरएसपी अधिकारियों ने की दूर

Gulabi
20 Oct 2021 11:55 AM GMT
ठेका श्रमिकों की शंकाएं आरएसपी अधिकारियों ने की दूर
x
आरएसपी अधिकारियों ने की दूर

राउरकेला : ठेका श्रमिकों के लिए जागरूकता कार्यक्रम प्रयास का 39वां सत्र विगत 12 अक्टूबर को राउरकेला इस्पात संयंत्र (आरएसपी) परिसर में आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम में संयंत्र की विभिन्न इकाइयों से जुड़े 18 ठेका श्रमिकों ने भाग लिया। महा प्रबंधक (कार्मिक-सीएलसी) सीजी रामलिगम ने विचार-विमर्श सत्र में लाभ, ईएसआई और भविष्य निधि आदि जैसे वैधानिक प्रविधानों से संबंधित ठेका श्रमिकों की शंकाओं को स्पष्ट किया। सुरक्षा पर विशेष जोर दिया गया और व्यवहार आधारित सुरक्षा पर भी एक सत्र रखा गया जिसे वरिष्ठ प्रबंधक (कार्मिक-सीएलसी) अविनाश द्वारा लिया गया। उन्होंने कार्य स्थल पर सुरक्षित कार्य प्रक्रियाओं और सुरक्षा से संबंधित भूमिकाओं और जिम्मेदारियों के महत्व पर प्रकाश डाला। कार्यपालक सहायक (कार्मिक-सीएलसी) सावित्री साहू ने प्रतिभागियों को अधिकारों, लाभों, जिम्मेदारियों और वेतन संरचना, बैंक भुगतान, वेतन पर्ची, ईएसआइ और पीएफ कवरेज, चिकित्सा लाभ आदि जैसे मुद्दों पर जानकारी दी। प्रबंधक (कार्मिक-सीएलसी)संगीता एम सिदूर ने फिल्मों, वीडियो क्लिपिग और कहानियों के माध्यम से एसए-8000 के विभिन्न प्रविधानों जैसे बाल श्रम, बंधुआ मजदूर, स्वास्थ्य और सुरक्षित कार्य परिवेश, अधिकार, भेदभाव, काम के घंटे, सुरक्षा, मजदूरी आदि के बारे में बताया। श्रम निरीक्षक (कार्मिक सीएलसी) बीसी साहू और सीएलसी की टीम ने कार्यक्रम का संचालन किया।

विशेष रूप से, प्रयास एक संचार कार्यक्रम है जिसे आरएसपी द्वारा कंपनी में काम करने वाले ठेका श्रमिकों के कल्याण के लिए आयोजित किया जाता है जिसमें मानकों और प्रविधानों को सरल और स्पष्ट तरीके से समझाया जाता है। इस योजना के तहत अब तक 5 हजार 6 ठेका कर्मियों को शामिल किया जा चुका है। इस्पात दृष्टि दान आइ बैंक लोगों के लिए आशा की किरण : सेल, राउरकेला इस्पात संयंत्र (आरएसपी) के इस्पात जनरल अस्पताल (आइजीएच) में संचालित इस्पात दृष्टि दान नेत्र बैंक दृष्टिविहीन व्यक्तियों के लिए आशा की किरण बन गई है। उल्लेखनीय है कि, अस्पताल कॉर्नियल रिट्रीवल प्रोग्राम (एचसीआरपी) के तहत अप्रैल 2014 में स्थापित नेत्र बैंक ने अब तक 1514 कॉर्निया संग्रह और 1126 का प्रत्यारोपण किया है। चालू कैलेंडर वर्ष में नेत्र बैंक को अब तक 104 कॉर्निया दान में मिले हैं, जिनमें से 60 का प्रत्यारोपण किया गया, जिससे इन सारे लोगों के आंखों की रोशनी बहाल हो पाई है।

विशेष रूप से यह नेत्र बैंक एक गैर सरकारी संगठन नेत्र बैंक, दृष्टि दान के सहयोग से चलाया जा रहा है। यह कॉर्निया संग्रह के लिए अमूल्य विशेषज्ञ सर्जिकल हस्तक्षेप प्रदान कर रहा है।

गौरतलब है कि इस्पात दृष्टि दान नेत्र बैंक अत्याधुनिक सुविधाओं और उपकरणों से लैस है और कॉर्निया ट्रांसप्लांट करके अपूरणीय नेत्र रोग वाले व्यक्तियों की दृष्टि बहाल करने में सफल रहा है।
Next Story
© All Rights Reserved @ 2023 Janta Se Rishta