नागालैंड

नागालैंड हत्याकांड: नाराज नागा निकाय ने सेना, अर्ध-सैन्य आंदोलन पर लगाया 'अंकुश'

Gulabi
15 Dec 2021 10:02 AM GMT
नागालैंड हत्याकांड: नाराज नागा निकाय ने सेना, अर्ध-सैन्य आंदोलन पर लगाया अंकुश
x
नाराज नागा निकाय ने सेना
आदिवासी नेताओं ने कहा कि नगा नागरिक समाज संगठनों (Naga civil society organizations) ने नागालैंड के कोन्याक आदिवासी (Konyak tribal) बहुल इलाकों में सेना और अर्धसैनिक बलों की आवाजाही पर "पूर्ण प्रतिबंध" लगाना जारी रखा है। कोन्याक नागालैंड की 16 जनजातियों में प्रमुख हैं, जहां 20 लाख आबादी में से 86 प्रतिशत से अधिक आदिवासी समुदाय से हैं।
कोन्याक संघ (Konyak Unio) के अध्यक्ष एस. होइंग कोन्याक और अन्य आदिवासी नेताओं ने कहा कि KU सलाहकार बोर्ड की बैठक के दौरान पारित एक प्रस्ताव के अनुसार, नागरिक समाज संगठन (CSO) KU के 'असहयोग' के बैनर तले भारतीय सेना के खिलाफ कदम उठाते हैं और जब तक दोषियों को सजा नहीं मिल जाती तब तक अर्धसैनिक बल काम करते रहेंगे।
KU अध्यक्ष ने कहा कि सोम जिले के भीतर किसी भी सैन्य भर्ती रैली की अनुमति नहीं दी जाएगी और कोई भी कोन्याक युवा किसी भी भर्ती रैली में भाग नहीं लेगा। KU ने एक बयान में कहा कि सीएसओ सशस्त्र बल (विशेष शक्ति) अधिनियम, 1958 को निरस्त करने सहित चार सूत्रीय मांगों के समर्थन में विभिन्न रूपों में अपना आंदोलन जारी रखेगा।
बता दें कि 4 दिसंबर से, CSO राजधानी शहर कोहिमा सहित पूरे नागालैंड में विभिन्न स्मारक और विरोध कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं। कोन्याक नागरिक समाज संगठनों (Konyak civil society organizations) ने यहां कहा कि 4 दिसंबर की घटना के बचे लोगों और परिवार के सदस्यों सहित सभी 14 पीड़ितों को न्याय दिए जाने तक सरकार की ओर से कोई भी अनुग्रह या मुआवजा स्वीकार नहीं किया जाएगा।
Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it