मध्य प्रदेश

क्लास रूम में नमाज मामले की रिपोर्ट पेश, छात्रा ने आइंदा परिसर में धार्मिक गतिविधि नहीं करने का दिया वचन

Kunti Dhruw
1 April 2022 8:14 AM GMT
क्लास रूम में नमाज मामले की रिपोर्ट पेश, छात्रा ने आइंदा परिसर में धार्मिक गतिविधि नहीं करने का दिया वचन
x
सागर के सर हरिसिंह गौर केंद्रीय विश्वविद्यालय में एक छात्रा द्वारा हिजाब पहनकर नमाज पढ़ने के मामले में जांच कमेटी ने रिपोर्ट पेश कर दी है।

सागर के सर हरिसिंह गौर केंद्रीय विश्वविद्यालय में एक छात्रा द्वारा हिजाब पहनकर नमाज पढ़ने के मामले में जांच कमेटी ने रिपोर्ट पेश कर दी है। इसमें वायरल वीडियो के आधार पर जांच की गई थी और संबंधितों के बयान भी लिए गए। वहीं, इस मामले में नमाज पढ़ने वाली छात्रा ने लिखित में वचन दिया है कि अब आइंदा विश्वविद्यालय परिसर में कभी धार्मिक गतिविधि नहीं करेगी।

विगत 25 मार्च 2022 को सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें यह घटना सामने आई थी कि एक छात्रा ने एजुकेशन डिपार्टमेंट के क्लास रूम में हिजाब पहनकर नमाज पढी थी। इस पर विश्वविद्यालय ने छह सदस्यों की जांच कमेटी बनाई थी जिसने सम्बंधित प्रकरण के विभिन्न पक्षों की जांच की तथा छात्रा सहित सभी सम्बंधितों के बयान भी लिए.थे। जांच समिति ने सक्षम प्राधिकारी के समक्ष प्रतिवेदन प्रस्तुत किया।

छात्रा ने घटना स्वीकार की
बताया जाता है कि जांच समिति के समक्ष संबंधित छात्रा ने लिखित रूप में स्वीकार किया कि अनभिज्ञतावश उसने धार्मिक गतिविधि की। छात्रा ने भविष्य में विश्वविद्यालय परिसर में किसी भी तरह की धार्मिक गतिविधि न करने का लिखित वचन भी दिया है। सक्षम प्राधिकारी द्वारा जांच प्रतिवेदन के अवलोकन एवं अनुमोदनोपरान्त सम्बंधित छात्रा को इस आशय का निर्देश जारी किया गया है कि विश्वविद्यालय परिसर में छात्रा द्वारा भविष्य में उक्त प्रकार की धार्मिक गतिविधि न की जाए। न ही ऐसी गतिविधियों में सहभागिता की जाए। भविष्य में सम्बंधित छात्रा द्वारा उक्त प्रकार की धार्मिक गतिविधि किये जाने अथवा संलिप्तता पाए जाने पर नियमानुसार अनुशासनात्मक कार्रवाई की जा सकती है।
कुलसचिव के निर्देश जारी
विश्वविद्यालय के कुलसचिव संतोष सोहगौरा द्वारा इस सम्बन्ध में एक अधिसूचना भी जारी की गई है जिसमें यह निर्देशित किया गया है कि विश्वविद्यालय परिसर में छात्र-छात्राएं पठन-पाठन के अलावा ऐसी कोई गतिविधि न करें। न ही ऐसी गतिविधियों में भाग लें जिससे परिसर में अनावश्यक सांप्रदायिक तनाव का वातावरण निर्मित हो और पठन-पाठन का कार्य प्रभावित हो। सभी छात्र-छात्राएं धर्म से संबंधित अनुष्ठान अपने गृह, आवास अथवा धर्म स्थल पर ही करें। विश्वविद्यालय परिसर में शान्ति, सद्भाव, सौहार्द्र एवं अकादमिक वातावरण बनाए रखें। छात्र-छात्राओं द्वारा विश्वविद्यालय द्वारा जारी निर्देशों का उल्लंघन करने एवं अकादमिक वातावरण एवं साम्प्रदायिक सौहार्द को बिगाड़ने संबंधी गतिविधियों में संलिप्त पाए जाने पर नियमानुसार अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।


Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta