केरल

जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे गए केरल के 94 फीसदी नमूनों में ओमिक्रॉन वैरिएंट पाया गया, मंत्री वीणा जॉर्ज ने कही बड़ी बात

Renuka Sahu
28 Jan 2022 3:56 AM GMT
जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे गए केरल के 94 फीसदी नमूनों में ओमिक्रॉन वैरिएंट पाया गया, मंत्री वीणा जॉर्ज ने कही बड़ी बात
x

फाइल फोटो 

तिरुवनंतपुरम में पत्रकारों से चर्चा में केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीणा जॉर्ज ने कहा कि कोविड पॉजिटिव मरीजों की जीनोम सीक्वेंसिंग लगातार की जा रही है।

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे गए केरल के 94 फीसदी नमूनों में ओमिक्रॉन वैरिएंट के मरीज मिले हैं। बाकी नमूनों में डेल्टा वैरिएंट पाया गया है।

तिरुवनंतपुरम में पत्रकारों से चर्चा में केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीणा जॉर्ज ने कहा कि कोविड पॉजिटिव मरीजों की जीनोम सीक्वेंसिंग लगातार की जा रही है। 94 फीसदी मरीजों में ओमिक्रॉन और 6 फीसदी में डेल्टा वैरिएंट मिला है। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि केरल में तीसरी लहर 'ओमिक्रॉन लहर' है, यह स्पष्ट नहीं है।
चार फीसदी से कम को पड़ी भर्ती करने की जरूरत
केरल की मंत्री ने बताया कि राज्य के चार फीसदी से भी कम कोविड मरीजों को अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत पड़ी। जिन्हें भर्ती किया गया, उनमें से भी एक फीसदी से कम को ऑक्सीजन की जरूरत पड़ी। केरल के कुल पॉजिटिव मामलों में से केवल 3.6 प्रतिशत अस्पताल में भर्ती हैं। इनमें से 0.7 प्रतिशत को ऑक्सीजन बेड की आवश्यकता पड़ी और केवल 0.6 प्रतिशत को ही आईसीयू की आवश्यकता हुई।
जॉर्ज ने बताया कि राज्य के कुल सक्रिय केस में से 3.6 फीसदी को अस्पताल में भर्ती कराया गया। इनमें से 0.7 फीसदी को ऑक्सीजन की जरूरत पड़ी और 0.6 फीसदी को आईसीयू की। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार 27 जनवरी तक देश में कुल 22,02,472 सक्रिय केस थे। बीते सप्ताह नमूनों की सकारात्मकता दर 17.75 फीसदी थी। 11 राज्यों में 50 हजार से ज्यादा सक्रिय मामले थे। महाराष्ट्र, कर्नाटक व केरल में 3 लाख से ज्यादा सक्रिय मामले थे। मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि 14 राज्यों में 1 लाख से लेकर 50 हजार तक सक्रिय केस थे, जबकि 11 राज्यों में 10 हजार से कम सक्रिय केस थे।
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta