झारखंड

सावन के दूसरे सोमवार को पूरे प्रदेश में भक्ति का माहौल, स्वास्थ्य मंत्री ने भी भगवान शंकर को जल अर्पित किया

Bhumika Sahu
25 July 2022 10:23 AM GMT
सावन के दूसरे सोमवार को पूरे प्रदेश में भक्ति का माहौल, स्वास्थ्य मंत्री ने भी भगवान शंकर को जल अर्पित किया
x
सावन के दूसरे सोमवार को पूरे प्रदेश में भक्ति का माहौल

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। रांची ( झारखंड). झारखंड राज्य में सावन के महीने में आने वाले सोमवार का विशेष महत्व होता है। सावन की दूसरी सोमवारी को जमशेदपुर, रांची, चक्रधरपुर सहित पूरे राज्य के शिवालयों में भक्तों की भीड़ उमड़ी। पूरे राज्य में भक्तिमय माहौल देखने को मिला। आम भक्तों के अलावा कई राजनीतिक लोगों ने भी भगवान शंकर को जल अर्पित किया और राजय और अपने क्षेत्र की खुशहाली की कामना की। तस्वीरों में देखिए राज्य में सावन पूजा का नजारा....

झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री ने किया शिव अभिषेक
श्रावण माह की दूसरी सोमवारी पर शिवालयों में शिव भक्तों का तांता लगा हुआ है। सूबे के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कई शिव मंदिरों में जाकर पूजा अर्चना की तथा राज्य की खुशहाली की कामना की। सोमवार की सुबह उन्होंने अपने विधानसभा क्षेत्र के दाईगुटू में स्थित नया शिव मंदिर में रूद्राभिषेक किया। उसके बाद शिरोमणनगर स्थित श्री श्री शिरोमणि अमरनाथ मंदिर में भगवान शिव की पूजा अर्चना की।
राज्य के चर्चित विधायक सरयू राय ने की पूजा-अर्चाना
जमशेदपुर पूर्वी के विधायक सरयू राय भी अपने कार्यकर्ताओं के साथ बारीडीह स्थित प्राचीन शिव मंदिर पहुंचे और पूजा अर्चना की। उन्‍होंने भोलेनाथ से सभी की परेशानी खत्म करने की कामना की। सरयू राय ने हर-हर महादेव, हर-हर भोले, बोल बम का नारा लगाकर मंदिर में प्रवेश किया। राय ने पूजा अर्चना के बाद बताया कि शंकर जी को जल व दूध के अलावा बेलपत्र और फूल माला भी चढ़ाया जाता है। सावन के महीने का साल भर लोगों को इंतजार रहता है। भोलेनाथ सभी की मनोकामना पूरी करते हैं। उन्होंने राज्य के विकास की कामना भगवान भोलेनाथ से की है।
राज्य के शिवालयों में उत्साहित श्रद्धालु...
सरायकेला में खरकई नदी किनारे कुदरसाही स्थित बाबा सिद्धेश्वर महादेव एवं माजनाघाट के बाबा पंचमुखी महादेव के मंदिरों में भक्तों की भीड़ उमड़ी। जलाभिषेक को लेकर श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। सुबह से ही हर-हर महादेव के जयघोष के साथ मंदिरों में भक्तों ने भगवान शिव पर जलाभिषेक करना शुरू कर दिया था। वहीं, जगन्नाथपुर के प्राचीन योगेश्वर महादेव मंदिर में सुबह से ही भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी थी। इनमें महिलाओं की संख्या सबसे अधिक देखने को मिली।


Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta