झारखंड

डॉक्टरों ने दो सिर वाले बच्चे को दिया जीवनदान, ऑपरेशन कर एक सिर को हटाया, अब टीम ने लिया गोद

Kunti
25 Nov 2021 10:07 AM GMT
डॉक्टरों ने दो सिर वाले बच्चे को दिया जीवनदान, ऑपरेशन कर एक सिर को हटाया, अब टीम ने लिया गोद
x
रांची में एक निर्दयी मां अपने दुधमुंहे बच्चे को जन्म के साथ ही छोड़कर भाग गई।

रांची में एक निर्दयी मां अपने दुधमुंहे बच्चे को जन्म के साथ ही छोड़कर भाग गई। फर्जी पता के साथ हॉस्पिटल में एडमिट हुई मां ने नवजात को उसके हिस्से का पहला दूध तक नहीं पिलाया। उसका कसूर बस इतना था कि वह जन्म से ओसिपिटल मेनिनजो इंसेफालोसिल नामक बीमारी से पीड़ित था।

इस बीमारी में सिर के पीछे का भाग बाहर निकलकर एक थैली की तरह बन जाता है, और यह दो सिर की तरह दिखता है। यह हिस्सा ब्रेन और स्किन से भी जुड़ा रहता है। बताया जाता है कि महिला 15 दिन पहले बोकारो का पता लिखवाकर राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (RIMS) रांची में एडमिट हुई थी। बच्चा होने के बाद वह चुपके से निकल गई। बच्चे की रोने की आवाज सुनकर सिस्टर गई तो देखा कि मां उसके साथ नहीं थी। काफी खोजबीन की गई। नहीं मिली तो अस्पताल प्रबंधन ने पुलिस से संपर्क किया। जब उसके पते की जांच की गई तो फर्जी पाया गया। इसके बाद डॉक्टरों की एक टीम ने उसे गोद लेने का निर्णय लिया।
ऑपरेशन कर उसके सिर से अतिरिक्त हिस्से को हटा दिया। फिलहाल मासूम ICU में है। 10 दिन बाद उसे छुट्‌टी मिल जाएगी। अभी बच्चे की देखरेख करुणा संस्था कर रही है। यह डॉक्टरों की ओर से संचालित एक NGO है।2 घंटे के ऑपरेशन के बाद हटाया गया दूसरा सिर, सब कुछ फ्री
RIMS में न्यूरो सर्जरी विभाग के डॉ. सहाय ने बताया, 'डॉक्टरों की टीम ने 2 घंटे तक ऑपरेशन कर बच्चे के सिर से अतिरिक्त गठरी को हटा दिया है। दवा से लेकर जांच तक सब कुछ फ्री है। ऑपरेशन में मेरे अलावा डॉ. पीयूष, डॉ. तारीक, डॉ. विकास, डॉ. गौरव और डॉ. मनीषा कुमार समेत अन्य SR व JR शामिल थे।'
Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it