हिमाचल प्रदेश

नॉर्वे और आइसलैंड देशों की तरह ही भारत में भी अब गर्म पानी के स्रोतों से बिजली तैयार की जाएगी

Sonali
26 Nov 2021 9:49 AM GMT
नॉर्वे और आइसलैंड देशों की तरह ही भारत में भी अब गर्म पानी के स्रोतों से बिजली तैयार की जाएगी
x
अब भारत में भी गर्म पानी के प्राकृतिक स्रोतों से बिजली तैयार की जाएगी. इस तकनीक में महारत हासिल कर चुके देशों की इसमें मदद ली जाएगी. नॉर्वे और आइसलैंड की तकनीक पर यह कार्य किया जाएगा

जनता से रिश्ता। अब भारत में भी गर्म पानी के प्राकृतिक स्रोतों से बिजली तैयार की जाएगी. इस तकनीक में महारत हासिल कर चुके देशों की इसमें मदद ली जाएगी. नॉर्वे और आइसलैंड की तकनीक पर यह कार्य किया जाएगा और प्रथम चरण में लद्दाख में इस कार्य में कुछ हद तक सफलता भी हाथ लगी है. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी हमीरपुर (National Institute of Technology Hamirpur) के विशेषज्ञ प्रोफेसर राजेश्वर सिंह बांशटू जियो थर्मल एनर्जी (Geo thermal energy) के एक प्रोजेक्ट पर साल 2017 से कार्य कर रहे हैं.

माइनस डिग्री तापमान वाले लद्दाख के चूमाथंग में भी गर्म पानी के स्रोत से नॉर्वे और आइसलैंड की तकनीक पर ही कार्य करते हुए गर्म पानी के स्रोत की हीट का इस्तेमाल कमरों को गर्म करने के लिए किया जा रहा है. यहां पर स्थित एक रेस्टोरेंट के करीब 2 कमरों तथा एक हॉल को माइनस 20 डिग्री तापमान में भी गर्म किया जा रहा है. बाहर तापमान माइनस डिग्री में है, जबकि इन कमरों में तापमान 20 डिग्री के लगभग गर्म पानी के स्रोत से निकल रही हीट से मेंटेन रखा गया है. इस प्रोजेक्ट पर लगभग 17 लाख रुपए खर्च किए गए हैं.आईसलैंड और नॉर्वे देशों में गर्म पानी के स्रोत (Hot Water Sources) से ही बिजली सालों से तैयार की जा रही है. यहां पर गर्म पानी के स्रोत से बिजली (Electricity from hot water source) तैयार करने की तकनीक बेहद उन्नत है. इस तकनीक के जरिए ही लद्दाख में स्थित चुमाथंग गर्म पानी के स्रोत (Chumathang Hot Spring) में आइसलैंड और नॉर्वे से आयात किए गए अत्याधुनिक उपकरण स्थापित किए गए हैं. हीट एक्सचेंजर तकनीक (Heat Exchanger Technology) के जरिए ही गर्म पानी के स्रोत से हिट को इस रेस्टोरेंट तक पहुंचाया जा रहा है.
भारत सरकार के डिपार्टमेंट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी (Department of Science and Technology) ने एनआईटी हमीरपुर (NIT Hamirpur) के विशेषज्ञ प्रोफेसर राजेश्वर सिंह, आइसलैंड सरकार के जूलॉजिकल सर्वे (Zoological survey of Iceland) और नॉर्वे सरकार के जियो टेक्निकल इंस्टीट्यूट (Geo Technical Institute of Norway) की मदद से इस प्रोजेक्ट को स्थापित किया है. चूमाथंग में गर्म पानी के स्रोत में सफल रूप से प्रोजेक्ट स्थापित करने के बाद अब नोमेडिक रेजिडेंशियल स्कूल पुगा (Nomadic Residential School Puga) में गर्म पानी के स्रोत का इस्तेमाल करने की योजना है. यदि भारत सरकार की तरफ से इसके लिए कदम उठाए जाते हैं तो आने वाले दिनों में स्कूल में रहने वाले दर्जनों छात्रों को माइनस डिग्री तापमान में भी गर्म वातावरण मिल पाएगा.


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it