हिमाचल प्रदेश

हिमाचल : केंद्रीय मंत्रालय अब खुद देखेगा दो नेशनल हाई-वे के कंसलटेंसी टेंडर, नाहन शहर की अंडर ग्राउंड टनल के टेंडर रद्द

Renuka Sahu
7 Sep 2022 5:39 AM GMT
Himachal: The Union Ministry will now itself see the consultancy tenders of two National Highways, cancellation of the tender for underground tunnel of Nahan city
x

न्यूज़ क्रेडिट : divyahimachal.com

जिला सिरमौर के तहत दो नेशनल हाई-वे व नाहन शहर के नीचे अंडर ग्राउंड टनल के सर्वे को लेकर जो टेंडर प्रक्रिया स्टेट लेवल पर नेशनल हाई-वे द्वारा अमल में लाई गई थी उस टेंडर प्रक्रिया को केंद्रीय मंत्रालय ने फिलहाल रद्द कर दिया है।

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। जिला सिरमौर के तहत दो नेशनल हाई-वे व नाहन शहर के नीचे अंडर ग्राउंड टनल के सर्वे को लेकर जो टेंडर प्रक्रिया स्टेट लेवल पर नेशनल हाई-वे द्वारा अमल में लाई गई थी उस टेंडर प्रक्रिया को केंद्रीय मंत्रालय ने फिलहाल रद्द कर दिया है। अब केंद्र सरकार का सडक़ परिवहन एवं भूत्तल मंत्रालय नेशनल हाई-वे कालाअंब-पांवटा साहिब-07 के अलावा नेशनल हाई-वे नाहन-कुम्हारहट्टी 907 ए व नाहन शहर के नीचे जो अंडर ग्राउंड सुरंग नाहन बाइपास के उद्देश्य से बननी थी उसके टेंडर की प्रक्रिया स्वयं करेगा। इसका मुख्य कारण यह बताया जा रहा है कि कालाअंब-पांवटा साहिब एनएच-07 को फोरलेन करने को लेकर केंद्र सरकार का संबंधित मंत्रालय कार्य योजना तैयार कर रहा है। इसके अलावा नाहन-कुम्हारहट्टी नेशनल हाई-वे के फोरलेन को भी निविदाएं आमंत्रित की गई थी। नाहन शहर जो कि सिरमौर जिला का मुख्यालय है, वहां पर किस प्रकार नाहन शहर को भारी वाहनों व ऐसे वाहनों से निजात दिलाई जाए तो सीधे नाहन-पांवटा, नाहन-चंडीगढ़ या शिमला की ओर जाना चाहते हैं इस दृश्य से नाहन शहर के नीचे बाइपास के लिए अंडर ग्राउंड टनल के निर्माण के लिए देश की नामी कंपनियों से सर्वे के लिए टेंडर आमंत्रित किए गए थे। टेंडर की यह प्रक्रिया केंद्रीय मंत्रालय द्वारा नेशनल हाई-वे के स्टेट विंग को दी गई थी। इन तीनों ही बड़ी परियोजनाओं के सर्वे के टेंडर की अधिकांश औपचारिकताएं पूरी कर ली गई थी, परंतु अब फिलहाल कालाअंब-पांवटा साहिब नेशनल हाई-वे-07 जिसकी दूरी करीब 60 किलोमीटर के आसपास है के फोरलेन के सर्वे के टेंडर को स्टेट नेशनल हाई-वे के दायरे से बाहर कर रद्द कर दिया है। इसके अलावा नाहन-कुम्हारहट्टी नेशनल हाई-वे-907ए जिसकी दूरी करीब 65 किलोमीटर है के फोरलेन के सर्वे के टैंडर को भी स्टेट नेशनल हाई-वे के दायरे से बाहर कर रद्द कर दिया गया है।

इसके अलावा नाहन शहर को भारी वाहनों से निजात दिलाने के लिए नाहन शहर के नीचे अंडर ग्राउंड टनल की एक बड़ी परियोजना तैयार की गई थी। इस परियोजना के सर्वे के टैंडर की प्रक्रिया भी नेशनल हाई-वे के स्टेट विंग द्वारा अमल में लाई जा रही थी। विभागीय जानकारी के मुताबिक केंद्र सरकार के सडक़, परिवहन एवं भूत्तल मंत्रालय के अधीन नेशनल हाई-वे अथॉरिटी ऑफ इंडिया अब स्वयं इन दोनों ही नेशनल हाई-वे के फोरलेन के सर्वे के टैंडर की प्रक्रिया अमल में लाएगा। इसके अलावा नाहन शहर को किस प्रकार भारी यातायात से निजात दिलाया जाए तथा शहर के नीचे वाहनों के लिए सुरंग की फिजिबिलिटी संभव है या नहीं इस बड़ी परियोजना के सर्वे के टैंडर भी अब नेशनल हाई-वे अथॉरिटी ऑफ इंडिया स्वयं देखेगी। नेशनल हाई-वे नाहन मंडल के अधिशाषी अभियंता ईं. प्रमोद उप्रेती ने बताया तिक नेशनल हाई-वे कालाअंब-पांवटा साहिब-07 के अलावा नेशनल हाई-वे नाहन-कुम्हारहट्टी के फोरलेन के जो कंसलटेंसी सर्वे टेंडर की प्रक्रिया स्टेट नेशनल हाई-वे के अधीन चल रही थी उसे केंद्रीय मंत्रालय ने फिलहाल निरस्त कर दिया है। नाहन शहर के अंतर्गत अंडर ग्राउंड टनल के कंसलटेंसी टेंडर भी अब केंद्रीय मंत्रालय ने निरस्त कर दिए हैं।
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta