गुजरात

नदियों के सम्मान और संरक्षण के लिए गुजरात सरकार ने शुरू किया 'नदी उत्सव'

Kunti Dhruw
27 Dec 2021 3:37 PM GMT
नदियों के सम्मान और संरक्षण के लिए गुजरात सरकार ने शुरू किया नदी उत्सव
x
गुजरात सरकार ने राज्य के विकास में नदियों के योगदान को सम्मान देने और उनके संरक्षण के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए रविवार को ‘नदी उत्सव’ की शुरुआत की।

सूरत: गुजरात सरकार ने राज्य के विकास में नदियों के योगदान को सम्मान देने और उनके संरक्षण के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए रविवार को 'नदी उत्सव' की शुरुआत की। आधिकारिक विज्ञप्ति के मुताबिक मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने खुद राज्य स्तर के इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया और तापी नदी के किनारे देवी तापी की वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ पूजा अर्चना की।

विज्ञप्ति के मुताबिक पटेल ने इस मौके पर कहा कि राज्य सरकार सूरत में तापी नदी के किनारे रिवर फ्रंट बनाने को प्रतिबद्ध है। यह कार्यक्रम पूरे देश में मनाए जा रहे 'आजादी का अमृत महोत्सव' के तहत नदियों का सम्मान करने के लिए आयोजित किया गया। मुख्यमंत्री पटेल ने कहा कि नदी उत्सव, नदियों के आसपास बिखरी गौरवमयी संस्कृति को पुनर्जीवित करने की कोशिश है।
उन्होंने कहा, 'हमारी नदियां राज्य के अद्वितीय विकास की शांत गवाह हैं। नदियां ही मानव सहित कई प्रजातियों के लिए ताजे पानी का स्रोत हैं। यह हमारा कर्तव्य है कि इन जीवन-दायक नदियों को भविष्य की पीढि़यों के लिए, पर्यावरण बचाने के लिए संरक्षित किया जाए।' विज्ञप्ति के मुताबिक 26 से 30 दिसंबर के बीच नदी उत्सव के तहत पूरे राज्य में नदियों और पेड़ों सहित प्राकृतिक संसाधनों के सरंक्षण के लिए जागरूकता फैलाई जाएगी।
मुख्यमंत्री पटेल के सूरत दौरे के दौरान उनके साथ केंद्रीय रेल राज्यमंत्री दर्शना जरदोश भी थीं। इस दौरान उन्होंने अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए चौरायसी तालकुा के वकटाना गांव में कार्यशाला का दौरा किया।
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta