छत्तीसगढ़

शपथ से पहले गुंडे-बदमाशों के ठिकानों पर चला योगी का बुलडोजर

Janta Se Rishta Admin
17 March 2022 5:27 AM GMT
शपथ से पहले गुंडे-बदमाशों के ठिकानों पर चला योगी का बुलडोजर
x
  1. यूपी से खदेड़े गए अपराधियों का पनाहगाह बन रहा छत्तीसगढ़
  2. सूरजपुर, भटगांव, रायपुर के बिरगांव, टाटीबंध और छग का अन्य स्थल बना शरणस्थल

जसेरि रिपोर्टर

रायपुर। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शपथ के पहले ही अपना जलवा दिखाना शुरू कर दिया है। यूपी में गुंडे-बदमाशों के ठिकानों बुलडोजर चलवा कर उन्हें आत्मसमर्पण के लिए मजबूर कर दिया है। और जो आत्मपसमर्पण नहीं कर रहे वो छत्तीसीगढ़ को सुरक्षित ठिकाना मानकर चुनाव से पहले खुद आ गए अब चुनाव परिणाम के बाद अपनी संपत्ति को बेचकर अपने परिवार के साथ छत्तीसगढ़ के विभिन्न जिलों में मकान-दुकान खरीद कर पक्का ठिकाना बना लिया है। जिसकी पुष्टि पुलिस ने अपने धरपकड़ अभियान में लगातार गांजा,शराब की तस्करी में संलिप्त लोगों से पूछताछ कर की है।

यूपी के अपराधियों में दिखा खौफ, थाने में लाइन लगाकर भरी हाजिरी

सीएम योगी आदित्यनाथ के शपथ लेने से पहले अपराधियों में खौंफ देखने को मिल रहा है। दरअसल, सहारनपुर में थाना चिलकाना में हिस्ट्रीशीटरों और गैंगस्टरों की लाइन लग गई। कारण था पुलिस की दबिश और बुलडोजर का खतरा। दबिश दी, तो 12 हिस्ट्रीशीटर थाने पहुंच गए। सभी ने लाइन लगाकर हाजरी भरी। पुलिस के अनुसार, सभी 20 सालों से हिस्ट्रीशीटर हैं। बता दें कि थाने में हाजिरी भरने आने वाले हिस्ट्रीशीटरों की उम्र 60 साल के पार है। सभी पुराने औऱ नामी अपराधी हैं। पुलिस के अनुसार, जब इनके घर पर दबिश दी तो यह हाजिरी देने पहुंचे। वहीं हिस्ट्रीशीटरों ने हाथ जोड़कर बोले, कि हम तो पहले ही अपराध छोड़ चुके हैं। लेकिन हमारे घर पर दबिश फिर भी दी जा रही है। सभी हिस्ट्रीशीटरों का थाने के बोर्ड पर भी नाम है। थाना इंचार्ज ने दी नसीहत होली और मुस्लिमों का शबेबारात त्योहार एक ही दिन है। ऐसे में थाना चिलकान इंचार्ज सत्येंद्र राय ने लाइन लगवाकर सभी हिस्ट्रीशीटरों से हाजिरी लगवाई। वहीं सभी को हिदायत दी कि वह थाने में आकर अपनी हाजिरी भरें। हाजिरी नहीं लगाने वालों के खिलाफ कठोर कदम उठाए जाएंगे। कानून का पाठ पढ़ाते हुए कहा कि यदि किसी भी मामले में कोई संलिप्तता पाई गई तो सीधा जेल भेजा जाएगा।

मरम्मत के बाद काम पर लौटा बुलडोजर

हापुड़ में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार आते ही भू-माफियाओं की काली कमाई पर बुलडोजर चलने लगा है। योगी 2.0 मंत्रिमंडल के शपथ ग्रहण से पहले ही हापुड़ में भू-माफियाओं के अवैध कब्जे पर बाबा का बुलडोजर चला। इससे पहले मेरठ में फरार इनामी और कानपुर में अवैध निर्माण पर बुलडोजर चला था। अब हापुड़ के गढ़मुक्तेश्वर नगर पालिका परिषद की सरकारी जमीन पर भू माफियाओं के अवैध कब्जे पर योगी सरकार का बुलडोजर चल गया है. दरअसल, बृजघाट के महामृत्युंजय धाम व शनि मंदिर के पास नगर पालिका की भूमि पर पिछले कुछ महीनों से भू-माफियाओं ने अवैध तरीके से कब्जा कर रखा था। वहीं पुजारी कृष्णकांत भट्ट का आरोप है, उसे भी कई तरह की धमकियां दी जा रही थी, जिसके बाद उत्तर प्रदेश सरकार के संज्ञान में मामला आते ही तत्काल प्रभाव से कार्रवाई शुरू हो गइ। शिकायत के बाद गढ़मुक्तेश्वर के एसडीएम अरविंद द्विवेदी ने अवैध रूप से की गई प्लॉटिंग के कब्जे पर बुलडोजर चलाने के आदेश दे दिए. इसके बाद प्रशासन ने बृजघाट के महामृत्युंजय धाम व शनि मंदिर के पास नगर पालिका की जमीन को कब्जा मुक्त करने की कार्रवाई शुरू कर दी। प्रदेश में फिर से योगी सरकार बनने के बाद से बुलडोजर चलने का सिलसिला जारी है। इससे पहले मेरठ में पुलिस कस्टडी से फरार ढाई लाख के इनामी बदन सिंह बद्दो के अवैध मार्केट पर बुलडोजर चला था।

कुख्यात बदन सिंह बद्दो का कब्जा मुक्त कराया

मेरठ के थाना टीपी नगर इलाके के जगन्नाथपुरी में पहुंचे। वहां कुख्यात बदन सिंह बद्दो और उसके सहयोगी के द्वारा कब्जा की गई पार्क की जमीन को कब्जा मुक्त कराया गया. पुलिस का कहना था कि यह जो कार्यवाही हुई है, यह पार्क की जमीन थी और अभी भी पार्क की जमीन है। इससे पहले कानपुर में तालाब की जमीन पर अवैध कब्जा हटाने के लिए बुलडोजर चलाया गया. कथित रूप से तालाब की जमीन पर अवैध कब्जा कर भू-माफिया की ओर से 1750 वर्ग मीटर भूमि पर कराए गए अवैध निर्माण को कानपुर डेवलपमेंट अथॉरिटी (केडीए) की टीम ने ध्वस्त करा दिया. कहा जा रहा है कि जिस भू माफिया विष्णु कुमार यादव उर्फ पंगू यादव ने इस जमीन पर अवैध अतिक्रम किया था, वह सपा से जुड़ा है विष्णु की सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ तस्वीर भी सामने आई है। बताया जाता है कि बर्रा 6 आवासीय योजना के तहत प्राचीन शिव मंदिर के समीप तालाब की जमीन पर अवैध निर्माण कराया गया था।

अपराधियों ने थाने में लगाई हाजिरी, खाई ये कसम

सहारनपुर में हिस्ट्रीशीटरों और गैंगस्टरों में योगी आदित्यनाथ का खौफ देखने को मिल रहा है. यहां के चिलकाना थाना में हिस्ट्रीशीटरों और गैंगस्टरों ने लाइन लगाकर अपनी हाजिरी दर्ज करवाई। अपराधियों ने फिर से अपराध ना करने की कसम खाई। वहीं थाना इंचार्ज भी इन्हें कानून का पाठ पढ़ाते दिखे। दरअसल, इन अपराधियों के डर का कारण पुलिस की दबिश और बुलडोजर का खतरा है। हिस्ट्रीशीटरों को डर भी है कि कहीं घर पर बुलडोजर न चल जाए, इसीलिए वे मंगलवार को थाने पहुंच गए। सभी ने लाइन लगाकर हाजिरी भरी. जानकारी के मुताबिक, थाने में हाजिरी भरने आने वाले हिस्ट्रीशीटरों की उम्र 60 साल के पार है। सभी पुराने अपराधी हैं।

होली और शबेबारात त्योहार एक ही दिन होने के कारण थाने के इंचार्ज सत्येंद्र राय ने लाइन लगवाकर सभी हिस्ट्रीशीटरों से हाजिरी लगवाई।

पंडरी पुलिस को सख्त होने की जरूरत

रायपुर में सुपारी किलर की मौजूदगी चिंताजनक है। पिछले दिनों रायपुर में एक प्रॉपर्टी डीलर पर जानलेवा हमला किया गया, इतना ही नहीं आरोपी ने घायल की मदद करने वाले लोगों पर भी हमला किया है। राजधानी के पॉश कालोनी जहाँ पर बड़े बड़े उद्योगपति , मंत्री और नेताओं का निवास है उस जगह पर इस प्रकार की घटना राजधानी की सुरक्षा व्यवस्था पर प्रश्न खड़ा कर रहा है। पकड़ा गया सुपारी किलर अपराधी स्वयं कबूल कर रहा है कि 50 हजार की सुपारी की पहली किश्त लेकर चाकू मारा है । इस पर भी पंडरी पुलिस का कहना है कि ये आपसी मामला है। पुलिस इस गंभीर मामले को भी हल्के में ले रही है जबकि अपराधी से कड़ाई से पूछ-ताछ कर सुपारी देने वाले तक पहुंचना चाहिए। और मामले का खुलासा करना चाहिए। एक समय ऐसा आएगा जब बिहार यूपी से आए बदमाश पुलिस के लिए सबसे बड़ी चुनौती साबित होंगे । राजधानी में जिस रफ्तार से पिछले तीन महीने अपराध का ग्राफ बढ़ा है और प्रापर्टी डीलर की हत्या की कोशिश की गई थी उसे पुलिस सामान्य घटना मानकर हल्के में ले रही है। तस्करी से लेकर चाकूबाजी के मामले में जो आरोपी पकड़े गए उनका कनेक्शन सीधे यूपी से होने का खुलासा खुद पुलिस कर रही है। ये लोग यहां कमाने-खाने आकर मेहनत मजदूरी कम अपराध को ज्यादा अंजाम दे रहे है। मामूली जमानती धारा के अपराध में निजी मुचलके पर छोड़ दिया जा रहा है। जिसके कारण गुंडे बदमाशों के हौसले बुलंद होते जा रहे हैं। साथ ही अपराधियों से पुलिसवालों से जान पहचान बढऩे से कही भी फंसने पर पुलिस वाले का नाम बताकर थाने से निकल जाते है।

मिड-डे अखबार जनता से रिश्ता में किसी खबर को छपवाने अथवा खबर को छपने से रूकवाने का अगर कोई व्यक्ति दावा करता है और इसके एवज में रकम वसूलता है तो इसकी तत्काल जानकारी अखबार प्रवंधन और पुलिस को देवें और प्रलोभन में आने से बचें। जनता से रिश्ता खबरों को लेकर कोई समझोता नहीं करता, हमारा टैग ही है-

जो दिखेगा, वो छपेगा...

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta