छत्तीसगढ़

अंतर्राष्ट्रीय 'बालिका दिवस' पर हुए विविध कार्यक्रम आयोजित 11 अक्टूबर को

Janta Se Rishta Admin
13 Oct 2021 12:20 PM GMT
अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस पर हुए विविध कार्यक्रम आयोजित 11 अक्टूबर को
x

रायपुर। अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस 11 अक्टूबर को रायपुर जिले के विभिन्न स्कूलों जे.आर दानी गल्र्स स्कूल, नवीन सरस्वती गर्ल्स स्कूल, शासकीय उच्चतर माध्यम स्कूल सिलतरा, धरसीवा, सिवनी, अभनपुर, सर्वोदय उच्चतर माध्यम विद्यालय फरफौद आरंग एवं प्रियदर्शनी शास. कन्या उच्च. माध्यमिक विद्यालय तिल्दा-नेवरा रायपुर में पी.सी.पी.एन.डी.टी. एक्ट के तहत विभिन्न कार्यक्रमों जैसे भाषण, पेंटिंग, पोस्टर, वाद-विवाद, निबंध आदि का आयोजन किया गया। इन कार्यक्रमों के विजेता प्रतिभागियों को कल 12 अक्टूबर को रेडक्राॅस सोसायटी में प्रतीक चिन्ह, प्रमाण-पत्र और मेडल देकर सम्मानित किया गया।

उल्लेखनीय है कि अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस हर साल 11 अक्टूबर को मनाया जाता है। इसका मूल उद्देश्य बालिकाओं के सामने आने वाली चुनौतियों और उनके अधिकारों के बारे में जागरूकता बढ़ाना है। उल्लेखनीय है कि बाल विवाह प्रथा, दहेज और कन्या भु्रण हत्या जैसी रूढ़िवादी प्रथाआंे ने बालिकाओं को खुब सताया गया है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बालिका दिवस मनाने की पहल एक गैर सरकारी संगठन 'प्लान इंटरनेशनल प्रोजेक्ट के रूप में की गई है। इसके माध्यम से 'बिकॉज आई एम गल्र्स' एक अभियान भी शुरू किया गया। संयुक्त राष्ट्र ने 19 दिसम्बर 2011 को इस प्रस्ताव को पारित किया। पहली बार अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस 11 अक्टूबर 2012 को मनाया गया। बालिकाएं आज बालकों से एक कदम आगे है, लेकिन फिर भी वे भेदभाव के शिकार है। इसीलिए यह कहा जा रहा है कि-

'बेटियां भरेगी ऊंची उड़ान, चाहिए बस खुला आसमान' 'बेटी है कुदरत का उपहार, मत करो इसका तिरस्कार'

सम्मान समारोह में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मीरा बघेल ने बालिकाओं को संतुलित भोजन और आयरन फोलिक एसिट टेबलेट की जानकारी दी तथा हिमोग्लोबिन के स्तर को ऊंचा बनाए रखने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि स्वस्थ्य शरीर में स्वस्थ्य मन का वास होता हैं।

जिला कार्यक्रम प्रबंधक मनीष मजरवार ने प्रश्न-उत्तरी एवं प्रतियोगिता के माध्यम से उनके शारीरिक एवं मानसिक विकास पर जोर दिया। पी.सी.पी.एन.डी.टी. एक्ट के तहत जिला सलाहकार डॉ. प्रगति जायसवाल ने बताया कि गर्भधारण पूर्व लिंग चयन एवं प्रसव पूर्व लिंग परीक्षण एक दंडनीय अपराध है। प्रमाणित होने पर 5 वर्ष का कैद और 1 लाख तक जुर्माने का प्रावधान है। धरसीवा ब्लौक से ब्लॉक कार्यक्रम प्रबंधक जुबेदा अनवर खान एवं अभनपुर ब्लॉक से अश्वनी पाण्डे, ब्लॉक कार्यक्रम प्रबंधक उपस्थित थे।

Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it