छत्तीसगढ़

बृजमोहन जान ले रमन सरकार की बिदाई के साथ छग में किसानों के शोषण का युग समाप्त हो गया - कांग्रेस

Admin2
21 May 2021 3:15 PM GMT
बृजमोहन जान ले रमन सरकार की बिदाई के साथ छग में किसानों के शोषण का युग समाप्त हो गया - कांग्रेस
x

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा कि किसानहित में शानदार काम करने वाली भूपेश बघेल सरकार पर किसानों के साथ अन्याय और छल करने का बृजमोहन अग्रवाल का आरोप पूरी तरीके से झूठा और निराधार , सिर्फ उनकी और भाजपा की खीझ को प्रदर्शित करता है ।शपथ लेने तीन घण्टे भीतर ही मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने किसानों के हित में निर्णय लेना शुरू कर दिया था।किसानों का कर्ज माफ किया।किसानों से छल और अन्याय भाजपा की फितरत कांग्रेस ने हमेशा किसान हित में काम किया है और भाजपा ने किसानों से धोखाधड़ी की है।भाजपा ने ₹300 बोनस 5 साल तक, ₹2100 समर्थन मूल्य में धान की खरीद , ₹270 बोनस, 5 हॉर्स पावर किसान के पंप की बिजली माफ जैसे अनेक वादे किए जिन्हें भाजपा ने कभी पूरा नहीं किया।

कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा कि छत्तीसगढ़ के किसानों को अभी भी याद है कि भाजपा ने बहुत पहले भाजपा का कहना था हर किसान का कर्जा माफ कहा था और नहीं किया जबकि कांग्रेस ने किसानों की कर्ज माफी का वादा बखूबी निभाया है

बृजमोहन अग्रवाल 25 सौ रुपए की बात करने का कोई नैतिक अधिकार नहीं रखते हैं क्योंकि बृजमोहन अग्रवाल की ही पार्टी भाजपा की केंद्र सरकार ने ₹25 00समर्थन मूल्य देने पर रोक लगाने का काम किया है और उस समय बृजमोहन अग्रवाल के मुंह से किसानों के समर्थन में कभी एक शब्द भी नहीं फूटा और आज बृजमोहन इस पर राजनीति करने की कोशिश कर रहे हैं इसके लिए उन्हें छत्तीसगढ़ के किसान और छत्तीसगढ़ के लोग कभी माफ नहीं करेंगे।

भाजपा विधायक एवं पूर्व कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने किसानों के धान के कीमत पर ₹1000 प्रति एकड़ कटौती को किसानों के साथ अन्याय व छल बताते हुए कहां के यह योजना राजीव गांधी किसान अन्याय योजना हैं ।जिसमें सिर्फ और सिर्फ किसानों के साथ छल कपट व अन्याय किया जा रहा है। 25 सौ रुपये में एक एक दाना धान खरीदी की बात करने वाली सरकार पहले एक-एक दाना धान खरीदने के वादा से मुकरी अब ₹25 सौ रुपये क्विंटल की दर से धान का दाम देने से मुकर रही है।

अग्रवाल ने कहां की कांग्रेस ने किसानों को 25 सौ रुपया प्रति क्विंटल धान खरीदने का सब्जबाग दिखाकर वोट लिया था ।पर चुनाव जीते ही दाना दाना धान खरीदने के वादे को 15 क्विंटल प्रति एकड़ कर दिया । 25 सौ रुपये के बजाय किसानों से केंद्र सरकार द्वारा घोषित दर पर ही मोटा धान को 1868 रुपये व पतला धान को 1888 रुपये क्विंटल में ही खरीदा गया । शेष अंतर की की राशि के लिए एक राजीव गांधी किसान अन्याय योजना लाया गया जिसके तहत पिछले साल भी अंतिम किस्त में किसानों के प्रति एकड़ सौ रुपए प्रति एकड़ तक की कटौती की गई ।वह इस बार किसानों को मिलने वाली राशि में से सीधे सीधे 1000 रुपये प्रति एकड़ की कटौती की जा रही है । आखिर प्रदेश के किसानों के साथ ऐसा छल व लूट क्यों?

अग्रवाल ने कहा कि छल कपट एवं किसानों के साथ अन्याय का कांग्रेस का इतिहास रहा है कांग्रेस जो विपक्ष में थी तब कांग्रेस पार्टी सदन से लेकर सड़क तक हल्ला करती थी कि प्रदेश के 45 लाख किसानों का धान भाजपा नहीं खरीद रही है.। सत्ता में आने के बाद कांग्रेस पार्टी ने 45 लाख की बात तो छोड़ दो पंजीकृत 21 लाख 52 हजार 982 किसानों का धान भी नहीं खरीदा सरकार ने 20 लाख 52 हजार 494 किसानों का धान ले देकर खरीदा । और सरकार यह भी बताएं की प्रदेश के 25 लाख किसान कहां गायब हो गए । क्यो 45 लाख किसानों की धान नही खरीदी जा रही है ? क्यो 45 लाख किसानों को राजीव गांधी किसान अन्याय योजना का 10 हजार रुपए एकड़ नही दिया जा रहा है ।

अग्रवाल ने कहा कि सरकार की मंशा अब धान खरीदी की नहीं रही है । धान खरीदने से यह सरकार भाग रही है । इसलिए सरकार धान को छोड़कर अन्य फसल कोदो कुटकी मक्का गन्ना सोयाबीन अरहर लगाने पर प्रति एकड़ 10 हजार रुपया देने का झांसा फिर किसानों को दे रही है । और यह प्रयास कर रही है कि किसान धान की फसल ना लें और यह धान खरीदी से बच जाए ।

अग्रवाल ने कहा कि सरकार या बताएं कि प्रदेश में कितने क्षेत्रों में कितने एकड़ो में कोदो कुटकी अरहर व सोयाबीन गन्ना व मक्का की खेती की जा रही है कितना उत्पादन हो रहा है सरकार के पास ना तो कोई कार्ययोजना है और नहीं कोई नीति है सिर्फ एक ही नीति है किसानों के साथ अन्याय वा छल करने की ।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2023 Janta Se Rishta