छत्तीसगढ़

सेवानिवृत्त होकर गांव लौटे सैनिक, आतिशबाजी के साथ हुआ भव्य स्वागत

Janta Se Rishta Admin
2 May 2022 8:51 AM GMT
सेवानिवृत्त होकर गांव लौटे सैनिक, आतिशबाजी के साथ हुआ भव्य स्वागत
x

कोंडागांव। कोंडागांव जिले में एक सैनिक भारतीय सैनिक से सेवानिवृत्त हो कर घर लौट आया है। पूर्व सैनिक जब घर लौटा तो परिजनों की आँखे नम हो गई। वहीं अखिल भारतीय पूर्व सैनिक सेवा परिषद ने बस्तरिया मांदर की थाप से झूमते हुए गाँव में पूर्व सैनिक का स्वागत किया। दरअसल जिले के फरसगांव ब्लॉक में रहने वाले पूर्व सैनिक बलदेव राम नेताम भारतीय सेना में 24 वर्ष सेवा करके सेवानिवृत्त होकर अपने गांव लौटे हैं। पूर्व सैनिक के गांव लौटने पर उनके परिजनों, अखिल भारतीय पूर्व सैनिक सेवा परिषद कोंडागांव के पदाधिकारियों और ग्रामीणों ने बस्तर की लोक परम्परा मांदारी नृत्य के धुन से नाचते कूदते आतिशबाजी के साथ भव्य स्वागत किया। उनके स्वागत में पूरा गांव उमड़ पड़ा। बलदेव 1998 में सेना में भर्ती हुए थे जो 30 अप्रैल 2022 में रिटायर हो गए। रिटायर होने के बाद अपने गांव फरसगांव में पहुंचे तो परिजनों और ग्रामीणों ने सम्मान समारोह आयोजित कर बलदेव राम नेताम का अभिनंदन किया। बस स्टैंड से उनके निवास स्थान तक बाजे-गाजे के धुन में हर्षोल्लास के साथ जुलूस निकाला गया। लोगों ने फूलों की वर्षा करते हुए जवान का स्वागत किया। इस बीच पूरा गांव भारत माता के जय और वंदे मातरम के नारों से गूंजता रहा। सेना के जवान ने इस तरह अपना स्वागत सत्कार देखकर ग्रामवासियों से मिलकर खुश व भावुक दिखे।

पूर्व सैनिक बलदेव राम नेताम 28 अप्रैल 1998 में भारतीय थल सेना में 15 महार रेजीमेंट में भर्ती हुए और ट्रेनिंग के पश्चात ही 1999 में कारगिल युद्ध छिड़ गया था और उन्हें कारगिल में पोस्टेड कर दिया गया। जहाँ उन्होंने अपनी अदम्य साहस से कारगिल युद्ध में अपनी मातृभूमि की रक्षा की। इसके साथ ही अमरनाथ यात्रा में तीन वर्ष तक अपनी सेवाएं दी। इसके अलावा जम्मू कश्मीर, असम, अरुणाचल प्रदेश, राजस्थान, उत्तराखंड, सिक्किम और पंजाब में भी अपनी सेवाएं दी और गलवान घाटी, भारत-चीन सीमा में तनाव की स्थिति में उपस्थित थे और अपनी मातृभूमि की रक्षा की।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta