छत्तीसगढ़

बारिश का कहर: तेज़ बारिश होने से तीन मंजिला मकान ढहा, प्रशासन ने जारी किया अलर्ट

Shantanu Roy
14 Sep 2021 5:30 PM GMT
बारिश का कहर: तेज़ बारिश होने से तीन मंजिला मकान ढहा, प्रशासन ने जारी किया अलर्ट
x

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। दुर्ग। सोमवार-मंगलवार की दरम्यानी रात जिले के पाटन ब्लाक में भारी बारिश हुई। बारिश के चलते निपानी गांव में मंगलवार सुबह तीन मंजिला मकान अचानक भरभरा कर ढह गया। वहीं माहुद गांव में भी एक कच्चा मकान ढ़ह गया। निरंतर रूक-रूक कर हो रही बारिश से शिवनाथ नदी का जल स्तर भी तेजी से बढ़ रहा है। नदी में मोंगरा बैराज के 20 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। नदी के बढ़ते जलस्तर और बारिश की चेतावनी को ध्यान में रखते हुए प्रशासन ने नदी किनारे बसे दर्जन भर गांवों को अलर्ट कर दिया है।

सप्ताह भर पहले तक जिले में वर्षा की स्थिति अच्छी नहीं थी। लेकिन पिछले चार दिन से रूक-रूक लेकिन निरंतर बारिश हो रही है। सोमवार-मंगलवार की दरम्यानी रात जिले में भारी बारिश हुई। पाटन ब्लाक में रिकार्ड 89 मिमी बारिश हुई है। बारिश के चलते निपानी गांव में एक तीन मंजिला मकान अचानक भरभराकर ढह गया। जिस समय मकान ढहा उस समय मकान में हालर मिल व कपड़ा दुकान संचालित हो रहा था। कुछ लोग इन दुकानों के अंदर थे जो भागकर बाहर निकले।
सुबह सुबह ग्राहकी का समय नहीं था इस कारण बड़ी दुर्घटना टल गई। इस घटना में तीन व्यक्ति को मामूली चोटें आई है। जो मकान गिरा वह सड़क के किनारे था इस कारण मकान का मलबा सड़क पर ही गिरा। इससे करीब एक घंटे तक रानीतराई से बेल्हारी मार्ग बाधित रहा। यह मकान विजय जैन का है जो पुराना होने के साथ ही काफी जर्जर हो गया था। स्थानीय लोगों ने सड़क पर बिखरे मलबा को हटाया। इसके बाद ही रास्ता साफ हुआ। जनपद सदस्य रवि सिन्हा ने बताया कि पीड़ित परिवार के लिए क्षतिपूर्ति राशि की मांग की गई है। बारिश की वजह से ग्राम महुदा निवासी करण साहू का कच्चा मकान भी गिर गिया। समय रहते घर के मुखिया अपने बच्चों व पत्नी के साथ घर से बाहर निकल गया।
जैसे ही घर के सभी सदस्य सदस्य बाहर निकले घर पूरी तरह धराशायी हो गया। इस घटना में जान की हानि तो नही हुई लेकिन पीड़ित परिवार को काफी नुकसान हुआ है। खाने-पीने का सामान, कपड़ा, बिस्तर सहित घर में रखे कीमती सामान नष्ट हो गए। सोमवार देर रात परिवार के सदस्य खाना खाने की तैयारी कर रहे थे। तभी दीवाल हिलने का अहसास हुआ। छप्पर भी टूटकर गिरने लगे। कुछ देर बाद पूरा छप्पर भरभराकर गिर गया।
मंगलवार को भिलाई में करीब दो घंटे तक तेज बारिश हुई। दुर्ग व आसपास के इलाके में हल्की से मध्यम वर्षा हुई है। राजनांदगांव के मोंगरा बैराज से 20 हजार क्यूसेक पानी शिवनाथ नदी में छोड़ा गया है। इस कारण शिवनाथ का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। नदी स्थित महमरा एनीकट के ऊपर साढ़े पांच फीट पानी बह रहा है। जल संसाधन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि यदि रात में बारिश तेज हुई तो एनीकट के ऊपर पानी का बहाव और बढ़ जाएगा। बारिश को लेकर मौसम विभाग की चेतावनी को ध्यान में रखते हुए जल संसाधन विभाग ने नदी किनारे बसे गांवों को अलर्ट कर दिया है।
ज्ञात हो कि शिवनाथ नदी के किनारे मोहलई,पीपरछेड़ी,मालूद,बेलौदी,चंगोरी,कोलियापुरी सहित दर्जनभर गांव है। कैचमेंट एरिया में बारिश होने की वजह से जलाशयों के जल स्तर में लगातार सुधार हो रहा है। तांदुला जलाशय में 38 फीसद,खपरी में 62 फीसद,मरोदा में 53 फीसद पानी का भराव हो चुका है। जबकि सप्ताह भर पहले इन जलाशयों में जलभराव की स्थिति बेहद खराब थी।
कुछ दिनों से हो रही निरंतर बारिश के बाद औसत वर्षा के मामले में जिला अब आगे निकल चुका है। जिले में एक जून से लेकर अब तक औसत 932.2 मिमी बारिश हुई है जबकि गत वर्ष इस अवधि में 869.9 मिमी बारिश हुई थी। मंगलवार को जिले के पाटन ब्लाक में सबसे अधिक 89 मिमी वर्षा रिकार्ड की गई। वहीं दुर्ग ब्लाक में 28 मिमी और धमधा ब्लाक में 24.1 मिमी बारिश हुई है। दुर्ग ब्लाक में अब तक 950.8 मिमी,धमधा ब्लाक में 710.8 मिमी और पाटन ब्लाक में 1135 मिमी बारिश हो चुकी है।
पिछले दो दिन से रुक-रुक कर हो रही बारिश के कारण अब पाटन क्षेत्र के नदी नाले भी उफान पर हैं। खारुन नदी के किकिरमेटा पुल के ऊपर से पानी बह रहा है। वहीं खम्हरिया सोनपुर नाला के ऊपर से भी पानी बह रहा है। एहतियात के तौर पर पुल के ऊपर पानी होने पर आवागमन पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है॥ वहीं कई लोग जान जोखिम में डालकर पुल के ऊपर पानी होने के बाद भी आवागमन कर रहे हैं। किकिरमेटा के सरपंच नेतराम निषाद ने बताया किखारून नदी पर बने पुल पर ऊपर से पानी बह रहा है। बाइक सवार व चार पहिया वाहन चालक जान जोखिम में डालकर पुल को पार कर रहे हैं। इसी तरह से पाटन से लगे हुए खम्हरिया सोनपुर के मध्य बने नाला पर भी पानी पुल के ऊपर से बह रहा है। स्थिति को देखते हुए एसडीएम विपुल कुमार गुप्ता ने खारून नदी से लगे गांवों के पटवारियों को ग्रामीणों के सतत संपर्क में रहने का निर्देश दिया है।
कार्यपालन अभियंता जल संसाधन विभाग दुर्ग सुरेश पांडेय ने कहा कि मौसम विभाग ने आगे भी बारिश की चेतावनी दी है। शिवनाथ नदी में मोंगरा बैराज से पानी आ रहा है। स्थिति को देखते हुए नदी किनारे बसे गांवों को अलर्ट रहने कहा गया है। यदि रात में बारिश हुई तो शिवनाथ का जलस्तर और बढ़ने की संभावना बनी हुई है।
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta