छत्तीसगढ़

ऐब मुझमें तलाशना भूल जाएंगे लोग...तोहफे में अगर उनको मैं आईना दे दूं...

Admin2
16 Oct 2020 6:47 AM GMT
ऐब मुझमें तलाशना भूल जाएंगे लोग...तोहफे में अगर उनको मैं आईना दे दूं...
x

ज़ाकिर घुरसेना/कैलाश यादव

रायपुर। मरवाही उपचुनाव को लेकर प्रदेश के सियासी गलियारों में घमासान मचा हुआ है। मरवाही में जिस प्रकार चल रहा है देखने में तो लगता दाऊ जी की विकास एक्सप्रेस चल पड़ी है। पहले छजकां के लोग और अब भाजपा के लोग कांग्रेस प्रवेश कर रहे है लगता है दाऊ जी के विकास कार्य पर लोगों को पूरा भरोसा है।

नया आइडिया

नशे का सामान में कम समय में ज्यादा मुनाफा के चक्कर में छात्र, सिपाही और नेता भी कूद पड़े । लेकिन कोकीन तस्करों के सरगना ने तो एकदम नया आईडिया निकल लिया था उसने जरूरतमंद युवाओं को ब्याज में रकम देता था और नहीं लौटाने की स्थिति में उनसे ड्रग्स की तस्करी करवाता था लेकिन पुलिस भी कम नहीं है गिरेबान में हाथ ड़ाल ही दिया।

मोदी जी को बधाई ...

काले धन के खिलाफ लड़ाई में मोदी सरकार को बड़ी सफलता हाथ लगी है। स्विस बैंक ने पिछले दिनों 86 देशों के खातेदारों की सूची दी जिसमें भारत भी शामिल हैं। जनता में खुसुर-फुसुर है कि अब मोदी सरकार को तत्काल इस सूची को सार्वजानिक करना चाहिए। लेकिन उम्मीद कम है,क्योंकि सूची में अधिकतर नाम किसके होंगे सबको मालूम है।

सूची नए गरीबों का भी हो

विगत दिनों फ़ोब्र्स 100 ने भारत में 8 नए अमीरों को शामिल किया जनता में खुसुर-फुसुर है कि अभी लगातार जिस प्रकार से बेरोजगारी बढ़ रही है काम धंधे चौपट हुए है तो अब सूची नए गरीबों की भी आनी चाहिए।

ऋचा जोगी के बचाव में भाजपा

ऋचा जोगी को चुनाव लडऩा नहीं लडऩा बात की बात है लेकिन उनके जाति विवाद के जंग में भाजपा भी कूद पड़ी है। जनता में खुसुर-फुसुर है कि पहले लोग बोला करते थे जोगी की पार्टी भाजपा की बी पार्टी है बहरहाल सच्चाई जो भी हो। भई जिसे चुनाव लडऩा है उसके फॉर्म की जांच तो होगी ही।

लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर हमला

पिछले दिनों टी.वी चैनल वाले फर्जी टीएआरपी के चक्कर में धरे गए। सरकार के समर्थन में चिल्ला चोट मचाने वालों के साथ केंद्र सरकार को भी खड़े होना था सो हो गए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इसे लोकतंत्र पर हमला बताया जनता में खुसुर-फुसुर है कि चोरी करते पकडे गए ये कैसा लोकतंत्र और कैसा हमला है।

कुछ तो बनता है बॉस राजनीति में

जनता में खुसुर-फुसुर हो रही है कि राजनीतिक लोगोंं को खाली बैठना अच्छा नहीं लगता है, इसलिए कोई न कोई मुद्दा मीडिया में बने रहने का खोज ही लेते है। जितने भी बड़े राजनेता हुए है उन सभी का इतिहास गवाह है, वे मुद्दे बेमुद्दे को लेकर सुर्खियों में बने रहना चाहते थे। छत्तीसगढ़ में जो महाभारत चल रहा हैं। उसमें कृष्ण की भूमिका में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सत्ताधारी दल के सदस्यों को रणनीति और राजनीति का उपदेश दे रहे है। वहीं विपक्ष में कृपाचार्य की भूमिका में डा. रमनसिंह अश्वस्थामा की तलाश कर रहे हैं, कोई तो ब्रम्हास्त्र छोडऩे और वापस लाने के गुर सीख कर महारत हासिल कर ले।

राजनीतिक अखाड़े में पहलवानों ने ठोंकी ताल

राजधानी के राजनीतिक अखाड़े में पहलवानों ने ताल ठोंक दी है। प्रदेश की बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर विपक्ष सरकार को घेरने के मूड में दिखाई दे रही है। ताजा मामले में वाड्रफनगर,कोंडागांव में रेप और राजधानी में ड्रग माफिया का खुलासा और फिर जयस्तंभ में दिन दहाड़े हुई हत्या को लेकर विपक्ष ने सत्तापक्ष पर जमकर हमला बोला है।

राजेश मूणत ने सरकार को घेरा

प्रदेश प्रवक्ता राजेश मूणत ने सीएम बघेल एवं गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू से सवाल किया है कि है कि आखिर किसके सरंक्षण पर प्रदेश भर में नशा एवं सट्टे का कारोबार चल रहा है? प्रदेश मेें बहन-बेटियों पर हो रहे अनाचार के लिए कौन जिम्मेदार है? कांग्रेस सरकार की लचर प्रशासनिक व्यवस्था साफ दिखाई दे रही है। जनता में खुसुर फुसुर है कि 15 साल तक तो आप ही राजा थे ड्रग कारोबार अभी थोड़ी शुरू हुआ है। सरकार तो अभी इनको धर रही है।

ड्रग माफिया का जल्द खुलासा

संसदीय सचिव विकास उपाध्याय ने मूणत के आरोपों पर कहा कि भूपेश सरकार में कानून व्यवस्था की कड़ाई की वजह से ही ड्रग माफिया की पोल खुल रही है। राजधानी में भाजपा की सह पर ही तत्कालीन सरकार के दौर में ड्रग्स और गांजे का कारोबार ने पैर पसारा है। जब इस बात की खुफिया रिपोर्ट की जानकारी मिली तो मैंने खुद पुलिस विभाग के आला अधिकारियों से इस धंधे में लिप्त ठिकानों पर छापेमारी की कार्यवाही तेज करने के निर्देश दिये थे। विकास उपाध्याय स्पष्ट किया कि ड्रग्स धंधे में गिरफ्तार हुए लोगों के बयानों से भाजपा के कई नेताओं के नाम आए हैं। उसका जल्द खुलासा होने वाला है। कांग्रेस की सरकार आने के बाद जो कड़ाई बरती जा रही है, यदि भाजपा के 15 वर्षों के लंबे कार्यकाल में कार्यवाही होती तो यह कारोबार पनप ही नहीं सकता था।

चिन्मयानंद के बारे में मूणत अब तक साधे है चुप्पी

पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्मयानंद दुष्कर्म के मामले में घिर गए है। जिस पर भाजपा प्रवक्ता ने तो कुछ नहीं कहा, लेकिन कांकेर सांसद मोहन मंडावी ने हाथरस दुष्कर्म मामले को बनावटी कहकर आग में घी डालने का काम कर दिया है। अब सभी ओर यही आवाज गूंज रही है, हवन करेंगे-हवन करेंगे...

सिंहदेव की गलतफहमी दूर करेंगे अकबर

सरकार के वरिष्ठ मंत्री टीएस सिंहदेव के बयान से खलबली मची हुई है। लेमरू प्रोजेक्ट के संबंध में टीएस ने कहाकि ग्रामसभा में न करें दस्तखत। जरूरत पड़ी तो मैं आमरण अनशन करूंगा। जनता में खुसुर-फुसुर है कि सरकार के मंत्रियों में तालमेल नहीं है। इसी वजह से अलग-अलग बयान आ रहे है।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta