छत्तीसगढ़

अब आएगी सटोरियों की शामत, सीएम ने कहा- सख्ती से रोकें सट्टा

jantaserishta.com
3 July 2021 5:43 AM GMT
अब आएगी सटोरियों की शामत, सीएम ने कहा- सख्ती से रोकें सट्टा
x
निवेशकों को लौटाई जाएगी चिटफंड की राशि, कलेक्टर-एसपी की कमेटी लेगी हर महीने रिपोर्ट.

सट्टा पट्टी नहीं अब ऑनलाइन एप से पैसों का लेन-देन

जनता से रिश्ता की खबरों को सीएम ने संज्ञान में लिया, अब होगी कार्रवाई
जसेरि रिपोर्टर
रायपुर। प्रदेश में चिटफंड कम्पनियों से निवेशकों का जमा धन वापस दिलाने के लिए पुलिस अब तेजी से कार्रवाई करेगी। इसके लिए जिला स्तर पर कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक की समिति बनाई जाएगी। ये समिति चिटफंड कम्पनियों के विरूद्ध की जा रही कार्रवाई की हर महीने रिपोर्ट लेगी। जिला स्तर पर निवेशकों और स्थानीय लोगों से चिटफंड कम्पनियों की संपत्तियों की जानकारी लेकर वसूली करेगी। इसके लिए पोर्टल भी बनाया जाएगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सीएम हाउस में शुक्रवार को गृह विभाग को ये असाइनमेंट दिया। प्रदेश में अब पुलिस बल सट्टा, जुआ और अवैध शराब के कारोबार जैसी गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए सख्त कार्रवाई करेगी। थाने स्तर के मैदानी अमला अपने कर्तव्यों का निर्वहन मुस्तैदी कराया जाएगा। इसके लिए वरिष्ठ अधिकारी लगातार मॉनिटरिंग करेंगे। बैठक में गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू, नगरीय प्रशासन व विकास मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया, सीएस अमिताभ जैन, गृहविभाग के एसीएस सुब्रत साहू और डीजीपी डीएम अवस्थी समेत अधिकारी उपस्थित थे।
बैठक में बताया गया कि प्रदेश में 187 अनियमित चिटफंड कंपनियों के विरुद्ध 427 प्रकरण पंजीबद्ध हैं। इनमें से 265 प्रकरण न्यायालयों में विचाराधीन है। अब तक चिटफंड कंपनियों की संपत्ति कुर्क कर 9 करोड़ 32 लाख रुपए की वसूली की गई है। 17 हजार 322 निवेशकों को 7 करोड़ 86 लाख रुपए वापस किए गए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस बल सट्टा, जुआ, अवैध शराब के कारोबार जैसी गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए सख्त कार्रवाई करें। थाने स्तर के मैदानी अमला अपने कर्तव्यों का निर्वहन मुस्तैदी से करें। यह तय करने के लिए वरिष्ठ अधिकारी उनके कार्यों की लगातार मॉनिटरिंग करें।
मुख्यमंत्री ने बैठक में जेलों में निरूद्ध आदिवासियों की रिहाई के प्रकरणों में तेजी लाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि नक्सलियों के समर्पण एवं पुनर्वास योजना के तहत आत्मसमर्पित नक्सलियों को गृह विभाग के अलावा विभिन्न विभागों की कल्याणकारी योजनाओं से लाभान्वित किया जाए। उन्होंने पुलिस जवानों के लिए जिलों में आवास सुविधा उपलब्ध कराने छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मंडल की ओर से निर्मित आवासों को गृह विभागों की ओर से क्रय करने के प्रस्ताव पर सहमति दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि हर जिले में कितने भवनों की आवश्यकता है, इसका आंकलन कर आवश्यकतानुसार छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मंडल की कॉलोनियों में जवानों के लिए आवास लेने का प्रस्ताव तैयार किया जाए। इससे हर जिले में जवानों के लिए आवास की व्यवस्था हो सकेगी। मुख्यमंत्री ने उप निरीक्षकों की भर्ती और बस्तर फाइटर्स की भर्ती प्रक्रिया में भी तेजी लाने के निर्देश दिए।
मुख्यमंत्री ने सुकमा और बीजापुर जिले के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में विकास कार्यों में तेजी लाने के निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि इन क्षेत्रों में किसानों को सोलर पंप दिए जाएं। पंचायत भवन, आंगनबाड़ी भवन, उचित मूल्य की दुकान भवन स्वीकृत किए जाएं। पात्र लोगों को वन अधिकार मान्यता पत्र प्रदान कर उनकी भूमि पर मनरेगा से विकास कार्य कराए जाएं। मुख्यमंत्री ने एलडब्ल्यूई योजना के तहत दोरनापाल-चिंतलनार-जगरगुंडा मार्ग का निर्माण जल्द पूर्ण करने के निर्देश दिए। इस मार्ग पर लोहे के पुलों का उपयोग किया जाए, इससे कार्य में तेजी आएगी।
राजधानी में सट्टे का फिर से सट्टे का करोबार जोरो से चलने लगा है, डॉन रवि साहू और उसके गुर्गे रोज सट्टा पट्टी काटने के लिए अपने इलाके में बैठे रहते है। राजधानी में सट्टे के कारोबारियों ने सट्टा खिलाने का एक बड़ा ही नया और नायब तरीका ढूंढ निकाला है, अब सट्टेबाज सट्टा-पट्टी नहीं काट रहे बल्कि ऑनलाइन एप पर पैसों का लेन-देन कर सट्टा खिला रहे है। रायपुर शहर में आए दिन सट्टेबाज और जुआरी पकड़े जा रहे है मगर उसके बाद भी ये लोग अपने अवैध कारोबार को बंद नहीं कर रहे है। शहर में आए दिन सट्टा खिलाने के आरोप दर्जनों को पुलिस गिरफ़्तार कर रही है मगर इनकी गिरफ़्तारी का कोई खास असर रायपुर में नहीं दिख रहा है उसका एक ही कारण है ऑनलाइन एप्लीकेशन के जरिए सट्टा खिलाया जाता है। शहर में सट्टा खाईवालों की फौज खड़ी हो गई है। सूत्र बताते हैं कि शहर में कई ऐसे स्थान हैं, जहां शाम होते ही महफिल सज जाती है। माना जा रहा है कि राजधानी में रोजाना लाखों रुपये का सट्टा और जुआ खेला जा रहा है। सूत्रों की मानें तो राजधानी में कई ऐसी जगहों में जुआ संचालित हो रहा है, जहां पांच से 10 लाख रुपये शो मनी रखी गई है।
सट्टा के लत से रायपुर बेहाल
पिछले लंबे समय से शहर में सट्टे का कारोबार बेखौफ चल रहा है। जहां वर्तमान में मोबाईल से यह कारोबार हाईटेक हो चुका है। बताया जाता है कि इस अवैध करोबार को करने के लिए प्रतिमाह मोटी रकम पुलिसवालों को दी जाती है। किसी भी इलाके के थाना प्रभारी को उनके इलाके की पूरी जानकारी होती है लेकिन उसके बाद भी थाना प्रभारी सट्टे के कारोबार को बंद करने का कोई प्रयास नहीं करते। बड़े अधिकारियों की फटकार पड़ते ही आनन-फानन में छोटी-मोटी कार्रवाई कर लेते है। आम जनता का मानना है कि खाईवालों पर रोक लगेगी और कारोबार अब शहर से खत्म होगा। लेकिन वहीं इस अवैध कारोबार में स्कूली छात्रों के अलावा महिलाएं भी सक्रिय है तथा यह कारोबार रायपुर के नामी खाईवाल डॉन रवि के ईशारे पर पूरे शहर में फलफूल रहा है। बताया जाता है कि सट्टा लिखने वाले से लेकर पट्टी पहुंचाने वाले सबकी जानकारी पुलिस को है मगर उनकी नजरों के सामने होते हुए भी पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रहती है।
रवि के गुर्गों की पकड़ भी मजबूत
शहर खुलेआम सट्टा और जुआ का खेल चल रहा है। कालीबाड़ी में रवि साहू गैंग के गुर्गे अब एक बार फिर से सक्रिय हो चुके है। ग्राहकों को सट्टा खिलाना और गांजा पिलाना उनका पुराना पेशा था। पुलिस की लगातार कार्रवाई के बाद भी ये सटोरिए अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आ रहे है। शाम होते ही सट्टा लगना शुरू हो जाता है और देर रात तक चलता है। खुलेआम चले रहे इस कारोबार पर न तो पुलिस की नजर है और ना ही वह इस पर लगाम कसने का प्रयास कर रहे हैं। यही वजह है कि यह कारोबार लगातार बढ़ता जा रहा है। राजधानी का नामी सटोरिया जो कालीबाड़ी, नेहरू नगर, गाँधी नगर में अपना सट्टा कारोबार फैलाए हुए है। जिसकी वजह से रवि अभी शहर के बाहर घूम रहा है। मगर उसके गुर्गे शहर में उसकी कुर्सी के आड़ में उसके गुर्गे अपना कारोबार शुरू कर दिए है। वही रवि के गुर्गों ने अपना कारोबार चालू किया और उसके नाम का फायदा उठाते हुए बच्चों को भी इस काले धंधे में उतार लिया गया है।
सट्टा-जुआ शहर में फैल रहा
शहर में जुआ-सट्टे का कारोबार दिन-प्रतिदिन पैर पसार रहा है। इस कारण क्षेत्र में खुलेआम यह कारोबार खूब फलफूल रहा है। जुए के अड्डे व सट्टे की खाईवाल के हौसले बुलंद हैं। वे अपने काम को खुलेआम संचालित कर रहे हैं। जिससे शहर के युवा भी इस गौरखधंधे की चपेट में आ रहे हैं। शहर में खुलेआम चल रहे सट्टे पर पुलिस की कार्रवाई न होने के कारण जुआरियों के हौसले बुलंद है। लोगों का आरोप है कि इस काले धधे के कारण शहर का माहौल बिल्कुल खराब हो चुका है। शहर में चल रहे जुए व सट्टे के कारोबार से युवा वर्ग अपराध की दुनिया में लगातार अपने पैर पसार रहा है।
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta