छत्तीसगढ़

ढाई-ढाई साल वाली बात बेतुकी ऐसा कोई करार नहीं हुआ : पीएल पुनिया

Admin2
5 Jun 2021 5:49 AM GMT
ढाई-ढाई साल वाली बात बेतुकी ऐसा कोई करार नहीं हुआ : पीएल पुनिया
x

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री पद का मामला

ज़ाकिर घुरसेना

रायपुर। छत्तीसगढ़ में ढाई-ढाई साल के मुख्यमंत्री के फॉर्मूला फिर जोर पकडऩे लगा है ऐसा महसूस हो रहा है। हालांकि वरिष्ठ नेता और मंत्री रविंद्र चौबे ने एक बयान में कहा है कि छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री पद को लेकर कोई ढाई-ढाई साल का फार्मूला नहीं है। चूँकि जब छत्तीसगढ़ में 67 विधायक कांग्रेस के चुन कर आए थे तब मुख्यमंत्री पद के लिए काफी मशक्क़तो का दौर चला था जग जाहिर है। एक समय यह भी हो गया था कि ताम्रध्वज साहू को मुख्यमंत्री बना दिया जाय। उस समय एक अनार सौ बीमार वाली बात हो रही थी। भूपेश बघेल, टी एस सिंहदेव, डाक्टर चरणदास महंत और ताम्रध्वज साहू चारो मुख्यमंत्री की कुर्सी दौड़ में शामिल थे। वैसे कांग्रेस की परंपरा रही है कि अधिकतर प्रदेशों में जो कांग्रेस अध्यक्ष रहे हो उसी के नेतृत्व में चुनाव लड़ा जाता है और सरकार अगर बनी तो मुख्यमंत्री का दावेदार कांग्रेस अध्यक्ष ही सर्वोपरि होता है हालांकि सब जगह यह फार्मूला लागू भी नहीं किया गया है। लेकिन छत्तीसगढ़ के परिप्रेक्ष्य में ऐसे देखा जाये तो भूपेश बघेल का पलड़ा भारी दिख रहा था। लेकिन चुनाव के समय की परिस्थिति में टीएस सिंहदेव को भी कम आंकना भी ठीक नहीं था वित्तीय प्रबंधन में टी एस बाबा का कोई सानी नहीं है। बहरहाल मुख्यमंत्री बनने के वक्त काफी रस्साकशी भी देखने को मिली थी और अंत में यह भी प्रचारित की गई औ उड़ती हुई खबर भी सत्ता के गलियारे से छनकर आयी थी कि छत्तीसगढ़ में ढाई-ढाई साल के फार्मूले पर सहमति बनी है। बहरहाल ढाई-ढाई साल या पुरे पांच साल ये तो कांग्रेस आलाकमान को तय करना है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का ढाई साल 17 जून को हो रहा है लेकिन जुबानी जंग अभी से चालू हो गई है। हालांकि इस मामले में कोई तल्खियां दोनों तरफ से नहीं आ रही है। नपी तुली शब्दों का ही प्रयोग अभी हो रहा है। हालांकि इन सारी अटकलबाजियों पर प्रदेश के कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने बयान दिया की ढाई-ढाई साल का कोई फार्मूला छत्तीसगढ़ में नहीं है। इस प्रकार उन्होंने सारी कयासों पर विराम लगा दिया है। उन्होंने यह भी कह कि इस प्रकार की कोई न तो चर्चा है और न ही ऐसा कुछ होने वाला है। कांग्रेस की सरकार छत्तीसगढ़ में पूरे पांच साल भूपेश बघेल के नेतृत्व में पूरा करेगी। पूर्व में कुछ समय पहले स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के बयान के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बड़ा बयान दिया था कि अगर आलाकमान का आदेश होगा, तो वे तुरंत इस्तीफा देने के लिए तैयार हैं। सीएम ने यह भी कहा था कि उन्हें पद का मोह नहीं है। ढाई-ढाई साल के कार्यकाल को लेकर जब हवा उडी थी तब बिलासपुर में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा था कि, किसी का कार्यकाल तय नहीं होता, हाईकमान फैसला लेता है। उन्होंने एक समारोह में पत्रकारों से कहा था कि, राजनीति में कुछ स्थायी नहीं। वैसे देखा गया है कि कांग्रेस में आला कमान समय और परिस्थिति के अनुसार तात्कालिक निर्णय लेती है।

वर्तमान परिस्थितियों के अनुसार पूरे देश में कांग्रेस पार्टी की कुछ राज्यों में सरकार है जिसमे पंजाब और राजस्थान पहले ही मुख्यमंत्री को बदलने हेतु विरोधीगुट भारी दबाव बनाये हुए है। आलाकमान ऐसा कोई भी निर्णय नहीं लेगा जिससे किसी भी मुख्यमंत्री को बदलने के बाद अन्य प्रदेशो में भी उसका असर दिखे। आलाकमान अपने सबसे निकट कैप्टन अमरिंदर सिंह को खोना नहीं चाहता एवं अपने पारिवारिक मित्र अशोक गहलोत को कार्यमुक्त होने देना नहीं चाहता। इसी कारण राजनितिक पंडितो का यह अनुमान है कि कांग्रेस आगामी लोकसभा चुनाव तक किसी भी प्रदेश के मुख्यमंत्री को बदलने के पक्ष में नहीं है । दिल्ली के राजनितिक गलियारों की बातो को सच मानो तो कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी किसी कीमत पर मुख्यमंत्रियों को नहीं बदलने की मंशा राहुल और प्रियंका के सामने जाहिर कर चुकी हैं।

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कुछ दिन पहले से ढाई-ढाई साल के फॉर्मूले पर यह भी कहा था कि कार्य अवधि किसी की तय नहीं रहती. हमने अर्जुन सिंह को दो दिन के मुख्यमंत्री के रूप में भी देखा है और 15-15 साल का सीएम भी देख रहे हैं। सिंहदेव ने ये भी कहा कि कई बार नाराजगी के साथ भी काम करना होता है. कई ऐसे मौके आए जब एक ही शहर में साथ होने पर भी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव साथ नहीं नजर आए। अक्टूबर 2020 ही में एल्डरमैन की नियुक्ति के दौरान भी टीएस सिंहदेव के करीबियों को महत्व नहीं दिया तब उन्होंने नाराजगी जाहिर की थी। अंबिकापुर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं से भेंट करने के दौरान टीएस सिंहदेव ने कहा था कि संघर्ष के दिनों में कांग्रेस के जिन कार्यकर्ताओं ने पार्टी को आगे ले जाने में भूमिका निभाई है, उन्हें छोड़ नए जुड़े लोगों को महत्व दिया जा रहा है। देखा जाय तो सरगुजा संभाग में टीएस बाबा की पकड़ है. यहां की सभी विधानसभा सीटों पर कांग्रेस का कब्जा है। बीते दिनों अचानक कांग्रेस प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, पीसीसी चीफ मोहन मरकाम, कैबिनेट के कई मंत्री, विधायक और वरिष्ठ नेता देर रात टीएस सिंहदेव के बंगले पर पहुंचे थे उस वक्त भी तरह-तरह के कयास लगाए जाने लगे कि टीएस सिंहदेव नाराज हैं, सीएम और उनके बीच की दूरी को कम करने के लिए ये डिनर रखा गया था. उस वक्त भी ढाई-ढाई साल के सीएम की चर्चाओं को हवा मिली थी। प्राप्त जानकारी के अनुसार छत्तीसगढ़ के अधिकांश विधायक भूपेश बघेल को सीएम बनाये रखने के पक्ष में है. विगत दिनों स्वतंत्र एजेंसी द्वारा AICC ने छग के अधिकांश विधायकों से किसी ना किसी स्तर पर उनका विचार जानने के लिए एजेंसी के नुमाइंदे द्वारा विधायकों की रिपोर्ट को दिल्ली मंगाया गया था. जिसके आधार पर आलाकमान का पहले से ही मन बन चुंका है, अब चुनाव तक किसी भी राज्य के सीएम को बदला नहीं जाएगा। फिर भी राजनितिक परिस्थियों की बदलती बयार को देखते हुए कुछ कहा नहीं जा सकता। कब और कैसे राजनितिक ऊंट किस करवट बैठेगा। अब सभी लोगो को आला-कमान के कुछ ना कुछ खुलासे का इंतजार है।

पुनिया सहित अधिकांश विधायकों ने इस सम्भावना को ख़ारिज किया

कांग्रेस के छत्तीसगढ़ के प्रभारी पीएल पुनिया ने आज एक बयान में ढाई-ढाई साल वाली बात को बेतुकी बात बताया, उन्होंने कहा कि कांग्रेस हाईकमान में ऐसी कोई करार नहीं हुआ है वही कई विधायकों ने कहा कि कांग्रेस की हमेशा परिपाटी रही है कि आलाकमान के सामने चुनौती बनने वाले नेताओ को मुँह की खानी पड़ती है. जिसका जीता जागता उदाहरण सचिन पायलट और नवजोतसिंह सिद्दू हैं। आज तक कांग्रेस में यह देखने को नहीं मिला कि ढाई-ढाई साल का कोई मुख्यमंत्री रहा हो। उत्तरप्रदेश में दो राजनितिक पार्टियों ने ढाई-ढाई साल के समझौते पर सरकार बनाई थी जो आगे चलकर उनके बीच गहरी खाई बन गर्ई। आज दोनों पार्टी अपनी राजनितिक जमीन तलाशते नजऱ आ रही है।

भाजपा नेताओ ने भी चुटकी ली

कुछ भाजपा नेता इसे कांग्रेस का आंतरिक मामला मान रहे है लेकिन भाजपा के कद्दावर नेता बृजमोहन अग्रवाल और श्रीचंद सुंदरानी ने कहा कि इस मामले में भूपेश बघेल और सिंहदेव को सामने आकर जानकारी देनी चाहिए। दबी जुबान से कांग्रेस और भाजपा के कई नेता यही बोल रहे हैं कि भूपेश तो भूपेश है मुख्यमंत्री तो भूपेश बघेल ही रहेगा।

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने जनता से रिश्ता से कहा-पीएल पुनिया वरिष्ठ हैं उनके कहने के बाद कोई गुंजाइश ही नहीं है।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta