Top
छत्तीसगढ़

अपहृत जवान को लेकर नक्सली बार-बार बदल रहे ठिकाना

Admin2
8 April 2021 6:09 AM GMT
अपहृत जवान को लेकर नक्सली बार-बार बदल रहे ठिकाना
x
सरकार की ओर से किसी भी मध्यस्थ का नाम तय नहीं किया गया

जसेरि रिपोर्टर

रायपुर। जगदलपुर .टेकलगुड़ा मुठभेड़ के बाद नक्सलियों द्वारा अगवा किए गए सीआरपीएफ कोबरा बटालियन के जवान राकेश्वर सिंह की रिहाई पांचवें दिन भी नहीं हो पाई है। जवान अभी नक्सलियों के कब्जे में है लेकिन वह सकुशल है नक्सलियों ने उसे कोई नुकसान नहीं पहुंचाया है और उसे नक्सलियों ने अपने साथ खुले में रखा है। खुले में रखने से आशय यह है कि जवान के हाथ-पैर नहीं बांधे गए हैं और न भागने की चेतावनी देकर अपने साथ रखा गया है। जवान के अपहरण के बाद खबरें आई थी कि उसे नक्सलियों ने अपने जगरगुंडा एरिया कमेटी को सौंप दिया है लेकिन अब खबरें आ रही हैं कि नक्सली रोजाना रात में जवान की लोकेशन बदल रहे हैं। बुधवार शाम तक की जानकारी के अनुसार जवान को सुकमा-दंतेवाड़ा और बीजापुर के सरहदी इलाकों में घुमाया जा रहा है। रात में जवान की आंखों में पट्टी बांधकर पैदल चलाया जा रहा है और दिन में आराम करवाया जा रहा है।

सूत्रों का कहना है कि नक्सली जवान को तेलंगाना और आंध्र ले जाने से बच रहे हैं। नक्सलियों को डर है कि ग्रे-हाउंड कभी भी उन पर हमला कर सकती है। ऐसे में नक्सली उसे तीन जिलों के सरहदी जंगलों और बीहड़ वाले गांव में घूम रहे हैं। इसके अलावा एक खबर यह भी है कि मुठभेड़ स्थल के 80 किमी दायरे में ही जवान को यहां से वहां ले जाया जा रहा है। मुठभेड़ वाला इलाका बीजापुर-सुकमा बॉर्डर है।

बिना ऑपरेशन के ही होती रही है रिहाई

इधर बस्तर में नक्सलियों की ओर से जितने भी बड़े अपहरण की घटनाएं की गई हैं उनमें बिना ऑपरेशन के ही बंदियों की रिहाई हुई है। कलेक्टर एलेक्स पॉल मेनन से लेकर विदेशी नागरिक जॉन तक को नक्सलियों ने खुद ही रिहा कर दिया है। इनकी रिहाई किसी सैन्य ऑपरेशन के जरिए नहीं हुई है बल्कि आम लोगों, परिजन, मीडियाकर्मियों की अपील और प्रयासों से हुई है।

सबसे सुरक्षित रास्ता मध्यस्थता

वर्तमान परिस्थितियों में जवान की रिहाई का सबसे सुरक्षित रास्ता नक्सलियों की शर्त मनाना और मध्यस्थता टीम बनाकर उनकी मांग को सुनकर पूरा करना ही है। नक्सली पहले ही कह चुके हैं कि सरकार मध्यस्थता करने वालों के नाम तय कर दे तो जवान को मध्यस्थों के हवाले कर दिया जाएगा. लेकिन अभी तक सरकार की ओर से किसी भी मध्यस्थ का नाम तय नहीं किया गया है।

जवान को रिहा करें:सोनी सोरी

इधर जवान की रिहाई के लिए जेल बंदी रिहाई मंच के लोगों ने भी नक्सलियों से गुहार लगाकर जवान को रिहा करने की अपील की है। दंतेवाड़ा जिले से बुधवार को सोनी सोरी जेल बंदी रिहाई मंच की जया कश्यप, सुजीत कर्मा, लिंगा कुडोपी, संजय पंत सहित अन्य लोग जवान की रिहाई के लिए मुहिम की शुरुआत कर चुके हैं और ये सभी बुधवार को ही मुठभेड़ वाली जगह टेकलगुडा गांव पहुंच गए हैं। यहां पहुंचने के बाद सोनी सोरी ने स्थानीय ग्रामीणों से मुलाकात की। सोनी सोरी को ग्रामीणों ने बताया कि नक्सलियों ने जवानों को फंसाने से पहले पूरे गांव को खाली करवा दिया था। गांव के बारसा कुम्मा ने बताया 3 घंटे से अधिक समय तक गोली चली थी गांव में कोई भी नहीं था सभी पूवर्ती सहित आसपास के गांव चले गए थे। सोनी सोरी ने कहा कि को जवान की रिहाई को लेकर गंभीरता दिखानी चाहिए।

नक्सलियों ने जवान को रखा है वहां कई चुनौतियां

इधर सीआरपीएफ कोबरा बटालियन के जवान राकेश्वर सिंह की रिहाई के लिए फोर्स के पास कोई बड़ा विकल्प नहीं है। यदि जवान की रिहाई के लिए फोर्स ऑपरेशन भी लांच करती है और इसकी भनक नक्सलियों को लग जाती है तो नक्सली जवान की जान को खतरा भी हो सकता है। जिस इलाके में नक्सलियों ने जवान को रखा है वहां कई ऐसी चुनौतियां हैं जिनसे ऐसी परिस्थितियों में निपटना अभी संभव नहीं है।

वास्तविक लोकेशन किसी को पता नहीं

जवान की वास्तविक लोकेशन किसी को पता नहीं, अंदाज में यदि ऑपरेशन लांच किया गया तो नक्सलियों के एंबुश में फंसने का डर।जिस स्थान पर जवान को रखा गया है वह नक्सलियों का गढ़ है फोर्स के 10 किमी के दायरे में आते ही नक्सलियों को इसकी खबर लग जाएगी और जवान की जान को खतरा हो सकता है। जवान को जिस स्थान पर रखा गया है वहां की भौगोलिक स्थिति की जानकारी किसी को नहीं है ।

नक्सल विरोधी कार्ययोजना को अमल में लाने के केंद्र सरकार के संकेत स्वागत योग्य

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष साय ने कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार की नक्सली मोर्चे पर कमजोर नीतियों का ही यह दुष्परिणाम है कि नक्सलियों ने प्रदेश में अपने खूनी तांडव से दहशत कायम करने पर उतारू हो चले हैं और अब एक जवान को बंदी बनाकर सरकार के सामने मध्यस्थ नियुक्त करने के बाद जवान की रिहाई की शर्त रख रहे हैं। नक्सल विरोधी कार्ययोजना को अमल में लाने के केंद्र सरकार के संकेत का स्वागत करने के लायक है। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने जवानों से मुलाकात उनका हौसला बढ़ाया। देश की केंद्र सरकार लाल आतंक के खात्मे के लिए वचनबद्ध है।

Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it