छत्तीसगढ़

मरवाही को उपेक्षित रखने वाले आज गली-गली घूम रहे: सीएम

Admin2
31 Oct 2020 6:22 AM GMT
मरवाही को उपेक्षित रखने वाले आज गली-गली घूम रहे: सीएम
x

मरवाही उपचुनाव: भूपेश-रमन की सभाओं से चुनावी सरगर्मी तेज


रायपुर/गौरेला। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शुक्रवार को मरवाही विधानसभा के गौरेला ब्लॉक के बस्ती बगरा में चुनावी सभा को किया। उन्होंने कहा कि बस्ती बगरा से डॉ. भंवर सिंह पोर्ते का लगाव रहा है। उन्होंने अपनी अंतिम सांसे यही ली थी। उनकी बेटी अर्चना पोर्ते मंच पर उपस्थित है। सभा में अर्चना पोर्ते भावुक हो गई हुई। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी की उपस्थिति में अर्चना पोर्ते को पूर्ण विश्वास दिलाता हूं, बस्ती बगरा का विकास स्वर्गीय भंवर सिंह पोर्ते के सपनों को सकार करने के लिए किया जाएगा। भूपेश बघेल ने कहा कि कोरबा की सांसद ज्योत्स्ना महंत यहां उपस्थित है। मुख्यमंत्री ने अपील की कि मरवाही से कांग्रेस का विधायक बनाइए, सांसद और विधायक मिलकर मरवाही का विकास करेंगें। मुख्यमंत्री बघेल ने आज फिर भाजपा और रमन सिंह पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि 15 साल तक मरवाही को उपेक्षित रखने वाले डॉ. रमन सिंह आज मरवाही में गली-गली घूम रहे हैं। मरवाही की जनता भाजपा के और रमन सिंह के चेहरे को पहचान चुकी है। अब मरवाही की जनता आपके बहकावे में नही आएगी डॉ साहब। मरवाही विधानसभा का विकास कांग्रेस सरकार करेगी। जिला अनुभाग, पुलिस मुख्यालय, नगर पंचायत, तहसील, उपतहसील अनेकों सौगातें यहां के जनता को मिल चुकी है। शिक्षा और स्वास्थय के क्षेत्र में जिले को शिक्षित करेंगे। हाट बाजारों में स्वास्थ्य सुविधा प्रदान की जाएगी। मुख्यमंत्री ने अपील की कि 3 नवंबर को पंजा छाप पर बटन दबाकर कांग्रेस प्रत्याशी को अपना अशीर्वाद दें। चुनाव के बाद में पुन: बस्ती बगरा आउंगा और सभी के दिए गए आवेदनों की बात करूंगा।

चुनावी सभा को प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम ने भी संबोधित किया। मरकाम ने कहा कि मरवाही हमेशा से ही कांग्रेस का गढ़ रहा है। अब फर्जियों पर नहीं अर्जिर्यों पर कार्यवाही हो रही है। चुनाव असली आदिवासियों के बीच हो रहा है। कांग्रेस ने वादा किया था कि फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर नौकरी हो या नेतागीरी कोई असली आदिवासियों का हक नहीं मार सकेगा।कार्यक्रम को मंत्री कवासी लखमा सांसद, ज्योत्षना महंत भी मौजूद थीं। बस्ती बगरा से हेलीकॉप्टर से मुख्यमंत्री, प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम, उपाध्यक्ष अटल श्रीवास्तव को साथ लेकर दानीकुण्डी के लिए रवाना हुए। उन्होंने दानीकुण्डी में सभा ली। दानीकुण्डी से मरवाही तक रोड शो हुआ।

अर्चना पोर्ते सभा को संबोधित करते हुए रो पड़ी। उन्होंने चुनावी सभा को संबोधित करते हुए अपने पिता स्वर्गीय भंवर सिंह पोर्ते को याद किया। उनकी बात करते हुए भावुक हो गई और रो पड़ी। इस दौरान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम ने उन्हें सांत्वना दिया। स्व. इदिरा गांधी स्व. भंवर सिंह पोर्ते का बहुत सम्मान करती थी। आदिवासियों के विकास के लिए उनकी सलाह लिया करती थी। अर्चना पोर्ते ने कहा कि बस्ती बगरा में पहुंचते ही पिता की याद आ जाती है। उन्होने अंतिम सांस यही ली थी। मुख्यमंत्री बघेल का आभार प्रकट करते हुए अर्चना ने कहा कि वे बस्ती बगरा आज पहुंचे हैं।

मुझे विश्वास है कि मरवाही विधानसभा के साथ बस्ती बगरा का भी विकास करेंगे। मेरे पिता का सपना भी पूरा करेंगें। मैं अपने पिता के सपनों को पूरा करने के लिए ही भूपेश बघेल के नेतृत्व में स्व. इंदिरा गांधी की पार्टी में शामिल हुई। कांग्रेस ही आदिवासियों का, वनवासियों का और मरवाही का विकास कर सकती है। भाजपा ने 15 साल तक कोई विकास का कार्य यहॉ नही किया।


बीजेपी को जकांछ का समर्थन मिलने से चढ़ा सियासी पारा

्रमरवाही विधानसभा चुनाव में रोज नए समीकरण उभरकर सामने आ रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह और जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जकांछ) विधायक दल के नेता धर्मजीत सिंह की नजदीकी ने सियासी पारा बढ़ा दिया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मरवाही में एक दिन पहले कहा था कि जकांछ के विधायक संपर्क में हैं, लेकिन अभी उनको पार्टी में शामिल करने पर कोई विचार नहीं किया गया है। जकांछ विधायक देवव्रत सिंह ने तो खुलकर कांग्रेस के साथ आने का दावा भी कर दिया। इस बीच, रमन और धर्मजीत के बीच बढ़ी नजदीकी से नए समीकरण पैदा होते नजर आ रहे हैं। चर्चा है कि जकांछ के कुछ विधायकों को भाजपा अपने पाले में कर सकती है। यह चर्चा इसलिए भी है क्योंकि गुंडरदेही से पूर्व विधायक आरके राय शुक्रवार को मरवाही में भाजपा के मंच पर प्रचार करने पहुंचे। मीडिया से चर्चा में राय ने कहा कि वे भाजपा में जल्द प्रवेश करने वाले हैं।

इन सब के बीच शुक्रवार देर शाम जकांछ प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी के आधिकारिक वाट्सअप से एक संदेश आया। इसमें डा. रमन सिंह से हुई मुलाकात पर धर्मजीत सिंह का बयान जारी किया है। साथ ही दोनों के मुलाकात की तस्वीर भी जारी की। धर्मजीत ने साफ कहा कि हमारे दल जरूर अलग हैं, लेकिन दिल एक है। धर्मजीत सिंह और रमन सिंह के बीच बंद कमरे में करीब एक घंटे चर्चा हुई। मुलाकात के बाद धर्मजीत ने कहा कि अभी हमारा एकमात्र लक्ष्य अजीत जोगी को अपमानित करने वालों के खिलाफ जोगी परिवार को न्याय दिलाना है। इसके लिए मुझे जिससे मिलना पड़ेगा, उससे मिलूंगा। हमारे दल अलग हैं, लेकिन इस मुद्दे को लेकर हमारे दिल अलग नहीं है। कोई कुछ बोले, उसकी मैं परवाह नहीं करता हूं। जकांछ न किसी की ए टीम है और न बी टीम है। हम तो केवल सी मतलब छत्तीसगढ़ वासियों के अधिकारों की लड़ाई लडऩे वाली टीम हैं। धर्मजीत ने कहा कि आज इस लड़ाई का सीधा मतलब उस सरकार के खिलाफ वोट करना, जिसने 1500 रुपये पेंशन की जगह गरीबों को टेंशन दिया। 2500 रुपये बेरोजगारी भत्ता की जगह नौजवानों को केवल धक्का दिया। शराबबंदी की जगह पूरे प्रदेश को शराबमंडी बना दिया। बोनस की जगह केवल बोगस बातें की। बिजली बिल हाफ की जगह बिजली साफ कर दी और भ्रष्टाचार, लोकतंत्र की हत्या और गुंडाराज में रोज नए नए कीर्तिमान स्थापित कर रही है।

जकांछ शुरू से भाजपा की बी टीम बनकर कर रही काम- भूपेश : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जकांछ और भाजपा के बीच बढ़ी नजदीकी पर निशाना साधा है। सीएम बघेल ने मीडिया से चर्चा में कहा कि दोनों के बीच इस तरह का संबंध रहा है।


जकांछ ने हमेशा बी टीम के रूप में काम किया है। अंतागढ़ उपचुनाव में क्या हुआ, यह सबने देखा है। इनके बीच जो अंडर टेबल लेनदेन है, वह पहले भी होता रहा है। पूरे छत्तीसगढ़ और हिंदुस्तान के लोग जानते हैं। अभी भी कुछ हुआ होगा, तो उसकी जानकारी मुझे नहीं है। लेकिन ऐसी संभावनाओं से इनकार नहीं किया जा सकता है। वहीं, कांग्रेस प्रवक्ता आरपी सिंह ने दावा किया है कि जकांछ और भाजपा के बीच दस करोड़ की डील हुई है।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta