छत्तीसगढ़

हिस्ट्रीशीटरों के परेड के बाद भी नहीं रुक रही चाकूबाजी, लूट, चोरी

Admin2
2 Nov 2020 5:38 AM GMT
हिस्ट्रीशीटरों के परेड के बाद भी नहीं रुक रही चाकूबाजी, लूट, चोरी
x
गुंडों पर नकेल कसने पुलिस बना रही डिजिटल कुंडली...

जसेरि रिपोर्टर

रायपुर। राजधानी में हत्या के मामले बड़ी ही तेज़ गति से बढ़ते ही जा रहे है। जिससे रायपुर शहर में दहशत का माहौल बना हुआ है। पुलिस अपराधियों पर नकेल कसने लिस्टेड गुंड़ों की कुंडली बना रही है, जिससे जिस थाना क्षेत्र में वारदात होगी, पूरी हिस्ट्री गुंड़ों की एक क्लिक में मिल जाएगी और अपराधियों को पकडऩे में मदद मिलेगा। एसएसपी अजय यादव ने बताया कि अपराध का तरीका लगातार बदल रहा हैं। नए-नए गिरोह सामने आ रहे हैं। नए गिरोह के सदस्यों को ट्रेस करना कई बार मुश्किल होता है। पुलिस को वारदात का तरीका पता होता है तो आसानी से अपराधियों तक पहुंचा जा सकता है। इसलिए रायपुर में क्रिमिनल्स की लाइब्रेरी बनायी जा रही है। रायपुर शहर में आए दिन अपराध बढ़ते जा रहे है और कही न कही अपराध बढऩे के कारण नशे के कारोबार भी है,पुलिस भी नशे के कारोबारियों पर लगातार कार्रवाई करती जा रही है। लेकिन वे अपना धंधा बंद नहीं कर रहे है। जिसके चलते राजधानी में बेख़ौफ़ गुंडागर्दी का सिलसिला कम होने का नाम नहीं ले रहा है। एक तरह से देखा जाए तो राजधानी में अपराधी सक्रिय होकर रोजाना चाकूबाजी, मारपीट, लूट, चोरी, डकैती, और हिंसा जैसे वारदात को अंजाम दे रहे है। पुलिस ने अपराधियों पर अपना शिकंजा कसना शुरू करते ही अपराधियों में हड़कंप मचा हुआ है। रायपुर शहर के हर गली मोहल्लों में गुंडागर्दी आम बात है। जिसके चलते नाबालिग बच्चों से लेकर बड़े लोग भी नशे के जाल में फंसकर चाकूबाजी, मारपीट, हत्या के वारदात को अंजाम दे रहे हैं। राजधानी में अभी हाल ही में 7 दिन के अंदर आधा दर्जन से अधिक चाकूबाजी और 3 हत्या के मामले सामने आए हैं। रामकुंड, शंकर नगर, तेलीबांधा, मठपारा, लाखेनगर, सुंदर नगर, रोहिणीपुरम, चौबे कालोनी, वीआईपी रोड सहित आऊटर के गली मोहल्लों में खुलेआम छेड़छाड़, गाली-गलौज व मारपीट के मामले बढ़ गए हंै। नसेडिय़ों की खुलेआम गुंडागर्दी भी बढ़ गई है और सिगरेट, गांजा व शराब के नशे में पड़कर बड़े-बड़े वारदात को अंजाम दे रहे हैं। न्यायालयों में भी सबूत नहीं मिलने पर या जमानती धाराओं के अपराधों पर गुंडों को जमानत मिल जाती है। छूटने के बाद वे फिर से गुंडागर्दी करने सड़क पर उतर जाते हैं। ऐसी स्थितियों में लगातार चाकूबाजी, हत्या, लूट, चोरी जैसे वारदात पर अंकुश लगाने पुलिस हाथपैर मार रही है लेकिन सफलता नहीं मिल रही है।

मामूली विवाद पर तलवार

राजधानी में नशे की वजह से आज एक और हत्या हो जाती अगर पुलिस समय में नहीं आती तो। जी हाँ हम बात कर रहे है तेलीबांधा थाना क्षेत्र की जहां शराब की भट्टी पर दो व्यक्तियों के बीच झड़प हो रही थी जिसकी सुचना मिलते ही तेलीबांधा थाना पुलिस पेट्रोलिंग मौके पर पहुंची और एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया। झगड़ा किस बात से हुआ ये तो अब तक पता नहीं चल पाया है मगर झगड़ के बीच एक व्यक्ति ने अपने हाथ में तलवार ली और दूसरे व्यक्ति को मारने के लिए चढ़ गया समय पर पुलिस ने आकर दूसरे को बचा लिया और तलवार पकडे आरोपी को तत्काल गिरफ्तार किया। तलवारधारी व्यक्ति खुद को गोपाल बंजारे बता रहा है जिसकी उम्र 21 वर्ष है और ये युवक आरंग का रहने वाला है।पुलिस ने इस युवक पर वैधानिक कार्रवाई कर रही है। रायपुर पुलिस के दो जवानो ने आज एक व्यक्ति की जान बचाई और अपनी सूझबूझ से एक बड़ी वारदात होने से रोक लिया।

हिस्ट्रीशीटरों के बीच भी हुई झड़प

राजधानी में हिस्ट्रीशीटरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई नहीं होने से वे खुलेआम गुंडागर्दी पर उतर आए हैं। सेजबाहर इलाके में सिविल लाइन इलाके के हिस्ट्रीशीटर ने अपने साथियों के साथ मिलकर जमकर उत्पात मचाया। एक युवक को घर से बुलाकर पीटा। बचाव करने आए युवक को चाकू मार दिया। इससे युवक के पेट की अतडिय़ां बाहर आ गई। करीब आधे घंटे तक मोहल्ले उत्पात मचाया और लोगों को डराया-धमकाया। चर्चा है कि एक पार्टी से जुड़ा युवक मोहल्ले से गुजर रहा था। इस दौरान कुछ युवकों से विवाद हो गया। इसके बाद उसने गुंडों को बुलाकर युवकों पर हमला कराया। फिलहाल पुलिस ने हिस्ट्रीशीटर सहित सात आरोपियों को पकड़ा है। इनमें एक अपचारी बालक भी शामिल है, लेकिन उन आरोपियों के नाम नहीं हैं, जिनके खिलाफ पीडि़त ने शिकायत की थी।

राजधानी में बनाई जा रही क्रिमिनल्स की लाइब्रेरी

राजधानी में पुलिस अपराधियों की डिजीटल कुंडली तैयार कर रही है। इसमें निगरानी और आदतन अपराधियों के नाम, पते, फोन नंबर, बैंक खाते के ब्योरे के साथ उनके अंगूठे का निशान भी रहेगा। आंखों का बायोमेट्रिक भी सुरक्षित रखा जाएगा ताकि कोई भी पुलिस की निगरानी नई लिस्ट गलत जानकारी न दे सके। पूरा रिकॉर्ड कंप्यूटर में अपलोड किया जाएगा। पुलिस के अफसर जरूरत पडऩे पर नाम और जानकारी एंट्री करने के बाद एक क्लिक में उनकी पूरी कुंडली देख सकेंगे। इसमें छोटे से लेकर बड़े बदमाश और गिरोह की जानकारी होगी। गंज स्थित सायबर सेल ऑफिस में क्राइम ब्रांच में पदस्थ रहे पुराने अधिकारियों ने एक लाइब्रेरी तैयारी की है। इसमें 2017 तक के राजधानी में वारदात करने वाले 90 गिरोह और बदमाशों की जानकारी है। गिरोह के सदस्यों की फोटो, अपराध का तरीका और उनका कहां-कहां आपराधिक रिकॉर्ड है। इसकी जानकारी है।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta