छत्तीसगढ़

रायपुर में ड्रग तस्करी: डेढ़ दर्जन संदिग्धों की सूची तैयार

Admin2
7 Oct 2020 6:53 AM GMT
रायपुर में ड्रग तस्करी: डेढ़ दर्जन संदिग्धों की सूची तैयार
x

विक्की-श्रेयांस जैसे और भी है पैडलर्स है, लिंक जुड़ा है मुंबई और नागपुर के ड्रग्स माफि या से

ड्रग्स के चंगुल में फं से बड़े कारोबारी और बिल्डिंग कांट्रेक्टर, हर हफ्ते आती थी बड़ी खेप

जसेरि रिपोर्टर

रायपुर। ड्रग एडिक्टेड और खरीद -फरोख्त मामले में गिरफ्तार पैडलर्स श्रेयांस झाबक और विक्की उर्फ विकास बंछोर के मोबाइल चैट के आधार पर पुलिस ने डेढ़ दर्जन संदिग्धों की सूची तैयार की है। उनके बारे में पुलिस को शक है कि वे ड्रग्स के ग्राहक हैं। इस वजह से उन्हें पूछताछ के लिए बुलाया जा रहा है। इसमें राजधानी के अलावा बड़े शहरों के युवक-युवतियां शामिल हैं।

आनलाइन डिमांड पर राजधानी में सफेद नशे की बड़ी खेप हर हफ्ते पहुंच रही थी। ड्रग्स के चंगुल में फं से बड़े कारोबारी और बिल्डिंग कांट्रेक्टर के लिए हर हफ्ते बड़ी खेप आती थी। कुछ तो ऐसे हैं जो एक महीने में 60-60 हजार का नशा करते थे। मंगलवार को पुलिस ने तीन बिल्डिंग कांट्रेक्टरों से पूछताछ की। उन्होंने कुछ और ड्रग्स पैडलर्स के नाम बताए हैं। नए नाम सामने आने के बाद पुलिस अब जेल में बंद ड्रग्स पैडलर्स श्रेयांस झाबक और विक्की उर्फ विकास बंछोर को दोबारा रिमांड पर लेने की तैयारी कर रही है। अफ सरों के अनुसार ड्रग्स पैडलर्स से अब इस नए एंग्ल को लेकर पूछताछ की जाएगी। पुलिस की जांच में फं से दोनों बिल्डिंग कांट्रेक्टर का पेशा भले एक है, लेकिन वे अलग-अलग ड्रग्स खरीदते थे। पुलिस ने उनसे प्रारंभिक पूछताछ के बाद बताया कि तीनों नियमित ग्राहक हैं। वे नशे के इतने आदि हो चुके हैं कि एक दिन भी नशे के बिना नहीं रह सकते। ड्रग्स खरीदने के लिए उन्हें केवल वाट्सएप पर मैसेज करना पड़ता था। माल उनके पास पहुंच जाता था। माल मिलते ही वे पेमेंट कर देते थे।

नशे का धंधा पूरी तरह से कैश में : पुलिस ने पैडलर विकास और श्रेयांस से जब्त तीनों मोबाइल की जांच कर ली हैं। उसमें लोगों का चैट मिला है। अधिकांश लोग आरोपियों से माल या पावडर के नाम से ऑर्डर करते थे। कुछ लोगों ने हैश शब्द का उपयोग किया हैं। सफेद नशे का पूरा कारोबार कैश पर चलता है। पावडर मिलते ही ग्राहक को उसी समय पूरा पैसा कैश में देना पड़ता था।

क्वींस क्लब में पार्टी में शामिल आरोपी ने ड्रग्स को लेकर किया पोस्ट : लॉकडाउन में क्वींस क्लब में बर्थ डे पार्टी करने वाली एक युवती ने पिछले महीने सोशल मीडिया में एक वीडियो पोस्ट किया था। ड्रग्स का मामला फू टने के बाद इस वीडियो को हटा दिया गया है। पुलिस के अनुसार वीडियो में कार में बैठे युवक-युवतियों के हाथों में ड्रग्स की पुडिय़ा दिखाई दे रही है। फि र उसे लेने का का तरीका भी वीडियो में दिख रहा है। अब ये पोस्ट जमकर वायरल हो रहा है। तेलीबांधा पुलिस इसकी भी जांच कर रही है, क्योंकि क्लब की पार्टी में शराब के साथ सूखा नशा भी उडऩे का पता चला था। इस बिंदु पर भी जांच की जा रही है। वैसे इस मामले में आरोपी हितेंद्र पटेल का हाउसिंग बोर्ड के अधिकारी अजित पटेल से कनेक्शन भी पुलिस को खंगालने चाहिए।

एसएसपी अजय यादव ने चिंता जताई : एसएसपी अजय यादव ने युवाओं ड्रग्स जैसे नशा को लेकर चिंता जताई है। उन्होंने इस महंगे नशे के सौदागरों को पकडऩे के लिए टीम बनाई है। सभी टीमों को अलग-अलग बिंदु देकर टॉस्क दिया गया है। एसएसपी ने लोगों से अपील की है कि वे अपने बच्चों पर ध्यान दें। बच्चों को नशे की लत से बचाएं। पढऩे-लिखने और कुछ करने की उम्र में युवक-युवतियां इस तरह की नशा कर रहे हैं, तो समाज के लिए चिंता की बात है।

15 लोगों को दिया नोटिस

कोतवाली सीएसपी देवचरण पटेल के मुताबिक सफेद जहर के इस काले धंधे में पकड़े गए लोगों के साथ कई और लोगों के जुड़े होने की बात सामने आई है। जिन लोगों द्वारा ड्रग खरीदने की जानकारी मिली है, वे अपने उपयोग के लिए खरीदते थे या बेचने के लिए, इस बात की पुष्टि होना बाकी है। पुष्टि होते ही उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इस मामले में पुलिस ने नोटिस जारी कर अब तक तीन बड़े कारोबारियों से पूछताछ की है। वहीं 12 अन्य लोगों की सूची तैयार कर नोटिस भेजकर पूछताछ करेगी।

प्रतिबंध के बाद भी चल रहा हुक्काबार, वीआईपी रोड में छापा

वीआईपी रोड के एक रेस्टोरेंट में पुलिस ने सोमवार रात 11 बजे पुलिस ने छापा मारकर हुक्का और नशे की सामग्री जब्त की। रेस्टारेंट में नाबालिगों को हुक्का पिलाया जा रहा था। पुलिस को देखते ही नाबालिग अंधेरे का फायदा उठाकर भाग निकले। पुलिस पिछले कुछ दिनों से नशे के अवैध धंधे के खिलाफ अभियान चला रही है, उसके बाद भी रेस्टारेंट में बच्चों को हुक्का पिलाया जा रहा था। पुलिस ने बताया कि वीआईपी रोड माना पीटीएस के पास कारोबारी अभिषेक पाल का बीईडी रेस्टोरेंट हैं। आशीष मिश्रा वहां मैनेजर है। दोनों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। सरकार के प्रतिबंध के बाद भी वहां रेस्टोरेंट की आड़ पर हुक्का सेंटर चलाया जा रहा था। वहां आने वाले नाबालिगों को भी हुक्का परोसा जा रहा था। वरिष्ठ अधिकारियों को इसकी शिकायत मिली तो वहां आधी रात छापा मारा गया। पुलिस को देखकर कुछ नाबालिग भाग गए निकले। कुछ को पुलिस ने पकड़ा भी, लेकिन उनकी उम्र देखकर समझाइश देकर छोड़ दिया। हालांकि उनके परिजनों को बुलाकर उनके नशे के बारे में बताया गया। एसएसपी अजय यादव ने बताया कि किसी भी रेस्टोरेंट, कैफे या होटल में अवैध या गैरकानूनी काम करते मिला तो कर्मचारियों के साथ मालिकों पर भी कार्रवाई की जाएगी। इस संबंध में राजधानी के होटल कारोबार से जड़े लोगों को नोटिस जारी कर अवैध रूप से किसी भी तरह के नशे की अनुमति न देने को कहा है। होटलों की जांच के लिए एक टीम भी बनाई गई है। ये टीम समय-समय पर वहां छापा मार कार्रवाई करेगी।

कोकीन के शौकीनों के गिरेबान तक नहीं पहुंचा पुलिस का हाथ

कोकीन मामले में गिरफ्तार आरोपियों से आधा दर्जन से अधिक रईसजादों के नाम मिले हैं। इन रईसजादों पर पुलिस की नजर है, उन्हें पकडऩे के लिए पुलिस हाथ पैर मार रही है लेकिन सफलता अभी दूर नजर आ रही है इसकी वजह है कि पुलिस, रईसजादों का अभी तक सबूत इक_ा नहीं कर पाई है। पुलिस की टीम सबूूत इक_ा करने में जुटी है। पुलिस का दावा है कि मामले में जितने भी लोगों के नाम सामने आएंगे, उन पर कार्रवाई की जाएगी। वहीं दूसरी तरफ इस मामले से जुड़े फ रार लोगों को पकडऩे के लिए जल्द ही पुलिस द्वारा गठित टीम अलग-अलग जिले में दबिश देने की तैयारी कर रही है। पुलिस ने श्रेयांश झाबक और विकास बंछोर दोनों के पास से 17 ग्राम कोकीन के साथ मापने वाली मशीन जब्त की गई थी।

गिरफ्तार आरोपितों के पास से चार सिम कार्ड मिले हैं। पुलिस ने सिम कार्ड से डिटेल रिकार्ड खंगाल लिया है। इससे अहम सुराग हाथ लगे हैं।

कोकीन तस्कर हमारे राडार पर

कोकीन मामले के आरोपी हमारे राडार में हैं। हम उन पर नजर बनाए हुए हैं, लेकिन हम सबूत का इंतजार कर रहे हैं। सबूत मिलते ही इन पर कार्रवाई की जाएगी।

-लखन पटले, एएसपी, शहर

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta