छत्तीसगढ़

सरकारी योजना से सपना हुआ साकार: युवा ने फर्नीचर मार्ट स्थापित कर स्वयं को बनाया स्वावलम्बी

Janta Se Rishta Admin
6 Aug 2022 1:10 AM GMT
सरकारी योजना से सपना हुआ साकार: युवा ने फर्नीचर मार्ट स्थापित कर स्वयं को बनाया स्वावलम्बी
x

गरियाबंद। विकासखण्ड अंतर्गत ग्राम फुलकर्रा निवासी श्री हुम्मन लाल निषाद फर्नीचर दुकान से अंचल में पहचान बना चुके है। अब वे खुद का फर्नीचर मार्ट स्थापित करके 15 हजार रूपये हर माह आय अर्जित कर रहे हैं। साथ ही दो बेरोजगार युवाओं को रोजगार भी दे रहे हैं। जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र अंतर्गत संचालित प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत श्री निषाद के कार्य को देखते हुए वर्ष 2020-21 में फर्नीचर कार्य के लिए उन्हें 3 लाख 50 हजार रूपये का ऋण स्वीकृत किया गया। जिससे उन्होंने गरियाबंद में रवि फर्नीचर मार्ट के नाम से इकाई स्थापित किया।

हुम्मन लाल निषाद ने बताया कि वे कक्षा 8वीं तक ही पढ़ाई किये है। आगे की पढ़ाई घर की आर्थिक परिस्थितियों के कारण नहीं कर पाया। 8वीं कक्षा की पढ़ाई के बाद वे बेरोजगार थे। काम की तलाश में लगा हुआ था। साथ ही साथ कुछ फर्नीचर का कार्य भी करने लगा। जिसमें पहले से उनकी रूचि थी। इस काम को वे आगे बढ़ाना चाह रहा था। लेकिन पैसे के अभाव में सफल नहीं हो पा रहा था। इसी दौरान दैनिक समाचार पत्र में प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम का विज्ञापन देखा मैंने कार्यालय, जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र, गरियाबंद से मार्गदर्शन एवं योजना के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त की। इसके पश्चात् मैंने आवश्यक दस्तावेजों सहित आवेदन प्रस्तुत किया। जिला स्तरीय टास्क फोर्स कमेटी में साक्षात्कार पश्चात मेरा प्रकरण लोन हेतु स्वीकृत किया गया। मेरा प्रकरण स्वीकृत होने पर मुझे यूनियन बैंक, शाखा-गरियाबंद से पहले किस्त के रूप में 3 लाख रूपये प्रदान किया गया। जिसमें मैंने जरूरी मशीन व उपकरण क्रय करके अपनी स्वयं की फर्नीचर वर्क की इकाई प्रारंभ कर दी। वर्तमान में मुझे लगभग 15 हजार रूपये प्रतिमाह आय होने लगी है और मैं अपने परिवार का पालन पोषण अच्छे से कर पा रहा हूं। साथ ही 02 बेरोजगार युवकों को भी मैंने काम पर रख कर जीविकोपार्जन साधन उपलब्ध कराया है। प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम योजना ने मुझे स्वयं का उद्यम स्थापित करने में महत्वपूर्ण साथी बनकर मेरा सपना साकार कर दिया।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta