छत्तीसगढ़

रायपुर कलेक्टर द्वारा की गई ''गौठान पहुंच कार्यक्रम'' की डि-ब्रीफिंग

Janta Se Rishta Admin
12 April 2022 6:58 AM GMT
रायपुर कलेक्टर द्वारा की गई गौठान पहुंच कार्यक्रम की डि-ब्रीफिंग
x

रायपुर। कलेक्टर सौरभ कुमार द्वारा आज यहां विज्ञान महाविद्यालय परिसर स्थित पंडित डी.डी.यू ऑडिटोरियम में गत् दिवस 8 अप्रैल को जिले के गौठानों में आयोजित हुए ''गौठान पहुंच कार्यक्रम'' की डि-ब्रीफिंग की गई।

कलेक्टर द्वारा गौठान प्रबंधन समिति के कार्य एवं दायित्व के संबंध में विस्तार से चर्चा की गई। उन्होंने गोबर खरीदी कार्य पर विशेष रूप से जोर देने कहा। उन्होंने सभी गौठानों में सप्ताह में कम से कम चार दिन गोबर खरीदी कार्य सुनिश्चित करने अधिकारियों को निर्देशित किया और कहा कि वर्मी कंपोस्ट के विक्रय में किसी प्रकार की दिक्कत नहीं आना चाहिए। प्रत्येक एकड़ के हिसाब से 1 क्विंटल वर्मी कंपोस्ट दिए जाने का निर्णय लिया गया है। गौठानों में पर्याप्त वर्मी कंपोस्ट पैकेट उपलब्ध होना चाहिए। उन्होंने वर्मी कंपोस्ट के उठाव के संबंध में चर्चा करते हुए कहा की ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारियों एवं समिति प्रबंधकों के साथ बेहतर समन्वय होना चाहिए।

कलेक्टर ने कहा कि जिस गौठानों में वर्मी रखने के लिए पर्याप्त जगह उपलब्ध नहीं है, वहां अलग से शेड बनाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि गौठानों में चारागांह के लिए निर्धारित जगह पर सब्जी भाजी नहीं लगाना चाहिए। कलेक्टर ने गौठानों से जुड़े स्व सहायता समूह के सदस्यों की औसत आय के बारे मे जानकारी ली और उनके आय बढ़ाने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि स्थानीय लोगों की मांग और खपत के आधार पर स्थानीय स्तर पर गौठान में आवश्यक वस्तूओं का उत्पादन किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि हाईवे से लगे गौठानों में वहां उत्पादित वस्तुओं का विक्रय भी किया जा सकता है।

कलेक्टर ने कहा की पीएम किसान सम्मान निधि के तहत किसानों को मिलने वाली राशि के लिए किसानों का ई-केवाईसी होना जरूरी है। उन्होंने संबंधित आधिकारियों से कहा कि जिन ग्राम पंचायतों में किसानों की ई-केवाईसी की स्थिति बेहतर नहीं है, वहां कॉमन सर्विस सेंटर वालों को भेजकर पंजीयन सुनिश्चित कराए।

कलेक्टर ने सोसाइटी में यूरिया, सुपर फास्फेट, खाद, बीज, उर्वरक की उपलब्धता आदि की जानकारी लेते हुए किसानों को भी अवगत कराने कहा। धान के बदले अन्य फसलों को बढ़ावा देने हेतु रायपुर जिले को कुल 7200 हेक्टेयर का लक्ष्य शासन द्वारा दिया गया है, लक्ष्य की प्राप्ति सुनिश्चित करने संबंधित अधिकारियों से कहा।

उन्होंने कहा कि गौठानों को मल्टी एक्टिविटी सेंटर तथा रूरल इंडस्ट्रियल पार्क के रूप में विकसित किया जा सकता है। गौठान में उत्पादित वस्तुओं का पैकेजिंग, ब्रांडिंग कर स्थानीय बाजार, खुले बाजार तथा अन्य बाजारों में भी भेजा जा सकता है।

जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री मयंक चतुर्वेदी ने अधिकारियों से कहा कि सफल स्व सहायता समूह के कार्यों का व्यापाक रूप से प्रचार-प्रसार किया जाए तथा अन्य स्व सहायता समूह के लोगों से उनका समन्वय कराया जाए। कर्मचारियों ने कुछ गौठानों की बिजली-पानी आदि की समस्या से भी कलेक्टर को अवगत कराया।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta