छत्तीसगढ़

महिला समूहों को आत्मनिर्भर होने कलेक्टर पीएस एल्मा ने किया प्रोत्साहित

Janta Se Rishta Admin
4 Feb 2022 11:55 AM GMT
महिला समूहों को आत्मनिर्भर होने कलेक्टर पीएस एल्मा ने किया प्रोत्साहित
x

धमतरी। कलेक्टर पी.एस. एल्मा ज़िले के महिला समूहों को आत्मनिर्भर करने और उनके आय का एक पुख्ता जरिया बनाने लगातार कोशिश कर रहे हैं। इन्हीं कोशिशों के बीच आज वे कुरूद के नारी स्थित मल्टी एक्टिविटी सेंटर पहुंचे। इस दौरान कलेक्टर ने समूह की महिलाओं से चर्चा कर उन्हें हथकरघा एवं ग्लेज़िंग यूनिट स्वयं संचालित करने प्रोत्साहित किया, जिससे वे आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर और सशक्त बन सकें। साथ ही कलेक्टर ने मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत कुरूद को निर्देशित किया वे महिला समूहों को आत्मनिर्भर बनाने एक बेहतरीन और विस्तृत कार्ययोजना बनाएं। नारी स्थित इस केन्द्र में कलेक्टर ने कच्चेमाल की उपलब्धता, मार्केटिंग, स्टॉक पंजी का सही तरीके से संधारण करने के निर्देश दिए। इस केंद्र में खादी ग्रामोद्योग और आजीविका मिशन के अभिसरण से समूह की महिलाओं के लिए 50 नग मशीन स्थापित कर उन्हें हथकरघा चलाने में पारंगत किया गया है। इस केंद्र में माटीकला बोर्ड द्वारा आधुनिक माटीकला इकाई की स्थापना की गई है। कुम्हारों के पारंपरिक कार्य को नए आधुनिकता से जोड़ यहां ग्लैजिंग यूनिट की स्थापना की गई है।

वर्तमान में एमयूसी नारी में हथकरघा कार्य मे 30 महिलाएं कार्यरत हैं और प्रतिमाह 7500 से 8000 रुपये तक आय प्राप्त कर रही हैं। माटीकला से 23 महिलाएं जुड़ी हैं। इसमें 12 कुम्हार समुदाय एवं 11 अन्य समूह की महिलाएं हैं। इन्हें प्रतिदिन 450 से 500 रुपये आय होता है। कलेक्टर ने इन दोनों कार्यों में लगे महिला समूहों को खुद अपनी कला के सभी आयामों को सीखने, समझने तथा माटीकला से जुड़े समूह को ग्लैजिंग यूनिट का स्वयं संचालन करने प्रोत्साहित किया।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta