बिहार

शादी की तारीख हो गई थी तय, छप चुके थे कार्ड, फिर हुआ कुछ ऐसा

Kunti Dhruw
12 April 2022 6:19 PM GMT
शादी की तारीख हो गई थी तय, छप चुके थे कार्ड, फिर हुआ कुछ ऐसा
x
एक तरफ जहां मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) बिहार में दहेज मुक्त शादी को लेकर अभियान चला रहे हैं

नवादा: एक तरफ जहां मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) बिहार में दहेज मुक्त शादी को लेकर अभियान चला रहे हैं, वहीं दूसरी ओर दहेज लोभी पैसों की लालच में तरह-तरह की अमानवीय घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं. ताजा मामला प्रदेश के नवादा जिले का है, जहां अधिक दहेज के चक्कर में वर पक्ष तय रिश्ता तोड़ कर अपने बेटे की दूसरी लड़की से शादी करा रहा है. मामला जिले के नगर थाना क्षेत्र का है.

दहेज में दिए थे आठ लाख रुपये
मिली जानकारी अमुसार उक्त थाना के मोहिउद्दीनपुर गांव निवासी स्व. रामरूप माहतो की बेटी निभा कुमारी की शादी गया जिले के बाराचट्टी थाना क्षेत्र के चिंतावनडीह निवासी तालकेश्वर प्रसाद उर्फ लट्टू महतो के बेटे सतीश कुमार के साथ तय हुई थी. शादी में दहेज के तौर पर आठ लाख रुपये दिए गए थे, जिसके बाद शादी की तारीख मुकर्रर हो गई. 24 जून को शादी की तिथि निर्धारित की गई, जिसके बाद लड़की पक्ष के लोगों ने कार्ड छपवा कर सगे-संबंधियों के बीच बांटना शुरू कर दिया.मैरेज हाल, बैंड, डेकोरेशन आदि वालों से भी बात कर एडवांस दे दिया गया. इसी बीच लड़का पक्ष के लोगों का लालच बढ़ गया और वे दस लाख रुपये की मांग करने लगे. यह सुन लड़की के परिवार वालों के होश उड़ गए. उन्होंने लड़का पक्ष के लोगों से बातचीत करने का काफी प्रयास किया, लेकिन उन लोगों ने दस लाख रुपये लिए बगैर शादी करने से मना कर दिया. कन्या पक्ष के लोगों ने उन्हें समझाने की बहुत कोशिश की लेकिन वे नहीं मानें.
वर पक्ष के लोगों ने आठ लाख रुपये में 5 लाख 25 हजार रुपये वापस कर दिए और शेष राशि देने से इनकार कर दिया. अब लड़के की शादी कादिरगंज में कराई जा रही है. तिलक की रस्म अदा कर ली गई है. 13 अप्रैल को बारात आने वाली है. इस बात से निराश लड़की के भाई दिलीप कुमार ने नगर थाना में शिकायत दर्ज कराई है.


Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta