बिहार

गया में नाकाम रही नक्सलियों की बड़ी साजिश, पुलिस पार्टी पर हमले के लिए लगाए थे आईईडी व सिलेंडर बम

Bhumika Sahu
16 Aug 2022 9:28 AM GMT
गया में नाकाम रही नक्सलियों की बड़ी साजिश, पुलिस पार्टी पर हमले के लिए लगाए थे आईईडी व सिलेंडर बम
x
पुलिस पार्टी पर हमले के लिए लगाए थे आईईडी व सिलेंडर बम

गया. बिहार में गया पुलिस ने नक्सलियों की बड़ी साजिश को नाकाम कर दिया है। नक्सलियों द्वारा पुलिस बल को भारी नुकसान पहुंचाने के लिए आईडी बम लगाए गए थे, जिसे पुलिस बल ने बरामद कर डिफ्यूज्ड कर दिया है। जाानकारी के अनुसार, बाराचट्‌टी प्रखंड के नागोवार गांव से 400 मीटर दूर घने जंगल से एसएसबी और सीआरपीएफ के जवानों ने नक्सलियों द्वारा लगाए गए 10 आईईडी बम बरामद किए हैं। बरामद किए गए सभी आईईडी 150-200 मीटर के दायरे में लगाए गए थे। 10 आईईडी में से 6 केन बम हैं और शेष 4 सिलेंडर बम बताए जा रहे हैं।

नक्सलियों ने सभी बमों को एक ही वायर से कनेक्ट किया था। ताकि ब्लास्ट घातक और जबरदस्त तरीके से हो। घटनास्थल से यह बात सामने आई है कि बम को सुरक्षाबलों ने घटनास्थल पर ही डिफ्यूज कर दिया है।
सर्च अभियान में जुटी टीम को मिली सफलता
एसएसबी और सीआरपीएफ की टीम सर्च अभियान में जुटी थी। अभियान के तहत नागोवारा किस जंगल में एसएसबी के अफसर रामवीर सिंह की नजर वहां पड़े प्लास्टिक के दो तीन रेपर पर पड़ी। जिसके बाद जब सुरक्षा बलों ने चारों तरफ सर्च अभियान चलाया तो सुरक्षाबलों द्वारा जंगल से 10 आईडी बम बरामद किए गए साथ ही सभी बंबू को एक ही वायर से कनेक्ट किया गया था। बमों में नक्सलियों द्वारा बिजली के कोडेक्स तार पर जगह-जगह गांठ भी दिया गया था। ताकि ब्लास्ट घातक और जबरदस्त तरीके से हो। बमों को सुरक्षाबलों ने जंगल में ही डिफ्यूज किया।
पेड़ के नीचे प्लांट किए गए थे बम
एसएसबी के अधिकारियों द्वारा बताया गया कि सभी बड़ों को महुआ और बरगद पेड़ के नीचे प्लांट किया गया था। अधिकारियों का कहना है कि नक्सली ऐसा इसलिए करते हैं क्योंकि फोर्स गश्त के दौरान आराम करने के लिए घने पेड़ के नीचे ही शरण लेते हैं। नक्सलियों ने इसलिए बम को पेड़ के नीचे प्लांट किया था। मगर सुरक्षाबलों ने नक्सलियों के मंसूबे को नाकाम कर दिया।
फोर्स को हो सकता था बड़ा नुकसान
बताया जाता है कि ग्राम नागोवार से 400 मीटर दक्षिण में ये जंगली इलाका नक्सली का गढ़ माना जाता है। जहां सुरक्षाबलों को घात लगाकर नुकसान पहुंचाने के लिए बम प्लांट किया गया था। नक्सलियों की मंशा सफल हो जाती तो फोर्स को बड़ा नुकसान हो सकता था। आए दिन इस क्षेत्र के नक्सलियों की गिरफ्तारी और हथियार एंव बम बरामदगी से नक्सलियों का मनोबल गिरा हुआ है। इसी कड़ी में सुरक्षा बलों को एक और सफलता मिली।


Next Story
© All Rights Reserved @ 2023 Janta Se Rishta