असम

बाढ़ और भूस्खलन : आपदा प्रबंधन द्वारा जानिये बाढ़ से निपटने निम्न बातें

Admin2
21 May 2022 8:59 AM GMT
बाढ़ और भूस्खलन : आपदा प्रबंधन द्वारा जानिये बाढ़ से निपटने निम्न बातें
x
1,413 गांव बुरी तरह से प्रभावित

जनता से रिश्ता वेबडेस्क : अधिकारियों ने कहा कि भारत के पूर्वोत्तर राज्य असम में प्री-मानसून बारिश के कारण हुई भारी बाढ़ और भूस्खलन में कम से कम 10 लोगों की मौत हो गई और 700,000 से अधिक लोग प्रभावित हुए.हालात ये है कि कहीं स्टेशन पर खड़ी ट्रेन पलट गई तो कहीं देखते ही देखते आंखों के सामने से एक पूरा लोहे का पुल पानी में बह गया। कई जगह भूस्खलन की घटनाएं सामने आई हैं।असम में बाढ़ और बारिश से हालात बेकाबू हैं। राज्य आपदा प्रबंधन के अनुसार, बाढ़ की वजह से राज्य के 1,413 गांव बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं।

बाढ़ आने से पहले क्या किया जाए
बाढ़ से निपटने की तैयारी के लिए, आपको निम्न बातों को ध्यान में रखना चाहिएः
बाढ़ प्रवण क्षेत्रों में तब तक निर्माण से बचना चाहिए जब तक कि आपको अपने घर की मंजिल/तल बढ़ाने अथवा उसे सुदृढ़ करने की आवष्यकता न हो।
यदि बाढ़ आने की आशंका रहती हो तो भट्टी (फर्निस), जल तापक (वाटर हीटर) तथा इलेक्ट्रिक पैनल (बिजली बोर्ड) को किसी ऊंचे स्थान पर रखें।
अपने घर की नालियों में बाढ़ के पानी को घुसने से रोकने के लिए मोरी की जालियों (सीवर ट्रैप्स) में "चेक वाल्व" लगाना।
अपने समुदाय अधिकारियों को यह पता लगाने के लिए संपर्क करना कि क्या वे आपके क्षेत्र में घर में बाढ़ के पानी को घुसने से रोकने के लिए अवरोधक {बांधों, बीमों तथा बाढ़ से बचने हेतु दीवारों-फ्लड वाल्स} का निर्माण करने की योजना बना रहे हैं।
रिसाव (सीपेज) को रोकने के लिए अपने बेसमेन्ट में वाटर प्रूफिंग कम्पाउंड से दीवारों को सील करना।
यदि बाढ़ आपके क्षेत्र में आने वाली हो तो आपको निम्न बातें ध्यान में रखनी चाहिएः
सूचना के लिए रेडियो सुनना या टेलीविजन देखना।
सजग रहें कि आकस्मिक बाढ़ भी आ सकती है। यदि एक आकस्मिक बाढ़ आने की कोई संभावना हो तो किसी ऊचें स्थान पर तुरंत चले जाएं। ऊचें स्थान जाने के लिए किसी हिदायत का इंतजार न करें।
नदियों, नहरों, नालों, घाटियों तथा अचानक बाढ़-ग्रस्त होने वाले अन्य क्षेत्रों से परिचित रहे। इन क्षेत्रों में बारिश के बादल या भारी बारिष जैसी किसी विशिष्ट चेतावनी के साथ या उसके बिना आकस्मिक बाढ़ आ सकती है।
यदि बाढ़ की आशंका से आप अपना घर खाली करने को तैयार हों, तो आपको निम्न प्रकार करना चाहिएः
अपने घर को सुरक्षित करें। यदि आपके पास समय है तो घर के बाहर रखा (आउटडोर) फर्नीचर घर में लाएं। जरूरी चीजों को किसी ऊपरी तल पर ले जाएं।
उपयोगी सुविधाओं के मेन स्विचों या वाल्वों को तब तुरंत बंद कर दें, जब आपको ऐसा करने को कहा जाए। बिजली के उपकरणों को डिस्कनेक्ट (बिजली से अलग) कर दें। यदि आप गीले हों अथवा पानी में खड़े हों तो बिजली के उपकरणों को न छुएं।
यदि आपको अपना घर छोड़ना पड़े तो बाढ़ में से सुरक्षित निकलने के लिए इन जरूरी बातों को याद रखें:
बहते पानी में न चलें, 6 इंच की गहराई वाले बहते पानी में आप गिर सकते हैं। यदि आपको पानी में चलना हो तो वहां चलें जहां पानी बह न रहा हो। अपने आगे जमीन की सतह की मजबूती को जांचने के लिए छड़ी का प्रयोग करें।
बाढ़ वाले इलाकों में ड्राइविंग न करें। यदि बाढ़ का पानी आपकी कार के आस-पास जमा हो जाए तो कार को वहीं छोड़ दें तथा यदि आप ऐसा सुरक्षित रूप से कर सकें तो तुरंत किसी ऊंचे स्थान पर चले जाएं क्योंकि आप और आपका वाहन पानी में तेजी से बह सकता है।
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta