लाइफ स्टाइल

असली और नकली गुड़ की पहचान आसान तरीके से करें

Bhumika Sahu
15 Sep 2021 5:39 AM GMT
असली और नकली गुड़ की पहचान आसान तरीके से करें
x
आजकल बाजार में केमिकल युक्त गुड़ मिलने लगा है जो हेल्थ के लिए नुकसानदेह है. इसलिए असली गुड़ की पहचान जरूरी है.

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक विश्व में 42.2 करोड़ लोगों को डायबिटीज है. डायबिटीज लाइफस्टाइल से संबंधित गंभीर बीमारी है. जब ब्लड में शुगर की मात्रा बढ़ जाती है, तब डायबिटीज की बीमारी लग जाती है. गलत खान-पान और ज्यादा मात्रा में चीनी के सेवन को इसके लिए जिम्मेदार माना जाता है. ज्यादा चीनी का सेवन हेल्दी व्यक्ति को भी नुकसान पहुंचा सकता है. बाजार में चीनी के कई विकल्प मौजूद हैं, लेकिन इन विकल्पों में गुड़ सबसे ज्यादा मुफीद है. गुड़ न सिर्फ शुगर के मरीजों के लिए बल्कि हेल्दी लोगों के लिए भी फायदेमंद साबित हो सकता है. गुड़ को देसी तरीके से बनाया जाता है. हालांकि, आजकल गुड़ को ज्यादा अच्छा दिखाने के लिए इसमें कुछ केमिकल मिलाए जाने लगे हैं. ये केमिकल शरीर के लिए नुकसानदेह हो सकते हैं. इसलिए असली गुड़ की पहचान जरूरी है. इंस्टाग्राम पर शेफ पंकज भदौरिया ने असली और नकली गुड़ की पहचान के तरीकों के बारे में बताया है. आप इन टिप्स की मदद से केमिकल युक्त गुड़ को पहचान सकते हैं.

असली गुड़ की पहचान कैसे करें?
गुड़ में सबसे ज्यादा सोडा का इस्तेमाल किया जाता है. जिस गुड़ में सोडा का इस्तेमाल ज्यादा होगा, वह गुड़ सफेद ज्यादा होगा. इसके अलावा केमिकल के मिले होने के कारण गुड़ देखने में बहुत ज्यादा अच्छा होता है, लेकिन ऐसा गुड़ क्वालिटी में अच्छा नहीं होगा. ऐसे गुड़ में कैल्शियम कार्बोनेट और सोडियम बाइकार्बोनेट मिला हुआ हो सकता है.
कैल्शियम कार्बोनेट के कारण गुड़ का वजन बढ़ जाता है. जबकि कैल्शियम बाइकार्बोनेट के कारण गुड़ में पॉलिश लुक दिखता है लेकिन यह हेल्थ के लिए नुकसानदेह हो सकता है. असली गुड़ डार्क ब्राउन या काला दिखता है. गांवों में इसी तरह का गुड़ बनाया जाता है.
– केमिकल मिलाया हुआ गुड़ नमकीन और कड़वा होता है.
– नकली गुड़ में शुगर क्रिस्टल मिलाया जाता है ताकि इसकी मिठास बढ़ जाए.
– गुड़ अगर पानी में पूरी तरह से न घुले या गुड़ का टुकड़ा पानी के नीचे जम जाए तो ऐसा गुड़ नकली है.


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it