लाइफ स्टाइल

रोज़ाना की दाल में कैसे बढ़ाएं फ्लेवर ,कुकिंग टिप्स

Dev upase
25 Nov 2021 11:13 AM GMT
रोज़ाना की दाल में कैसे बढ़ाएं फ्लेवर ,कुकिंग टिप्स
x

रोज़ाना की दाल में कैसे बढ़ाएं फ्लेवर ,कुकिंग टिप्स

दाल का इस्तेमाल हर घर में होता है और भारत में ये अलग-अलग तरह की डिशेज के रूप में पकाई जाती है। कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक दाल का इस्तेमाल जरूर होता है।


जनता से रिश्ता वेबडेस्क। दाल का इस्तेमाल हर घर में होता है और भारत में ये अलग-अलग तरह की डिशेज के रूप में पकाई जाती है। कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक दाल का इस्तेमाल जरूर होता है। अगर देखा जाए तो दाल एक ऐसा पकवान है जिसे आप छोटे-छोटे ट्रिक्स का इस्तेमाल करके ही काफी फ्लेवरफुल बना सकते हैं। जरा सोचिए कि दाल को बनाने के लिए आपने कौन सा तरीका इस्तेमाल किया है।
दाल में स्पाइस बहुत ज्यादा हो तो ये अच्छी नहीं लगती है बल्कि इसमें मसालों की जगह फ्लेवर होना चाहिए जैसे दक्षिण भारत और श्रीलंका में नारियल का फ्लेवर दिया जाता है और गुजरात में गुड़ से दाल में मिठास लाई जाती है। आज हम आपको कुछ ऐसी चीजों के बारे में बताएंगे जो दाल में मिलाकर हम उसका फ्लेवर बढ़ा सकते हैं।
1. नारियल-
आपको शायद सुनकर ये अजीब लगे, लेकिन नारियल का तेल और ग्रेट किया हुआ नारियल दोनों ही दाल में मिलाया जाता है। श्रीलंका और तमिलनाडु में इस तरह की दाल काफी लोकप्रिय हैं। इनमें जीरे की जगह सरसों के बीज का तड़का लगाया जाता है
कैसे करें नारियल का इस्तेमाल-
तड़का लगाते समय नारियल का तेल इस्तेमाल करें।
दाल बनाने के बाद ऊपर से थोड़ा ग्रेटेड नारियल डाला जा सकता है।
दाल उबालते समय थोड़ा सा ग्रेटेड नारियल डाला जा सकता है।
आप ग्रेटेड नारियल की जगह कोकोनट मिल्क भी इस्तेमाल कर सकते हैं जो दाल में फ्लेवर लाएगा।
2. लहसुन-
अब आप सोचेंगे कि लहसुन का इस्तेमाल तो वैसे भी दाल में होता है तो इसमें नया क्या है। इसे इस्तेमाल करने का तरीका ही लहसुन के स्वाद को बदल देता है। इसे तड़के में इस्तेमाल करने से उतना फ्लेवर नहीं आएगा जितना दूसरी तरह से आ सकता है।
कैसे करें लहसुन का इस्तेमाल-
अगर आपको लहसुन का इस्तेमाल करना है तो आप दाल उबालते समय कच्चे लहसुन की कुछ कलियां हल्दी और नमक के साथ कुकर में डाल दें।
आप अगर तड़के में लहसुन का इस्तेमाल कर रही हैं तो थोड़ा सा ग्रेट किया हुआ कच्चा लहसुन भी मिलाएं।
क्रश्ड लहसुन कटे हुए लहसुन की तुलना में ज्यादा बेहतर होता है।
3. सरसों का तेल और घी-
दाल का फ्लेवर कई स्वाद का मिक्सचर होता है और ऐसे में आप अपनी दाल में थोड़ा सा सरसों का तेल और घी इस्तेमाल कर सकते हैं। ये दाल सर्दियों के समय काफी अच्छी लगेगी और फ्लेवर की बात करें तो इसमें बहुत सारा फ्लेवर होगा।
कैसे करें दोनों का इस्तेमाल?
घी को दाल उबालते हुए मिलाएं या फिर दाल पक जाने के बाद आप ऊपर से डालें।
सरसों के तेल को अच्छे से पका कर उसमें तड़का लगाएं और फिर ऊपर से घी डालें।
ये दोनों एक साथ इस्तेमाल करने पर दाल का टेक्सचर भी अलग लगता है।
4. कलौंजी-
आपने दाल में जीरा और राई तो डालते हुए देखा होगा, लेकिन कलौंजी भी इसके फ्लेवर को बहुत बढ़ा सकती है। बस ध्यान ये रखें कि इसे बहुत ज्यादा इस्तेमाल ना करें वर्ना ये कड़वापन भी ला सकती है। इसका काफी एरोमेटिक फ्लेवर दाल में आता है। इसका इस्तेमाल मसूर की दाल में करें जिसमें कलौंजी अच्छी लगती है।
कैसे करें कलौंजी का इस्तेमाल?
तड़का लगाने के लिए गर्म तेल में थोड़ी सी कलौंजी डालें और फिर लाल मिर्च और कटे हुए टमाटर से तड़का लगाएं।
इसके लिए सरसों का तेल ही इस्तेमाल करें।
इसे जरूर पढ़ें- कुकर नहीं कर रहा ठीक से काम तो ये हैक्स करेंगे मदद
5. कच्चा आम-
कच्चा आम जिसे कई लोग कैरी कहते हैं वो दाल बनाते समय काफी मददगार साबित हो सकता है। नॉर्थ इंडिया में कच्चा आम और साउथ इंडिया में इमली का इस्तेमाल करके दाल को खट्टा फ्लेवर दिया जाता है।
कैसे करें इसका इस्तेमाल?
आपको सिर्फ दाल उबालते समय कच्चे आम के कुछ पीस या फिर इमली को डाल देना है। बस आपका काम हो जाएगा।
इस तरह की दाल में बहुत ज्यादा मिर्च ना डालें वर्ना खट्टापन बिगड़ जाएगा।


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it