लाइफ स्टाइल

बच्चे को खिलाएं शकरकंद बढ़ेगी इम्यूनिटी और कब्ज की समस्या रहेगी दूर

Rani Sahu
12 Sep 2022 5:21 PM GMT
बच्चे को खिलाएं शकरकंद बढ़ेगी इम्यूनिटी और कब्ज की समस्या रहेगी दूर
x
शकरकंद खासतौर पर सर्दियों में मिलती व खाई जाती है। ये खाने में टेस्टी होने के साथ सेहत को दुरुस्त रखने में मदद करती है। लोग इसे चाट, सब्जी की तरह खाना पसंद करते हैं। मगर क्या आप जानते हैं कि शकरकंद छोटे बच्चों के लिए भी बेहद फायदेमंद होती है? जी हां, इसका सेवन करने से बच्चे को सभी जरूरी तत्व आसानी से मिल जाते हैं। इससे शिशु की इम्यूनिटी बूस्ट होने के साथ बीमारियों के लड़ने की शक्ति मिलती है। चलिए जानते हैं सर्दी दौरान बच्चों को शकरकंद खिलाने के फायदे...
इस उम्र में बच्चों को खिलाएं शकरकंद
शकरकंद पोषक तत्वों से भरपूर होने के साथ खाने में टेस्टी होती है। ये छोटे बच्चों की सेहत बरकरार रखने में भी फायदेमंद माना गया है। आप अपने छह महीने के बच्चे की डेली डाइट में इसे शामिल कर सकती है। मगर इस बात ध्यान रखें कि शकरकंद पूरी तरह से पकाया हुआ हो नरम हो। आप इसे उबालकर या भूनकर बच्चे को खिला सकती है। हां, अगर बच्चा इसे खाने में आनाकानी करें तो उसके साथ किसी भी तरह की जबरदस्ती ना करें।
शकरकंद में मौजूद पोषक तत्व
शकरकंद में कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, पोटैशियम, सोडियम, विटामिन ए, सी, ई, के, बी1. बी6, बी 9 आदि गुण होते हैं। ये सभी पोषक तत्व शिशु के बेहतर शारीरिक विकास में मददगार साबित होते हैं। चलिए जानते हैं बच्चे को शकरकंद खिलाने के फायदे...
आंखों के लिए फायदेमंद
शकरकंद में मौजूद बीटा-कैरोटीन शरीर में विटामिन-ए बनाने में मदद करता है। विटामिन ए आंखों को हेल्दी रखने व रोशनी बढ़ाने के लिए फायदेमंद माना जाता है। ऐसे में आप इसे बच्चे की डेली डाइट में जरूर शामिल करें।
मेटाबॉलिज्म बढ़ाने में मददगार
शकरकंद मेटाबॉलिज्म बढ़ाने में भी कारगर होती है। इसमें कई जरूरी तत्व व मिनरल्स पाए जाते हैं। ऐसे में इसका सेवन करने से मेटाबॉलिज्म बूस्ट होने में मदद मिलती है। इससे थकान, कमजोरी दूर होकर दिनभर एनर्जेटिक महसूस होता है।
शारीरिक विकास में मददगार
बच्चों के शारीरिक विकास के लिए उनकी डाइट हेल्दी होना बेहद जरूरी होता है। ऐसे में आप अपने शिशु के शकरकंद खिला सकते हैं। इसमें कई तरह के जरूरी विटामिन्स व मिनरल्स होते हैं, जो बच्चे के शारीरिक विकास में फायदेमंद होते हैं।
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta