लाइफ स्टाइल

बारिश के मौसम में पीरियड्स के दौरान महिलाओं को कुछ जरूरी सावधानी बरतनी चाहिए, हो सकता है इंफेक्शन

Ansh
25 July 2021 4:09 PM GMT
बारिश के मौसम में पीरियड्स के दौरान महिलाओं को कुछ जरूरी सावधानी बरतनी चाहिए, हो सकता है इंफेक्शन
x
मौसम में इंफेक्शन होने की संभावना आम दिनों से ज्यादा होती है. इसलिए जरा सी भी लापरवाही यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन और वेजाइनल इन्फेक्शन की वजह बन सकती है.

जनता से रिश्ता वेबडेस्क :- Tips To Avoid Infection During Periods: पीरियड्स (Menstruation) के दौरान महिलाओं को साफ-सफाई (cleanliness) का ख्याल रखना बेहद जरूरी होता है. बारिश के मौसम (rainy season) में तो और सावधानी बरतनी पड़ती है, क्योंकि इस मौसम में इंफेक्शन (Infection) होने की संभावना आम दिनों से ज्यादा होती है. इसलिए जरा सी भी लापरवाही यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (urinary tract infection) और वेजाइनल इन्फेक्शन (vaginal infection) की वजह बन सकती है.

हेल्थ एक्सपर्ट्स की मानें तो बारिश के मौसम में इंफेक्शन फैलाने वाले बैक्टीरिया (infection-causing bacteria) बढ़ जाते हैं. दूसरा, मौसम में नमी के कारण हमारे कपड़ों में सीलन आने लगती है. यही हाल हमारे अंडरगार्मेंट्स (Undergarments) का भी होता है. इसी वजह से इस मौसम में वजाइनल इंफेक्शन की समस्या (Vaginal infection problem) ज्यादा देखने को मिलती है. लिहाजा पीरियड्स के दौरान महिलाओं को कुछ जरूरी सावधानी (necessary precautions) बरतनी चाहिए.
महिलाये पीरियड्स के दौरान बरतें ये सावधानियां (Take these precautions during periods)
1. गीलेपन को कम करें
पीरियड की वजह से आपका प्राइवेट पार्ट पहले से ही काफी गीला रहता है. उस पर बारिश की वजह से मौसम में भी नमी बनी रहती है. ऐसे में जब महिलायें टॉयलेट जाने के बाद या पानी का इस्तेमाल करने के बाद भी उस एरिया को सुखाती नहीं हैं, तो इससे गीलापन और भी ज्यादा बढ़ जाता है, जो इंफेक्शन की वजह बन सकता है. इसलिए जब भी टॉयलेट जायें या पानी का इस्तेमाल करें तो उसके बाद पेपर नैपकिन यानी टिश्यू पेपर की मदद से पहले अपने प्राइवेट पार्ट को अच्छी तरह से सुखा लें फिर पैड का इस्तेमाल करें.
2. नैपकिन चेंज करते रहना चाहिए
कई महिलाएं लम्बे समय तक एक ही नैपकिन का इस्तेमाल करती रहती हैं, जो कि सही नहीं है. क्योंकि बारिश के दिनों में इससे इंफेक्शन का खतरा बना रहता है. इसलिए तीन-चार घंटो के अंतराल पर नैपकिन चेंज करते रहना ज़रूरी है.
3. साबुन का इस्तेमाल न करें
पीरियड के दौरान ज्यादातर महिलायें प्राइवेट पार्ट पर भी नार्मल सोप का ही इस्तेमाल करती हैं, जो कि सही नहीं है. इससे नेचुरल पीएच लेवल बिगड़ सकता है, जो सेहत के लिहाज से सही नहीं है. आज कल बाजार में कई सारे प्राइवेट पार्ट वॉश मौजूद हैं जिनका इस्तेमाल आपको इस दौरान करना चाहिए.
4. गर्म पानी से करें सफाई
पीरियड्स के दौरान रोज़ाना रात को सोने से पहले अपने प्राइवेट पार्ट को हल्के गर्म पानी से साफ ज़रूर करें. इसके बाद पेपर नैपकिन की मदद से उस हिस्से को अच्छी तरह सुखाने के बाद ही पैड का इस्तेमाल करें. इससे इंफेक्शन होने के चांस काफी कम हो जाते हैं.


Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta